हिंदु धर्म

धर्म की व्याख्या

समाजव्यवस्था उत्तम रखना, प्रत्येक प्राणी की ऐहिक और पारलौकिक उन्नति होना, ये बातें जिससे साध्य होती हैं, वह धर्म है’, ऐसी व्याख्या आदि शंकराचार्यजीने की है ।

‘धारणात् इत्याहु धर्मः’ अर्थात जो लोगों को धारण करता है, वह धर्म है, ऐसे भी धर्म की एक व्याख्या है । इसलिए धर्म सभी जडचेतन त्रिलोक को धारण करता है । जिस प्रकार दाहकता अग्नि का और शीतलता जल का धर्म है, वैसे ही गृहस्थधर्म, पत्नी धर्म, आदि भी प्रचलित हैं ।

अधिक वृत्त पढें…

हिंदु धर्म के संदर्भ में विस्तृत जानकारी

हिन्दू धर्म
हिन्‍दू धर्म सभी को जोडता है, तो ‘रेलीजन’ एक-दूसरे से संबंध तोडता...
हिन्दू किसे कहना चाहिए ?
धर्म और नीति
हिन्दुओ, हिन्दू धर्म की अद्वितीय विशेषताएं समझ लें !
वेदाध्ययन का अधिकार
धर्माचरण का महत्त्व
समाजव्यवस्था दीर्घकाल तक सुसंगठित रखने में सक्षम धर्मशास्त्र !
भारत श्रीयंत्रांकित राष्ट्र होने के कारण भारत को आध्यात्मिक दृष्टि से प्राप्त...
संत ज्ञानेश्‍वर की कालावधि में ‘सांपसीढी’ का खेल ‘मोक्षपट’ के रूप में...
हिंदुत्व एक सामर्थ्यशाली संस्कृती है : डेविड फ्रॉली, अमेरिकी वैदिक शिक्षक
११ हजार वर्ष प्राचीन है ‘स्वस्तिक’ चिन्ह – शोधकर्ताओंका निष्कर्ष
धर्मो रक्षति रक्षितः – धर्माचरण में है वर्तमान सभी समस्याआें का समाधान...
केरल के श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर में अर्पण किया जानेवाला तथा सहस्र वर्ष...
हिन्दू धर्म की रक्षा करना, प्रत्येक हिन्दू का पहला कर्तव्य है !

Click Here to read more …