युनाइटेड किंगडम के सश्रद्ध हिन्दू हैं, सर्वाधिक सुखी लोग !

विविध धर्मों के लोगों के विषय में विचार करने पर हिन्दू सर्वाधिक सुखी हैं । हिन्दुओं के पश्‍चात ईसाई, सिक्ख, बौद्ध,ज्यू एवं अंत में मुसलमान लोगों का क्रम आता है, नास्तिकों का क्रम सब से नीचे है !

रामायणकालीन संस्कृति की ऐतिहासिक धरोहर की उपेक्षा करना, एक हिन्दूद्वेषी कर्म !

रामायणकालीन संस्कृति की ऐतिहासिक धरोहर का महत्त्व जागतिक स्तर पर सिद्ध होने पर भी भारतीय राज्यकर्ताआें द्वारा उसकी उपेक्षा करना, एक हिन्दूद्वेषी कर्म !

क्या श्रीविष्णु के नौवें अवतार भगवान बुद्ध एवं बौद्ध धर्म संस्थापक गौतम बुद्ध में है भेद ?

श्रीविष्णु के नौवें अवतार, बौद्ध धर्म संस्थापक गौतम बुद्ध से भिन्न हैं । इसकी कारणमीमांसा आगे दी है ।

मुसलमान आक्रामकों से प्रतिशोध लेनेवाली वीर राजकन्याएं !

सहस्रों वर्ष जिस भूमि की ओर किसी ने टेढी आंख कर नहीं देखा, उस भूमि पर वर्ष ७११ में सिंध प्रांत में जो आक्रमण हुआ, वह महाभयंकर था । उस समय राजा दाहीर सिंध देश के अधिपति थे । लडाई में राजा मारे गए, शील की रक्षा हेतु उनकी महारानी जलती चिता में कूद गईं ।

नारी शक्ति विशेष ! हे हिन्दू नारी, धर्माचरण से है तुम्हारी पहचान ! अबला नहीं, तुम हो रणरागिणी !

हमारी बेटियां, माताएं और बहनें जब तक दुर्गा अथवा झांसी की रानी का रूप नहीं धारण करतीं, तब तक हमें ऐसा नहीं मानना चाहिए कि क्रांति सफल हुई ।

वैदिक परंपरा में नवसंवत्सरारंभ तथा उसका महत्त्व

आगे दी गर्इ जानकारी वैदिक परंपरा में नवसंवत्सरारंभ तथा उसका महत्त्व इस विषयपर किए गए संशोधन से प्राप्त हुर्इ है । यदि आपको इस विषय में कोर्इ भी शंका, प्रश्न तथा प्रतिक्रिया देनी है तो कृपया आगे दिए गए दूरभाष तथा इमेल पर संपर्क करें

Donating to Sanatan Sanstha’s extensive work for nation building & protection of Dharma will be considered as

“Satpatre daanam”