प्रखर हिन्दुत्वनिष्ठ सनातन संस्था को समाप्त करने हेतु सनातन पर प्रतिबंध का शोर मचाना, धर्मविरोधियों का षड्यंत्र है ! – श्री. चेतन राजहंस

महाराष्ट्र राज्य में कहीं भी किसी आधुनिकतावादी की हत्या हो जाए अथवा अन्य कोई हिन्दुत्ववादी किसी प्रकरण में पकडा (फंसाया) जाए, तत्काल किसी भी जांच की औपचारिकता पूरी किए बिना, हर प्रकरण में सीधे सनातन संस्था का नाम लिया जाता है ।…

श्री. वैभव राऊत सनातन के साधक नहीं; इसलिए आधुनिकतावादियों की सनातन पर प्रतिबंध की मांग अनुचित !

मालेगांव बम-विस्फोट प्रकरण में यदि हिन्दुत्वनिष्ठों के घर में एटीएस के अधिकारी आरडीएक्स रख सकते हैं, तो यही श्री. वैभव राऊत के साथ नहीं हुआ, ऐसे कोर्इ कह नहीं सकता । अभी तक उनके खिलाफ कोई भी सबूत नहीं मिला है, इसलिए अभी से उन्हें  दोषी मानना अनुचित होगा ।…

हिन्दुत्वनिष्ठ वैभव राऊत की गिरफ्तारी है ‘मालेगांव पार्ट 2’ !

श्री. वैभव राऊत एक साहसी गोरक्षक हैं और वे गोरक्षा करनेवाले संगठन हिन्दू गोवंश रक्षा समिति के माध्यम से सक्रिय थे ।

गौरी लंकेश हत्याकांड : हिन्दू आरोपियों को पीटकर अपराध स्वीकार करवाने से जांच पर ही प्रश्‍नचिन्ह ! – सनातन संस्था

पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के आरोप में कर्नाटक पुलिस के विशेष जांच दल ने अब तक कुछ हिन्दुआें को बंदी बनाया है । इस संदर्भ में निश्‍चित घटनाक्रम से हम अनभिज्ञ थे; परंतु आरोपियों की पिटाई के विषय में अब कर्नाटक उच्च न्यायालय ने ब्यौरा मंगवाया है, इसलिए इस प्रकरण में सत्य बाहर आ रहा है ।

प.पू. आसारामबापूजी को उच्च न्यायालय में न्याय मिलेगा, ऐसी हमारी श्रद्धा है ! – सनातन संस्था

इससे पहले भी अनेक लोगों को कनिष्ठ न्यायालय में मिला दंड, उच्च तथा सर्वोच्च न्यायालय ने निरस्त किया है । हमारी न्याय देवता पर श्रद्धा है और इस प्रकरण में उच्च न्यायालय में प.पू. आसारामबापूजी को न्याय मिलेगा, ऐसी आशा है ।

पत्र में ईसाई व्यक्ति ने दी सनातन संस्था के संस्थापक डॉ. आठवले जी की हत्या करने की धमकी; पुलिस में शिकायत दर्ज

सनातन संस्था के मुख्य कार्यालय फोंडा, गोवा स्थित सनातन के आश्रम में सनातन संस्था के प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस के नाम आज सवेरे एक धमकी भरा पत्र डाक से मिला । जेम्स अण्णामलाई नामक ईसाई व्यक्ति ने अपने सचल दूरभाष क्रमांक (मोबाइल नंबर) के साथ यह पत्र भेजा है ।

‘एस.आइ.टी’ के खुलासे के उपरांत गौरी लंकेश हत्या प्रकरण में सनातन संस्था को फंसाने का षड्यंत्र उजागर ! – श्री. चेतन राजहंस, प्रवक्ता, सनातन संस्था

विशेष जांच दल (एस.आइ.टी.)के प्रमुख पुलिस महानिरीक्षक बी.के. सिंह ने स्पष्ट किया कि गौरी लंकेश हत्या प्रकरण में सनातन संस्था का हाथ होने की जानकारी केवल प्रसिद्धि-माध्यमों में है । हमारे पास अभी तक किसी भी संस्था के विषय में कोई जानकारी नहीं है ।’

सनातन संस्था और हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों की कर्नाटक सरकार को सावधान करनेवाली चेतावनी !

सभी हत्याआें में समान कार्यपद्धति है, ऐसा कहनेवाली नक्सलवादियों से संबंधित संस्थाएं, कर्नाटक में गुप्त रूप से प्रवेश करना चाहती हैं । शासन को इन्हें रोकना चाहिए । ‘हम इस प्रकरण के सभी कागदपत्र कर्नाटक पुलिस को देने के लिए तैयार हैं’, ऐसा आवाहन भी इस समय सनातन संस्था के प्रवक्ता तथा अधिवक्ताआें ने किया ।

दाभोलकर की अंनिस के घोटालों पर मुख्यमंत्री क्या कार्यवाही करेंगे ?

डॉ. नरेंद्र दाभोलकर की महाराष्ट्र अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति ट्रस्ट के घोटाले देख विशेष लेखा परीक्षण (स्पेशल ऑडिट) किया जाए, ट्रस्ट पर लगे गंभीर आरोपों की जांच की जाएं, ऐसी अनेक कठोर टिप्पणियां सातारा के सार्वजनिक न्यास पंजीकरण कार्यालय के अधीक्षक ने जांच प्रतिवेदन में की है ।

कानून व मानवाधिकार का उल्लंघन करनेवाले पुलिस के ‘एसआइटी’ द्वारा सनातन का शोषण !

कॉ. पानसरे हत्या प्रकरण में महाराष्ट्र पुलिस का विशेष जांच दल(एसआइटी) झूठे प्रमाणों के आधार पर तथा कपोलकल्पित कहानियां रचकर सनातन संस्था की बदनामी कर रहा है ।

Donating to Sanatan Sanstha’s extensive work for nation building & protection of Dharma will be considered as

“Satpatre daanam”