रामनाथी, गोवा के सनातन आश्रम को घाटकोपर, मुंबई के संत पू. जोशीबाबा ने किए चरणस्पर्श !

३ मार्च को यहां के सनातन आश्रम को घाटकोपर, मुंबई के पू. जोशीबाबा (पू. पराशर जोशीबाबा) के चरणस्पर्श का लाभ हुआ । पू. जोशीबाबा को सनातन के साधक श्री. सागर निंबाळकर ने राष्ट्र एवं धर्म के संदर्भ में आश्रम में चल रहे कार्य की जानकारी दी ।

सनातन संस्था जो जागृति कर रही है, वह जागृति सभी में हो ! – प.पू. स्वामिनी मंगलानंदा, अकोला

यहां की अधिवक्ता श्रीमती वैशाली गावंडे के निवासस्थान पर ब्रह्मलीन प.पू. स्वामी चिन्मयानंदजी की शिष्या तथा आचार्या चिन्मय मिशन, अकोला की प.पू. स्वामिनी मंगलानंदा के श्रीमत्भगवद्गीता सप्ताह का आयोजन किया गया था ।

साध्वी सरस्वतीजी द्वारा सनातन संस्था की प्रशंसा

यहां साध्वी सरस्वतीजी द्वारा आयोजित श्रीमद्भागवत सत्संग प्रेम महोत्सव में हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक पू. डॉ. चारुदत्त पिंगळेजी ने उपस्थित भाविकों का मार्गदर्शन किया ।

आप के (सनातन के) ग्रंथ और सत्संग से लोग धर्माचरण करने लगेंगे । – मार्कंडेय आश्रम, आेंकारेश्‍वर के स्वामी प्रणवानंदजी महाराज

हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक पूज्य डॉ. चारुदत्त पिंगळेजी ने यहां नर्मदा तट पर स्थित मार्कंडेय आश्रम के प्रमुख स्वामी प्रणवानंदजी महाराज से भेंट की । इस समय पूज्य डॉ. पिंगळेजी ने तथा सनातन द्वारा प्रकाशित ग्रंथसंपदा से उन्हें अवगत कराया |

सनातन-प्रकाशित ग्रंथों के कारण लोग धर्माचरण निरंतर कर पाएंगे ! – स्वामी प्रणवानंदजी महाराज

हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक पू. चारुदत्त पिंगळेजी ने यहां के मार्कंडेय आश्रम के प्रमुख स्वामी प्रणवानंदजी महाराजजी से ४ जनवरी को नर्मदा तट पर स्थित मार्कंडेय आश्रम में भेंट की।

सनातन संस्था के लिए मेरे आशीर्वाद तो निरंतर ही रहेंगे ! – शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वती

६ दिसम्बर को प्रात: अधिवक्ता श्री. रवि शिराळकर के निवास पर सनातन संस्था के साधक तथा हिन्दू जनजागृति समिति के कार्यकर्ताओं ने शंकराचार्य स्वामी निश्चलानंद सरस्वतीजी का दर्शन लेकर आशीर्वाद लिये।

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के कार्य को नाथ संप्रदाय द्वारा सहायता !

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी का कार्य अवतारी ही है । कहते हैं कि अवतार जब कार्य के लिए जन्म लेता है, तब उसके कार्य में सहभागी होने के लिए उसके देवतागण भी जन्म लेते हैं । इसी की प्रतीति परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के हिन्दू राष्ट्र-स्थापना के अवतारी कार्य में साधकों को हो रही है ।

धर्मप्रसार का कार्य समाज के हर कोने-कोने तक पहुंचना आवश्यक ! – पू. ईश्‍वरबुवा रामदासी

जहां हिन्दुधर्मप्रसारक नहीं पहुंचता, वैसे दुर्गम स्थानोंपर ईसाई धर्मप्रसारक जाकर उनके धर्मप्रसार का कार्य करते हैं। हिन्दु धर्मप्रसारकों को अपने कार्य को उनकी भांति समाज के हर कोने-कोने तक पहुंचाना आवश्यक है।

हिन्दू संस्कृति के प्रसार हेतु सनातन संस्था प्रामाणिकता के साथ प्रयास कर रही है – श्री प्रकाशानंदजी महाराज, श्री रामकृष्ण विवेकानंद आश्रम, राणेबेन्नूरु, कर्नाटक

भगवान की कृपा सभी पर हो, यह प्रार्थना करता हूं। कर्नाटक के राणेबेन्नुरु के श्री रामकृष्ण विवेकानंद आश्रम के श्री प्रकाशानंदजी महाराज ने सनातन संस्था के लिए यह आशीर्वचन कहे।

Donating to Sanatan Sanstha’s extensive work for nation building & protection of Dharma will be considered as

“Satpatre daanam”