गुरुकृपायोग के अनुसार साधना

 

जीवनमें आनेवाले दुःखोंका धैर्यपूर्वक सामना करनेकी शक्ति एवं सर्वोच्च स्तरका निरंतर बना रहनेवाला आनंद केवल साधनासे ही प्राप्त होता है । साधना अर्थात् ईश्वरप्राप्ति हेतु किए जानेवाले प्रयास । ‘साधनानाम् अनेकता’ अर्थात् साधना अनेक प्रकारकी होती है । निश्चितरूपसे कौनसी साधना करनी चाहिए, इस संदर्भमें अनेक लोगोंके मनमें भ्रम उत्पन्न होता है । उसपर भी प्रत्येक पंथ एवं संप्रदाय कहता है कि, हमारी ही साधना सर्वश्रेष्ठ है । इससे उनका भ्रम और भी बढ जाता है । ऐसी स्थितिमें निश्चितरूपसे साधना कौनसे मार्गसे करनी चाहिए ?

कर्मयोग, भक्तियोग, ज्ञानयोग आदि किसी भी मार्गसे साधना करनेपर भी बिना गुरुकृपाके व्यक्तिको ईश्वरप्राप्ति होना असंभव है । इसीलिए कहा जाता है, ‘गुरुकृपा हि केवलं शिष्यपरममङ्गलम् ।’, अर्थात् ‘शिष्यका परममंगल अर्थात् मोक्षप्राप्ति, उसे केवल गुरुकृपासे ही हो सकती है ।’ गुरुकृपाके माध्यमसे ईश्वरप्राप्तिकी दिशामें मार्गक्रमण होनेको ही ‘गुरुकृपायोग’ कहते हैं । ‘गुरुकृपायोग’की विशेषता यह है कि, यह सभी साधनामार्गों को समाहित करनेवाला ईश्वरप्राप्तिका सरल मार्ग है ।

गुरुकृपायोग साधना मार्ग

गुरुकृपायोगानुसार साधना के दो प्रकार हैं – व्यष्टि एवं समष्टि साधना । व्यष्टि साधना अर्थात् व्यक्तिगत आध्यात्मिक उन्नति हेतु किए जानेवाले प्रयत्न । समष्टि साधना अर्थात् समाज की आध्यात्मिक उन्नति हेतु किए जानेवाले प्रयत्न ।

व्यष्टि साधना के ८ अंग आगे दिए अनुसार हैं ।

१. स्वभावदोष-निर्मूलन

२. अहं निर्मूलन

३. नामजप

४. सत्संग

५. सत्सेवा

  • सत्सेवा

    ‘एक बार बुद्धि से अध्यात्म का महत्त्व ध्यान में आया कि, ‘इस...

६. त्याग

७. प्रीति

८. भावजागृति

संबंधित ग्रंथ

 

शिष्य
शिष्य

 

गुरुकृपायोगानुसार साधना
गुरुकृपायोगानुसार साधना

 

गुरुका महत्त्व, प्रकार एवं गुरुमंत्र
गुरुका महत्त्व, प्रकार एवं गुरुमंत्र

 

संत भक्तराज महाराजको छायाचित्रात्मक श्रद्धांजलि
संत भक्तराज महाराजको छायाचित्रात्मक श्रद्धांजलि