होली एवं रंगपंचमी

त्यौहार, धार्मिक उत्सव एवं व्रत हिंदु धर्म का एक अविभाज्य अंग है । इनको मनानेके पीछे कुछ विशेष नैसर्गिक, सामाजिक, ऐतिहासिक एवं आध्यात्मिक कारण होते हैं तथा इन्हें उचित ढंगसे मनानेसे समाजके प्रत्येक व्यक्ति को अपने व्यक्तिगत एवं सामाजिक जीवन में अनेक लाभ होते हैं । इससे पूरे समाजकी आध्यात्मिक उन्नति होती है । इसीलिए त्यौहार, धार्मिक उत्सव एवं व्रत मनानेका शास्त्राधार समझ लेना अत्यधिक महत्त्वपूर्ण है.

Devata_namaskar_350

होली

रंगपंचमी

होली व्हिडीआे (19 -Videos)


संबंधित ग्रंथ

 

पूजासामग्रीका महत्त्व : खंड २
पूजासामग्रीका महत्त्व : खंड २
पारिवारिक धार्मिक व सामाजिक कृतियोंका आधारभूत अध्यात्मशास्त्र
पारिवारिक धार्मिक व सामाजिक कृतियोंका आधारभूत अध्यात्मशास्त्र
धर्मका आचरण एवं रक्षण
धर्मका आचरण एवं रक्षण
धर्म-परिवर्तनके दांवपेंचोंसे सावधान
धर्म-परिवर्तनके दांवपेंचोंसे सावधान[
साधु-सन्तों का महत्त्व एवं कार्य
साधु-सन्तों का महत्त्व एवं कार्य
पंचगव्योंसे उत्पाद बनाएं
पंचगव्योंसे उत्पाद बनाएं

Also available in : MarathiEnglish

Donating to Sanatan Sanstha’s extensive work for nation building & protection of Dharma will be considered as

“Satpatre daanam”