सनातन के प्रथम अंग्रेजी ‘ई-बुक’ का वाराणसी में लोकार्पण !

चैत्र नवरात्रि के पवित्र पर्वकाल में वाराणसी के ‘अखिल भारतीय धर्मसंघ शिक्षा मंडल’ के महामंत्री श्री. जगजीतन पांडे के शुभहस्तों से ‘इम्पॉर्टन्स ऑफ पर्सनैलिटी डिफेक्ट रिमूवल एंड इन्कलकेटिंग वर्च्यूज्’ इस सनातन के अंग्रेजी भाषा के ‘ई-बुक’ का लोकार्पण किया गया ।

तमिलनाडु का हिन्दी विरोध उचित है अथवा अनुचित ?

7 अप्रैल को संसदीय राजभाषा समिति की 37वीं बैठक में केंद्रीय गृहमंत्री श्री. अमित शाह ने ”हिन्दी अंग्रेजी का विकल्प हो सकती है और हिन्दी देश की आधिकारिक भाषा हो सकती है”, ऐसा वक्तव्य दिया था । तमिलनाडु में इस वक्तव्य का राजनीतिक विरोध हुआ । तमिलनाडु भाजपा ने भी श्री. शाह का यह वक्तव्य अमान्य घोषित किया ।

श्रीलंका पर छाया अन्नसंकट एवं भारत !

श्रीलंका ने भारत से अन्न आयात करने के लिए कर्ज की मांग की है । वह जैविक खेती के विषय में मार्गदर्शन भी मांगे, तो इसमें भारतीय किसान बंधु भी आनंद से सहभागी होंगे ।

क्या सचमुच समान नागरिकता कानून का पालन होगा ?

हिजाब बंदी के संदर्भ में न्यायालय का निर्णय आने के उपरांत सीधे परीक्षाओं का बहिष्कार करने का हिजाबी छात्राओं का उदाहरण ताजा है । इसलिए समान नागरिकता कानून लागू हुआ, तब भी सचमुच उसका पालन होगा अथवा नहीं, यह तो एक प्रश्‍न ही है !

सच में ‘हिजाब’ किसे चाहिऐ ?

शृंगार, नारी का प्राकृतिक कर्म है । वास्तव में, उसे नकार कर काले स्कार्फ में नारी को लपेटनेवालों की प्रवृत्ति के विरोध में नारीस्वतंत्रता अभियान होना चाहिए; परंतु यह आधुनिक नारीस्वतंत्रतावालों को कौन बताएगा ?

शरीर में गर्मी बढने पर उसके लिए शारीरिक एवं आध्यात्मिक स्तर पर करने योग्य विविध उपचार !

तुलसी के पत्ते गरम व बीज ठंडा होता है । गर्मी न्यून करने हेतु १ चम्मच तुलसी के बीज आधा कटोरा पानी में भिगोएं और सवेरे उसमें १ कटोरा गुनगुना दूध मिलाकर खाली पेट सेवन करें । ऐसा ७ दिन करें ।

सनातन संस्था द्वारा महिला दिन निमित्त व्याख्यान – ‘जागर स्त्रीशक्ति का !’

भारत को वीर, लडाकू क्रांतिकारी महिलाओं की बडी धरोहर मिली है । हमारी माता-भगिनियों का शौर्य जागृत होने के उपरांत ही वास्तविक रूप से महिला सबलीकरण हो सकता है । शौर्यजागरण के लिए और महिलाओं पर होनेवाले अत्याचारों को रोकने के लिए अब महिलाओं को स्वयं प्रशिक्षण लेकर स्वरक्षा के लिए सक्षम बनना चाहिए

रशिया-युक्रेन युद्ध और तिरंगे का मूल्य !

भारतीय संस्कृति ‘अर्थ’ इस कल्पना की अपेक्षा ‘जीवन’ इस संकल्पना को अधिक महत्त्व देती है । इसलिए भारत द्वारा दिखाई गई व्यावहारिकता संसार के सामने नया उदाहरण प्रस्तुत कर रही है । संपूर्ण संसार में भारतीय तिरंगे का बढा हुआ मूल्य अनुभव किया जा रहा है । भारतीय तिरंगा लगे हुए वाहन सुरक्षित युक्रेन से बाहर निकल रहे हैं ।

मानवजाती के लिए मार्गदर्शक एवं अध्यात्म के जिज्ञासुओं में लोकप्रिय होता सनातन संस्था का ‘Sanatan.org’ यह जालस्थल !

१.३.२०२२ को महाशिवरात्रि के दिन सनातन संस्था के जालस्थल की १०वीं वर्षगांठ है । इस अवसर पर जालस्थल के माध्यम से किए गए कार्यों की समीक्षा नीचे दी गई है ।

सुपर मार्केट और किराना दुकानों में वाइन विक्रय का निर्णय महाराष्ट्र की संस्कृति को कालिख पोतनेवाला !

महाराष्ट्र सरकार ने हाल ही निर्णय लिया है कि सुपर मार्केट और किराना दुकानों मेें वाइन का विक्रय कर सकते हैं । इस समाजघाती निर्णय की सनातन संस्था सार्वजनिक रूप से निंदा करती है ।