ग्रहणकाल में विद्यमान संधिकाल की गुरुपूर्णिमा के दिन गुरुपूजन के कार्यक्रम में उपस्थित होने से कष्ट न होकर लाभ ही होगा !

इस वर्ष गुरुपूर्णिमा के दिन अर्थात १६.७.२०१९ को आंशिक चंद्रग्रहण है । ग्रहणकाल में गुरुपूजन के कार्यक्रम में उपस्थित होने से कष्ट न होकर लाभ ही होगा ।

भारत में दिखाई देनेवाला आंशिक चंद्रग्रहण, उस अवधि में पालन करने आवश्यक नियम तथा मिलनेवाला फल !

‘भारत में १६.७.२०१९ (आषाढ पूर्णिमा) और १७.७.२०१९ ये दोनों दिनों को आंशिक चंद्रगहण है ।

गुरुपूर्णिमा के अवसर पर दान कीजिए !

संत तथा राष्ट्र व धर्म की रक्षा हेतु कार्य करनेवाली संस्था को दान करना, धर्मकार्य में अपना सहयोग देना है । ऐसा करने से ईश्वर की कृपा दृष्टि शीघ्र होने में सहायता मिलती है ।

गुरुपूर्णिमा के दिन अन्य दिनों की अपेक्षा एक सहस्र गुना अधिक कार्यरत गुरुतत्त्व का लाभ उठाएं !

सनातन संस्था ने आवाहन किया है कि गुरुपूर्णिमा महोत्सव में सम्मिलित होकर गुरुपूर्णिमा के दिन अन्य दिनों की अपेक्षा एक सहस्र गुना अधिक कार्यरत गुरुतत्त्व का लाभ उठाने के लिए सर्व राष्ट्र और धर्म प्रेमी हिन्दू सपरिवार उपस्थित रहें । 

वर्ष २०१९ में आनेवाले गुरुपुष्यामृत योग की विशेषताएं !

गुरुवार के दिन पुष्य नक्षत्र आनेपर गुरुपुष्यामृत योग होता है । इस दिन सोना खरीदना और मंगलकार्य करने की परंपरा है ।

सनातन संस्थापर प्रतिबंध लगाने का कोई भी प्रस्ताव नहीं !

केंद्र सरकार के स्तरपर देखा जाए, तो सनातन संस्थापर प्रतिबंध लगाने का कोई प्रस्ताव हमारे पास नहीं आया है । २५ जून को केंद्रीय गृहराज्यमंत्री किशन रेड्डी ने एम्आईएम् सांसद असदुद्दीन ओवैसी द्वारा पूछे गए लिखित प्रश्नपर लोकसभा में यह उत्तर दिया ।

राजनीतिक दल की स्थापना कर सत्ता प्राप्त करने के संदर्भ में सनातन संस्था का दृष्टिकोन

सनातन संस्था का प्रतिदिन बढता जा रहा कार्य तथा उसे समाज द्वारा प्राप्त प्रत्युत्तर को देखते हुए अनेक हितचिंतक और हिन्दुत्वनिष्ठों द्वारा अब सनातन संस्था को राजनीतिक दल की स्थापना कर हिन्दू समाज की अपेक्षाएं पूर्ण करनी चाहिए, यह अपेक्षा व्यक्त की जाती है ।

अधिवक्ता संजीव पुनाळेकर एवं श्री. विक्रम भावे की मुक्तता हेतु आजाद प्रांगण (मुंबई) में चलाए गए आंदोलन का उत्स्फूर्त प्रत्युत्तर !

अधिवक्ता संजीव पुनाळेकर को बंदी बनाना केवल बंदी नहीं, अपितु एक बडा षड्यंत्र है । सनातन धर्म तथा हिन्दू राष्ट्र हेतु संघर्षरत राष्ट्रभक्तों का दमन किया जा रहा है ।

जम्मू के ज्योतिष विशारद डॉ. शिवप्रसाद रैना गुरुजी द्वारा परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के संदर्भ में व्यक्त गौरवोद्गार !

ज्योतिष विशारद डॉ. शिवप्रसाद रैना गुरुजी ने परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी को कभी नहीं देखा है; परंतु तब भी उन्होंने बताया, ‘‘परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी एक बडे संत हैं । उनके शरीर की रक्षा महत्त्वपूर्ण है । गुरुदेवजी के स्वास्थ्य में सुधार आने से राष्ट्र की स्थिति में भी सुधार आएगा !

कुंभपर्व में वंदनीय उपस्थित परमहंस धाम, वृंदावन के महामंडलेश्‍वर भैया दासजी महाराज के मन में सनातन संस्था के प्रति विद्यमान विश्‍वास !

कुंभपर्व में वंदनीय उपस्थित परमहंस धाम, वृंदावन के महामंडलेश्वर भैया दासजी महाराज ने कहा, ‘‘प्रत्येक कुंभपर्व के पश्चात मुझपर ऋण हो जाता है; किंतु इस कुंभ में पहली बार ही मुझपर किसी प्रकार का ऋण नहीं हुआ है ।