‘ऑनलाइन’ गुरुपूर्णिमा महोत्‍सव

गुरुपूर्णिमा पर १,००० गुना सक्रिय रहनेवाले गुरुतत्त्व का लाभ सभी को मिले, इसलिए ‘ऑनलाइन’ गुरुपूर्णिमा महोत्‍सव का आयोजन कर रहे हैं । ‘ऑनलाइन’ गुरुपूर्णिमा महोत्‍सव हिन्‍दी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी, कन्‍नड, तमिल, तेलुगु, मलयालम, बांग्‍ला, पंजाबी, ओडिया इन ११ भाषाओं में है । आपकी भाषा की ‘लिंक’ पर भेंट देकर गुरुपूर्णिमा महोत्‍सव में सहभाग ले । 

भाषा दिनांक समय Website Link Youtube Link
हिंदी २४ जुलाई २०२१ सायं ६:३० से ८:१५ www.sanatan.org/hindi youtube.com/sanatansanstha
मराठी २३ जुलाई २०२१  सायं ७ से ८:४५ www.sanatan.org/mr youtube.com/sanatansanstha
कन्नड २३ जुलाई २०२१ सायं ५:३० से ७:१५ www.sanatan.org/kannada youtube.com/hjskarnataka
मल्याळम् २३ जुलाई २०२१ सायं ७ से ८:४५ www.sanatan.org/malayalam youtube.com/hjskeralam
गुजराती २३ जुलाई २०२१ सायं ७ से ८:४५ www.sanatan.org/gujarati youtube.com/hjsuttarbharat
अंग्रेजी २४ जुलाई २०२१ सायं ७ से ८:४५ www.sanatan.org/en youtube.com/Dharmashikshan
तेलुगु २४ जुलाई २०२१ सायं ६:३० से ८:१५ www.sanatan.org/telugu youtube.com/TeluguHJS1
तमिळ २४ जुलाई २०२१ सायं ७ से ८:४५ www.sanatan.org/tamil youtube.com/HJSTamil
बांग्ला २४ जुलाई २०२१ सायं ७ से ८:४५ www.sanatan.org/bengali youtube.com/hjsnortheastbharat
ओडिया २४ जुलाई २०२१ सायं ७ से ८:४५ www.sanatan.org/odia youtube.com/HJSOdisha
पंजाबी २४ जुलाई २०२१ सायं ६:३० से ८:१५ www.sanatan.org/punjabi youtube.com/hjsuttarbharat

Videos

गुरुपौर्णिमा के दिन गुरु चरणों में कृतज्ञता व्यक्त करें ।

गुरुपूर्णिमाका
अध्यात्मशास्त्रीय महत्त्व
गुरुपूर्णिमाके दिन गुरुतत्त्व
१ सहस्त्र गुना कार्यरत रहता है
परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवलेजी
का संदेश
गुरुपूर्णिमा के उपलक्ष्य में धर्मकार्य हेतु
धन अर्पित कर गुरुतत्त्व का लाभ उठाएं !

विश्वको सनातन धर्मकी एक अनमोल देन है ‘गुरु-शिष्य परंपरा’ !

जीवन में गुरुका अनन्यसाधारण महत्त्व !
शिष्य में कौन-से गुण होने आवश्यक हैं ?
शिष्यभाव का महत्त्व
शंकाओं का निरसन

अधिक वृत्त पढें …