कुमकुम अथवा गंध लगाने की कुछ पद्धतियां एवं उनका आध्यात्मिक महत्त्व

अधिकांश हिन्दू स्त्रियां एवं कुछ पुरुष माथे पर कुमकुम अथवा गंध लगाते हैं । उनकी लगाने की पद्धति प्रांत अथवा संप्रदाय अनुसार भिन्न होती है । स्त्रियों एवं पुरुषों का माथे पर कुमकुम अथवा गंध लगाने का आध्यात्मिक महत्त्व आगे दिएनुसार है ।

नि:शुल्क; परंतु बहुमूल्य आयुर्वेदीय औषधियां : सेमल के फूल एवं मक्के के भुट्टे के केश (बाल)

पुणे के श्री. अरविंद जोशी नामक एक सद्गृहस्थ हैं जो विविध भारतीय उपचारपद्धतियों का अभ्यास करनेवाले हैं । उन्होंने अपनी शोध वृत्ति से इन फूलों का औषधीय गुणधर्म ढूंढा और अनेकों को उससे लाभ हुआ । उनके पास इसके अनेक उदाहरण हैं । उनका एक लेख पढकर मैंने भी कुछ रोगियों को ये फूल दिए, तो ध्यान में आया कि उन्हें भी बहुत लाभ हुआ है ।

विवाह निश्चित करते समय वधू-वर की जन्मकुंडलियों के मिलान का महत्त्व

हिन्दू धर्म में धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष, ये चार पुरुषार्थ बताए गए हैं । इनमें ‘काम’ पुरुषार्थ साध्य कर, धीरे-धीरे ‘मोक्ष’ पुरुषार्थ की ओर जाना संभव हो, इसके लिए विवाहसंस्कार की व्यवस्था की गई है । स्त्री-पुरुष के जीवन के अनेक महत्त्वपूर्ण विषय विवाह से संबंधित होते हैं

आपातकालीन परिस्थिति उत्पन्न होने पर मानसिक समस्याओं पर कुछ उपाययोजना

मन अस्थिर होना, तनाव आना, चिंता लगना, भय लगना, परिस्थिति न स्वीकार पाना इत्यादि कष्ट होते हैं । अनेक लोगों को भविष्यकाल में संभाव्य आपत्तियों की कल्पना से भी ऊपर दिए गए कष्ट होते हैं । इसके साथ ही सगे-संबंधियों में भावनिकदृष्टि से अटकना होता है

रामनाथी (गोवा) सनातन आश्रम के ध्यानमंदिर में अनेक देवी-देवता होने का विश्लेश्ण

सनातन के आश्रम में २५० से अधिक साधक साधना कर रहे हैं । जितने व्यक्ति, उतनी प्रकृति, उतने साधनामार्ग इस साधना के अन्य एक मूलभूत तत्त्व के अनुसार आश्रम में साधना कर रहे अनेक साधकों में से प्रत्येक के उपास्यदेवता अलग-अलग हो सकते हैं ।

दंगलसदृश भीषण परिस्थिति का सामना करना संभव हो, इस उद्देश्य से स्वयंसूचना देकर अपना मनोबल बढाएं !

ऐसे समय पर सर्वत्र विध्वंस होना, आग लगना, गली-गली मृतदेहें पडी होना, ऐसी स्थिति सर्वत्र दिखाई देती है । ऐसी घटना देखकर अथवा सुनकर अनेकों का मन अस्थिर होना, तनाव आना, चिंता लगना, भय लगना, परिस्थिति न स्वीकार पाना इत्यादि कष्ट होते हैं ।

सनातन का ‘घर-घर रोपण’ अभियान

आजकल बाजार में मिलनेवाले हरी सब्जियां, फल इत्यादि पर हानिकारक रसायनों के फव्वारे किए जाते हैं । ऐसी सब्जियां एवं फल खाने से प्रतिदिन विषैले पदार्थ हमारे पेट में जाते हैं । इससे रोग होते हैं । साधना के लिए शरीर स्वस्थ रखना आवश्यक है ।

ब्रह्मतेज की धधकती ज्वाला शांत हुई ! – सनातन संस्था

छत्रपति शिवाजी महाराज की चरित्रगाथा अस्खलित शैली में लेखन और वक्तृत्व द्वारा प्रस्तुत करनेवाले शिवशाहीर बाबासाहेब पुरंदरे के निधन के कारण ब्रह्मतेज की धधकती ज्वाला शांत हुई है ।

रशिया और युक्रेन के बीच युद्ध की संभावना

रशिया और युक्रेन के बीच युद्ध की संभावना व्यक्त की जा रही है । रशिया ने युक्रेन की सीमा पर बडे पैमाने पर टैंक, तोपें, युद्ध में प्रयोग किए जाने वाले वाहन और सैनिक तैनात किए हैं ।