हिन्दुओ, राजनैतिक नहीं, अपितु धर्मसंस्थापना की विजय हेतु सीमोल्लंघन करें !

‘विजयादशमी का त्योहार शत्रु के राज्य में जाकर विजय हेतु सीमोल्लंघन करने की सनातन परंपरा बतानेवाला त्योहार है । यह दिन महिषासुर का वध करनेवाली श्री दुर्गादेवी और कौरवों का अकेले पराभव करनेवाले अज्ञातवासी अर्जुन का संस्मरण करने का दिन है । वर्तमान में विजयादशमी के दिन सीमोल्लंघन कर्मकांड के रूप में किया जाता है … Read more

भारत को पुनः ‘विश्वगुरु’ बनाने हेतु ‘हिन्दू राष्ट्र’ स्थापित करें !

गुरुपूर्णिमा निमित्त परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवलेजी का संदेश ‘गुरुपूर्णिमा अर्थात गुरुतत्त्व के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का दिन ! सनातन धर्म की ज्ञानपरंपरा गुरु-शिष्य परंपरा के माध्यम से ही प्रवाही है । इसी परंपरा ने भारत को ‘विश्‍वगुरु’ बनाया है । भारत के अध्यात्मविश्‍व में आज भी महान गुरु-शिष्य परंपरा कार्यरत है । आज … Read more

‘हिन्दु’ इस नाम से परिचय देते समय मुझे अभिमान प्रतीत होता है !

पाश्चात्त्य सिद्धांतों के अनुसार पाश्चात्त्य मनुष्य स्वयं के संबंध में कहते समय प्रथम अपने शरीर को प्राधान्य देता है तथा तत्पश्चात् आत्मा को । अपने सिद्धांतों के अनुसार मनुष्य प्रथम आत्मा है तथा तत्पश्चात् उसे एक देह भी है । इन दो सिद्धांतों का परीक्षण करने के पश्चात् आप के ध्यान में यह बात आएगी … Read more

वैराग्य किसे कहते हैं ?

सेवा करते समय व्यक्ति की अपेक्षा तत्त्व की ओर ध्यान देना, ही वैराग्य है । व्यक्तिनिष्ठता का त्याग कर तत्त्वनिष्ठता का पालन करना, अर्थात् वैराग्य अपने में अंकित करना । प्रत्येक बात में ईश्वर को देखना, ही वास्तव में वैराग्य है !

चाहे किसी भी पक्ष की सरकार हो, परंतु देवस्थान समिति भक्तों की ही होनी चाहिए !

शासन करनेवाले पक्ष के बदलने पर शासकीय समितियों पर नियुक्त पराभूत पक्षों के पदाधिकारियों के पदों पर सत्ताधारी पक्ष के नेताओं को नियुक्त किया जाता है । शासकीय समितियों में कुछ सरकारीकरण किए गए देवस्थानों के न्यासी समितियों का भी समावेश होता है । सत्ताधारी पक्ष के समान देवस्थान समितियों के पदाधिकारी भी बदलते हैं … Read more

हिन्दुओ, संतों के पास जानेके पश्चात आभार नहीं, अपितु कृतज्ञता व्यक्त करें !

‘कुछ हिन्दू लोग संतों के पास जाने के पश्चात अथवा संतोें के मार्गदर्शन के पश्चात उनके प्रति आभार व्यक्त करते हैं । किसी व्यावहारिक कार्य संपन्न होने के पश्चात उसे सहायता करनेवाले के प्रति औपचारिकता के रूप में आभार व्यक्त किए जाते हैं । इसके विरुद्ध जन्म-मृत्यु के चक्र से मुक्त होने के लिए संतों … Read more

आध्यात्मिक बल के बिना कोई व्यक्ति अथवा संस्था, ‘हिन्दू राष्ट्र’ की स्थापना नहीं कर सकता !

जिस प्रकार, ‘पेट्रोल अथवा डीजल के बिना गाडी नहीं चलती, उसी प्रकार आध्यात्मिक बल के बिना कोई व्यक्ति अथवा संस्था, ‘हिन्दू राष्ट्र’ की स्थापना नहीं कर सकता ! इसलिए, साधना करें !’

राष्ट्रप्रेमियो एवं धर्मप्रेमियो, ‘हिन्दू राष्ट्र’ स्थापित करने हेतु प्रतिदिन भावपूर्ण सेवा करने से ही हिन्दू राष्ट्र स्थापित होगा

‘अधिकांश राष्ट्र एवं धर्मप्रेमी कोई अवसर आने पर ही कार्य करते हैं, उदा. गोरक्षकों को गाय के कत्तलखाने में जाने के संदर्भ में ज्ञात होते ही वे कार्यरत होते हैं । अयोध्या में राममंदिर, गंगाप्रदूषण इत्यादि के संदर्भ में कार्य करनेवाले कभी कभार कार्य करते हैं । यदि ‘हिन्दू राष्ट्र’ स्थापित करने का ध्येय साध्य … Read more

कौन सा जप करना चाहिए ?

‘व्यष्टि साधना के लिए कुलदेवता का(अर्थात कुलदेव एवं कुलदेवी दोनों ही रहने पर कुलदेवी का एवं उन में एक रहने पर देवी अथवा देवता का), वह भी ज्ञात न रहने पर ‘श्री कुलदेवतायै नमः ।’, ऐसा नामजप करें । गुरुमंत्र मिला, तो उसका नामजप करें । समष्टि के लिए अर्थात ‘हिन्दू राष्ट्र’ स्थापित करने हेतु … Read more

Donating to Sanatan Sanstha’s extensive work for nation building & protection of Dharma will be considered as

“Satpatre daanam”