सोमयाग के परिणामस्वरूप वृष्टि गर्भधारणा होने के संकेत देनेवाले पश्‍चिम क्षितिज पर दिखाई दिए सिंदूरिया मेघ !

महाराष्ट्र के परळी वैजनाथ, में संपन्न सोमयाग के परिणामस्वरूप वृष्टि गर्भधारणा होने के संकेत देनेवाले पश्‍चिम क्षितिज पर दिखाई दिए सिंदूरिया मेघ ! सोमयाग, ऋषिमुनियों द्वारा मानवकल्याण हेतु दिया अद्भुत विज्ञान !     महाराष्ट्र के सोलापुर जनपद के बार्शी ग्राम में अश्‍वमेधयाजी प.पू. नारायण (नाना) काळेगुरुजी श्री योगीराज वेद विज्ञान आश्रम द्वारा वेदाध्यापन कर यज्ञशिक्षा … Read more

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के देह से बचपन में प्रक्षेपित होनेवाली चैतन्य की अनुभूति

पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैं, इस उक्ति के अनुसार अवतारी देह में से बचपन से ही चैतन्य का प्रक्षेपण हो रहा है ।

श्रीकृष्णतत्वसे संबंधित रंगोलीकी विशेषताएं एवं पूजाविधिमें अंतर्भूत कृत्योंका शास्त्राधार

त्यौहारके दिन वातावरणमें त्यौहारसे संबंधित विशिष्ट देवताका तत्त्व कार्यरत रहता है । विशिष्ट देवता तत्त्वको आकृष्ट करने हेतु विशिष्ट प्रकारकी रंगोली बनानेसे लाभ होता है ।

श्री हनुमान तत्त्वको आकृष्ट करनेवाली रंगोली

श्रीहनुमान के मारक तत्त्वको आकृष्ट करनेवाली रंगोली मध्यबिंदू से अष्टदिशांमें प्रत्येकी ५ बिंदू श्रीहनुमान के तारक तत्त्वको आकृष्ट करनेवाली रंगोली मध्यबिंदू से अष्टदिशांमें प्रत्येकी ४ बिंदू