साक्षात् श्रीवामनावतार द्वारा स्थापित किए गए अदासा (जि. नागपुर) में शमी विघ्नेश्‍वर की श्री गणेशमूर्ति !

श्री गणेश क्षेत्रों में से अति प्राचीन विदर्भ की अदोष क्षेत्र में साक्षात् श्रीवामनावतार ने उपासना की थी । ऐसे इस परमपवित्र स्थान पर वामन द्वारा स्थापित (१) शमी विघ्नेश्‍वर की विलोभनीय मूर्ति और (२) श्री गणपति मंदिर

वसिष्ठऋषि द्वारा स्थापित केळझर (जिला वर्धा) में वरद विनायक श्री गणेशमूर्ति !

वर्धा जिले के केळझर में वरद विनायक श्री गणपति का मंदिर है, जिसकी कीर्ति दूर-दूर तक फैली है । केळझर, नागपुर से ५२ किमी की दूरी पर है । यह पहाडी की गोद में बसा रमणीय स्थल है । वसिष्ठपुराण और महाभारत में इस मंदिर की महिमा का वर्णन है ।

प्रभु श्रीरामचंद्र के अस्तित्व से पावन हुए रामटेक (जिला नागपुर) क्षेत्र में स्थित प्राचीन अष्टदशभुज श्री गणेशमूर्ति !

प्रभु श्रीरामचंद्रजी के चरणस्पर्श से पावन हुआ नागपुर जिले का रामटेक पवित्र तीर्थक्षेत्र ! शैैवल्य पर्वत बने इस गढ की तलहटी पर अठारह भुजाआेंवाले श्रीगणेश का स्थान है ।

महाल, नागपुर का जागृत श्री गणपति मंदिर !

नागपुर के महाल क्षेत्र में श्री गणपति का प्रसिद्ध और जागृत मंदिर है । नागपुर के प्रसिद्ध संगीतकार श्री. मधुसूदन ताम्हणकर के घर में यह मंदिर है ।

नागपुर का २५० वर्षों से भी अधिक प्राचीन और विदर्भ के अष्ट गणेशों में से एक टेकडी के स्वयंभू गणपति !

नागपुर शहर में मध्यवर्ती स्थित सिताबर्डी नामक टेकडी (पहाडी) पर यह मंदिर स्थित है । मंदिर के वृक्ष की विशाल जड के समीप स्थित गणेशमूर्ति ही टेकडी के गणपति हैं !

हिन्दू धर्म की श्रेष्ठता दर्शानेवाली पद्मालय (जिला जलगांव) की अति प्राचीन बाईं और दाईं सूंड की स्वयंभू श्री गणेशमूर्ति !

जलगांव जिले की एरंडोल तहसील ! तहसील में निसर्गरम्य परिसर में पद्मालय नामक इस पवित्र क्षेत्र का श्री गणेशमंदिर सुप्रसिद्ध है । इस मंदिर की मूर्ति १०० से भी अधिक वर्षों पूर्व मंदिर के निकट स्थित जलकुंड में मिली ।

आव्हाणे बुद्रूक (जिला नगर) की निद्रावस्था में दक्षिणोत्तर श्री गणेशमूर्ति !

नगर जिले के पाथर्डी गांव से १७ किलोमीटर के अंतर पर आव्हाणे बुद्रूक नामक गांव है । अवनी नदी के तट पर बसे इस गांव का श्री गणेशमंदिर प्रसिद्ध है ।

थेऊर (जिला पुणे) के श्री गणेशभक्त मोरया गोसावी की उपासना का स्थान !

१४ वीं शताब्दी के महान गणेश भक्त मोरया गोसावी, भगवान गणेशजी की उत्कट भक्ति के लिए प्रसिद्ध हैं । उन्होंने पुणे जिले के मोरगांव में गणेश की भक्ति की ।