सोंठ डालकर उबाले हुए पानी में खमीर उठने पर उसका उपयोग न करें !

वर्षाकाल में, सर्दियों के दिनों में, इसके साथ ही वसंत ऋतु में (सर्दियों एवं गर्मियों के बीच के काल में) सोंठ का पानी पीने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है । सोंठ का पानी बनाने के लिए लोटे भर पानी में एक पाव चम्मच सोंठ की चूर्ण डालकर पानी उबालें और छान लें । प्यास लगने … Read more

तीखा न खाने पर भी कुछ लोगों को पित्त का कष्ट क्यों होता है ?

‘अपने जठर में पाचक स्राव का रिसाव होता रहता है । इस पाचक स्राव के अन्ननलिका में आने पर, पित्त का कष्ट होता है । खट्टा, नमकीन, तीखा और तैलीय पदार्थ खाने से पित्त बढता है; परंतु ऐसा कुछ न खाते हुए भी कुछ लोगों को गले में और छाती में जलन होती है, अर्थात … Read more

शरीर निरोगी रहने के लिए अयोग्य समय पर खाना टालें !

क्या आयुर्वेद में चटपटा एवं स्वादिष्ट खाना मना है ? इसका उत्तर है नहीं ! इसके विपरीत रुचि लेकर खाने से संतोष होता है ।

साधना अच्छी होने के लिए आयुर्वेद के अनुसार अभ्यास करने की आवश्यकता

मनुष्यजन्म बहुत पुण्य से मिलता है । साधना कर ईश्वरप्राप्ति करने में ही मनुष्यजन्म की सार्थकता है । शरीर निरोगी होगा, तो साधना करना सरल हो जाता है ।

अग्निहोत्र का साधना की दृष्टि से महत्त्व

इस लेख में हम अग्निहोत्र का साधना की दृष्टि से महत्त्व, अग्नि का महत्त्व, अग्निहोत्र की व्याख्या, अग्निहोत्र के प्रवर्तक, अग्निहोत्र का महत्त्व एवं अग्निहोत्र के लाभ संबंधी जानकारी देखेंगे ।

अणुयुद्ध के कारण होनेवाले प्रदूषण से रक्षा होने के लिए किए जानेवाले उपाय : अग्निहोत्र

अग्निहोत्र के परिणाम स्वरूप भौतिकरीति से वायु की शुद्धि होने से मानवी मन की शुद्धि होती है । मन शुद्ध होने पर अपनेआप ही उसका विचार-आचार पर प्रभाव पडता है और अंतिमत: मनुष्य आनंदी होता है ।

विषमुक्त अन्न के लिए घर के घर ही में हरे शाक-तरकारी का रोपण करें !

घर के घर ही में प्राकृतिक पद्धति से हरे शाक-तरकारी का रोपण कर न्यूनतम (कम से कम) अपने कुटुंब के लिए तो विषमुक्त अन्न उगाना हमारे लिए सहज संभव है । तो चलिए ! सनातन के घर-घर रोपण अभियान में सहभागी होकर विषमुक्त अन्न का संकल्प करेंगे !

प्राकृतिक खेती के विषय में अपप्रचार का खंडन

उसे रुग्णालय में दाखिल करना पडा । तब आचार्य देवव्रत ने विषैली खेती के पर्याय के रूप में प्राकृतिक खेती कर देखना निश्चित किया ।