कुमकुम अथवा गंध लगाने की कुछ पद्धतियां एवं उनका आध्यात्मिक महत्त्व

अधिकांश हिन्दू स्त्रियां एवं कुछ पुरुष माथे पर कुमकुम अथवा गंध लगाते हैं । उनकी लगाने की पद्धति प्रांत अथवा संप्रदाय अनुसार भिन्न होती है । स्त्रियों एवं पुरुषों का माथे पर कुमकुम अथवा गंध लगाने का आध्यात्मिक महत्त्व आगे दिएनुसार है ।

विवाह निश्चित करते समय वधू-वर की जन्मकुंडलियों के मिलान का महत्त्व

हिन्दू धर्म में धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष, ये चार पुरुषार्थ बताए गए हैं । इनमें ‘काम’ पुरुषार्थ साध्य कर, धीरे-धीरे ‘मोक्ष’ पुरुषार्थ की ओर जाना संभव हो, इसके लिए विवाहसंस्कार की व्यवस्था की गई है । स्त्री-पुरुष के जीवन के अनेक महत्त्वपूर्ण विषय विवाह से संबंधित होते हैं

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी का विजयादशमी निमित्त संदेश

हिन्दुओं की विजय होने हेतु अपराजिता देवी का भावपूर्ण पूजन करें ! इस वर्ष विजयादशमी को खरा सीमोल्लंघन करने का आरंभ अर्थात अपने क्षेत्र की संदेहास्पद आतंकवादी गतिविधियों की जानकारी पुलिस-प्रशासन को दें !

श्रावण मास की जानकारी

१. नागपंचमी तिथि श्रावण शुक्ल पक्ष पंचमी इतिहास सर्पयज्ञ करनेवाले जनमेजय राजाको आस्तिक नामक ऋषिने प्रसन्न कर लिया था । जनमेजयने जब उनसे वर मांगनेके लिए कहा, तो उन्होंने सर्पयज्ञ रोकनेका वर मांगा एवं जिस दिन जनमेजयने सर्पयज्ञ रोका, उस दिन पंचमी थी । नागकी महिमा १. ‘शेषनाग अपने फन पर पृथ्वी को धारण करते … Read more

गुरुपूर्णिमा निमित्त परात्पर गुरु डॉ. जयंत आठवलेजी का संदेश (2021)

धर्मनिष्ठ हिन्दुओ, इस गुरुपूर्णिमा से धर्मसंस्थापना के लिए अर्थात धर्माधिष्ठित हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के लिए सर्वस्व का त्याग करने की तैयारी करें और ऐसा त्याग करने से गुरुतत्त्व को अपेक्षित आध्यात्मिक उन्नति होगी, इसकी निश्‍चिति रखें !

विपरीत आहार के प्रकार

कुछ व्‍यक्‍तियों के लिए देश, काल, अग्नि, प्रकृति, दोष, आयु इत्यादि का विचार करने पर कुछ अन्नपदार्थ हानिकारक सिद्ध होते हैं । ऐसे खाद्य पदार्थ विपरीत आहार में समाविष्‍ट होते हैं ।

नवसंवत्‍सर निमित्त संदेश

‘चैत्र-प्रतिपदा (गुडीपडवा) पृथ्वी पर युग के आरंभ का दिन है ! साढे तीन मुहूर्तों में एक, आज के दिन, नए कार्य का शुभारंभ किया जाता है । वर्तमान में, भारत में, धर्मनिरपेक्ष राज्य होने के कारण हमें सर्वत्र धर्मग्लानि का अनुभव हो रहा है ।

ब्रह्मध्वजा पर रखे जानेवाले तांबे के कलश का महत्त्व !

आजकल ऐसा देखने को मिलता है कि कुछ लोग ब्रह्मध्‍वजा पर स्‍टील या तांबे का लोटा अथवा घडे के आकारवाला बरतन रखते हैं । धर्मशास्‍त्र के अनुसार ‘ब्रह्मध्‍वजा पर तांबे का कलश उल्‍टा रखने का अध्‍यात्‍मशास्‍त्रीय विवेचन यहां दे रहे हैं । इससे हमारी संस्‍कृति का महत्त्व तथा प्रत्‍येक कृत्‍य धर्मशास्‍त्र के अनुसार करने का महत्त्व समझ में आता है !

आपातकाल में महाशिवरात्रि कैसे मनाएं ?

‘संपूर्ण देश में महाशिवरात्रि बडे उत्‍साह से मनाई जाती है । फाल्‍गुन कृष्‍ण पक्ष चतुर्दशी को शिवजी का व्रत महाशिवरात्रि करते हैं । (इस वर्ष ११ मार्च २०२१ को महाशिवरात्रि है ।) उपवास, पूजा और जागरण महाशिवरात्रि व्रत के ३ अंग हैं ।

पानी की शक्ति पहचानकर उसका पूर्ण उपयोग करें !

हमारे तीर्थक्षेत्र अथवा नदियों के कुंड अथवा देवालय में दिया जानेवाला तीर्थ अथवा भोजन से पूर्व पानी से ५ बार ली जानेवाली अपोष्णी आदि सब कुछ हिन्दू संस्कृति ने प्राचीन काल से पानी की असीमित और जीवित शक्ति के अध्ययन से ही हम तक पानी का महत्त्व और लाभ पहुंचाने के लिए तैयार किए हैं ।