आरती का महत्त्व

देवपूजा होने के उपरांत हम आरती करते हैं । आज भागदौड के युग में हम नियमित आरती नहीं कर पाते, तब भी शुभदिन अर्थात नवरात्री, दिवाली आदि के समय हम आरती करते ही हैं ।

देवी की आरती कैसे करें ?

देवी का पूजन होने के उपरांत अंत में आरती की जाती है । ऐसा नहीं है कि आरती गाने वाले प्रत्येक व्यक्ति को आरती की चाल, उस समय कौन-से वाद्य बजाने चाहिए इत्यादि की जानकारी हो ही, इसलिए ये गलतियां कैसे टाली जा सकती हैं, इस लेख द्वारा हम उसे समझने का प्रयास करेंगे ।