सनातन संस्था और हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से ‘सनातन प्रभात’ के पाठकों के लिए ‘ऑनलाईन’ सत्संग

सनातन संस्था और हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से पाक्षिक ‘सनातन प्रभात’के हिन्दी भाषा के पाठकों के लिए नियमित ‘ऑनलाईन’ साप्ताहिक सत्संग प्रारंभ किया गया है ।

अखिल भारतीय माहेश्‍वरी समाज के ‘ऑनलाईन’ समारोह में सनातन संस्था की डॉ. (श्रीमती) स्वाती मोदी का मार्गदर्शन

अखिल भारतीय माहेश्वरी समाज की ओर से २६ मई को विदर्भस्तरीय ‘ऑनलाईन’ महिला समारोह आयोजित किया गया था ।

सनातन संस्था और हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से उद्योजकों के लिए ऑनलाईन कार्यक्रम

सनातन संस्था और हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से मुंबई, ठाणे, रायगड और गुजरात के उद्योगपतियों के लिए २१ मई को ऑनलाईन कार्यक्रम का आयोजन किया गया था ।

देहली, हरियाणा एवं पश्‍चिमी उत्तर प्रदेश में सनातन संस्था के कार्य का १० मार्च २०२० तक का ब्यौरा

देहली के भैरव मंदिर के विनय मार्गपर सनातन निर्मित ग्रंथ एवं सात्त्विक वस्तुओं की प्रदर्शनी आयोजित की गई, जिसका अनेक जिज्ञासुओं ने लाभ उठाया ।’

चेन्नई में श्राद्धविधि के समय सनातन संस्था के ग्रंथप्रदर्शन का आयोजन

सनातन संस्था के साधक श्री. जयकुमार के पिताजी के प्रथम श्राद्धविधि के उपलक्ष्य में १५ मार्च २०२० को चेन्नई में सनातन संस्था की ओर से ग्रंथ और सात्त्विक उत्पाद का प्रदर्शन लगाया गया था ।

चेन्नई में अट्टुकल पोंगल के अवसर पर सनातन संस्था की ओर से ग्रंथप्रदर्शन

‘सत्संगम’ नामक आध्यात्मिक संस्था द्वारा ९ मार्च २०२० को चेन्नई के मीनाबक्कम् में ए.एम. जैन महाविद्यालय के मैदान में अट्टुकल पोंगल का आयोजन किया था ।

साधना ही जीवन की सभी समस्याओं का समाधान ! – सद्गुरु (कु.) स्वाती खाडयेजी, सनातन संस्था

विश्रामबाग (सांगली) के खरे मंगल कार्यालय में १ मार्च को ‘आनंदमय जीवन हेतु साधना’ पर सद्गुरु (कु.) स्वाती खाडयेजी का मार्गदर्शन संपन्न हुआ ।

चेन्नई में नृत्य कार्यक्रम के स्थानपर सनातन संस्था की ओर से ग्रंथप्रदर्शनी का आयोजन

मिलापुर में आयोजित नृत्य के एक कार्येक्रम में सनातन संस्था की ओर से ग्रंथ और सात्त्विक उत्पादों की प्रदर्शनी का आयोजन किया गया । इस अवसरपर तमिलनाडू राज्य के कला एवं संस्कृति मंत्री के. पंडियाराजन् ने सनातन संस्था की इस ग्रंथप्रदर्शनी का अवलोकन कर ग्रंथों की जानकारी ली ।

भविष्य में विदेशी लोगों से अध्यात्म सिखने की स्थिति न आए; इसके लिए हिन्दू अध्यात्म का अध्ययन कर साधना करें ! – श्री. अभय वर्तक, धर्मप्रचारक, सनातन संस्था

हम हिन्दुओं ने समय रहते ही अपने धर्म का अध्ययन नहीं किया, तो भविष्य में हमें विदेशी लोगों से अध्यात्म समझकर लेने की स्थिति आएगी ।