‘राष्ट्र एवं धर्म’ की रक्षा के लिए ‘धर्माचरण’ करना यही एकमात्र उपाय है ! – कु.नागमणी आचार, सनातन संस्था

शिरसी (कर्नाटक) में ‘हिन्दू धर्मजागृति सभा’ !

बार्इं ओर से कु.रेवती मोगेर, कु.नागमणी आचार, श्री.विजय रेवणकर एवं दीपप्रज्वलन करते हुए श्री.पुंडलिक पै

शिरसी (कर्नाटक) : आरोग्य, शिक्षा एवं पुलिस इन क्षेत्रों में तथा समाज में होनेवाले अन्याय के विरोध में समविचारी संघटनों ने मिल कर आंदोलन करना चाहिए। धर्माभिमानी श्री.पुंडलिक पै ने प्रतिमाह सभी हिन्दुओं को संघटित रूप से आंदोलन कर ‘हिन्दू राष्ट्र’ निर्मिति के कार्य में तन, मन एवं धन से सम्मिलित होने का आवाहन किया है। हाल ही में हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से यहां के श्री विद्याधिराज कलाक्षेत्र में आयोजित ‘हिन्दू धर्मजागृति सभा’ को वे संबोधित रहे थे। इस अवसर पर हिन्दू जनजागृति समिति के श्री.विजय रेवणकर, सनातन संस्था की कु.नागमणी आचार एवं रणरागिणी शाखा की कु.रेवती मोगेर ने भी उपस्थित लोगों को संबोधित किया।

 

‘राष्ट्र एवं धर्म’ की रक्षा के लिए ‘धर्माचरण’ करना यही
एकमात्र उपाय है ! – कु.नागमणी आचार, सनातन संस्था

वर्तमान में युवक युवतियां ‘व्हेलेंटाईन डे’ मनाते हैं। संकुचित प्रेम सिखानेवाली पाश्चात्य संस्कृति की अपेक्षा ये विश्व ही मेरा घर है, ऐसी व्यापक प्रेम की सीख देनेवाली हिन्दू संस्कृति पूरे विश्व में श्रेष्ठ है ! ‘राष्ट्र एवं धर्म’ की दु:स्थिति के लिए सर्वस्वी पाश्चात्य संस्कृति का अंधानुकरण ही कारणभूत है। इसलिए ‘राष्ट्र एवं धर्म’ की रक्षा के लिए हर हिन्दू को सनातन हिन्दू धर्मानुसार आचरण करना यही एकमात्र उपाय है !

 

‘हिन्दू राष्ट्र’ की मांग करें ! – श्री.विजय रेवणकर, हिन्दू जनजागृति समिति

पाकिस्तान कश्मीर के विघटनवादियों को भारतीय सैनिकों पर पथराव करने हेतु धनपूर्ति कर रहा है। क्या, राजनीतिज्ञ इन आतंकवादियों को रोकने का साहस करेंगे ? भारत को ‘हिन्दू राष्ट्र’ घोषित करने का आग्रह सभी ने करना चाहिए !

स्त्रोत : दैनिक सनातन प्रभात