‘आदर्श नवरात्रोत्सव’ मनाने के संदर्भ में सनातन संस्था एवं हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा राज्यभर में ज्ञापन प्रस्तुती

सनातन संस्था एवं
हिन्दू जनजागृति समिति का ‘आदर्श नवरात्रोत्सव अभियान !

navratri_banner_hindi

आज के दिन सार्वजनिक नवरात्रोत्सव में अनेक अपप्रकारों का समावेश हुआ है ! फ़िल्म के गीतों की ताल पर गरबा खेलना, मदिरापान करना, बलपूर्वक चंदा वसूलना, सजावट पर अनावश्यक व्यय करना, मंडप में जुआ खेलना आदि कारणों से इस उत्सव की पवित्रता नष्ट हो रही है। फलस्वरूप इस उत्सव के अवसर पर अनैतिक कृत्यों में बढोत्तरी होने से गर्भपात की घटनाओं में लक्षणीय बढोत्तरी हो रही है !

इन सभी अपप्रकारों को रोक कर एक ‘आदर्श नवरात्रोत्सव मनाया जाना चाहिए’, इस संदर्भ में पूरे राज्य में हिन्दू जनजागृति समिति एवं सनातन संस्था की ओर से पुलिस एवं प्रशासन को ज्ञापन प्रस्तुत किये गये। इस ज्ञापन में कहा गया है कि,

नवरात्रोत्सव के समय आतंकवादी घटनाएं तथा धर्मांधोंद्वारा किए जानेवाले दंगों का संकट होता है। भीडवाले स्थानों पर अपरिचित अथवा धर्मांध व्यक्तिद्वारा कार्यक्रम में घुसकर तनाव उत्पन्न किए जाने की संभावना होती है। इस पार्श्वभूमि पर सभी को सतर्क रहना आवश्यक है। अतः समारोह स्थल पर सभी को उनके परिचयपत्र की पडताल कर ही प्रवेश देने का प्रबंध किया जाए, इस समय यह मांग भी की गई। नवरात्रोत्सव के उपलक्ष्य में पुलिस प्रशासनद्वारा आयोजित बैठकों में हिन्दू जनजागृति समिति के प्रतिनिधियों को निमंत्रित किया गया, तो उत्सव शांतिपूर्ण एवं धार्मिक वातावरण में संपन्न होने हेतु समिति एवं रणरागिणी शाखा आपकी सहायता करेगी।

प्रस्तुत कर रहें हैं, इसी का वृत्तांत . . .

कोल्हापूर

नवरात्रोत्सव का संदर्भ रखने हेतु हिन्दू जनजागृति समिति
एवं रणरागिणी शाखा को निमंत्रित करने हेतु प्रयास करूंगा !
– पुलिस अधीक्षक श्री. प्रदीप देशपांडे

kolhapur-nivedan
कोल्हापूर के पुलिस अधीक्षक श्री. प्रदीप देशपांडे को ज्ञापन प्रस्तुत करते हुए धर्माभिमानी

हिन्दू जनजागृति समिति प्रणित रणरागिणी शाखा की ओर से यहां के पुलिस अधीक्षक श्री. प्रदीप देशपांडे तथा पुलिस उपाधीक्षक श्री. भारतकुमार राणे को ज्ञापन प्रस्तुत किया गया। इस समय नवरात्रोत्सव का विषय प्रस्तुत करने हेतु हिन्दू जनजागृति समिति प्रणित रणरागिणी शाखा एवं हिन्दू जनजागृति समिति के कार्यकर्ताओं को हमारी बैठक में बुलाने हेतु प्रयास किए जाएंगे। श्री. प्रदीप देशपांडे ने यह बात कही।

इस अवसर पर शिवसेना करवीर तहसीलप्रमुख श्री. राजू यादव, हिन्दू एकता आंदोलन के श्री. शिवाजीराव ससे, श्री. अशोक रामचंदानी तथा हिन्दू जनजागृति समिति के कार्यकर्ता साथ ही रणरागिणी शाखा की कार्यकर्ती उपस्थित थी।

ठाणे

thane-rabodi-police-station
राबोडी पुलिस थाने में ज्ञापन प्रस्तुत करते हुए धर्माभिमानी

ठाणे, राबोडी एवं डोंबिवली, रामनगर के पुलिस थाने, तिलकनगर पुलिस थाना एवं विष्णुनगर पुलिस थाने में भी ज्ञापन प्रस्तुत किया गया।

नासिक

समिति का कार्य आदर्श है तथा समिति को पूरा सहयोग देंगे !
– श्री. रामदास खेडकर, निवासी उपजिलाधिकारी, नासिक

nasik-nivedan
नासिक के निवासी उपजिलाधिकारी श्री. रामदास खेडकर को ज्ञापन प्रस्तुत करते हुए धर्माभिमानी

यहां के निवासी उपजिलाधिकारी श्री. रामदास खेडकर को धर्माभिमानी एवं हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से ज्ञापन प्रस्तुत किया गया। इस समय श्री. खेडकर ने कहा कि, समिति का कार्य आदर्श है तथा हम समिति को पूरा सहयोग देंगे।

ज्ञापन प्रस्तुत करते समय धर्माभिमानी श्री. दीपक पाटिल, कु. प्रेरणा मोराडे, साथ ही सनातन संस्था के साधक तथा हिन्दू जनजागृति समिति के कार्यकर्ता उपस्थित थे।

यवतमाळ

yavatmal
नायब तहसिलदार श्री. दिलीप राठोड को ज्ञापन प्रस्तुत करते हुए धर्माभिमानी

नायब तहसिलदार श्री. राठोड ने कहा कि, इसपर जिलाधिकारी कार्यालय की ओर से उचित कार्रवाई की जाएगी। इस समय २४ सितंबर को संपन्न ‘राष्ट्रीय हिन्दू आंदोलन’ के समय लिए गए हस्ताक्षरों का ज्ञापन भी प्रस्तुत किया गया।

सांगली

सांगली में भी समिति की ओर से सांगली-मिरज-कुपवाड महापालिका के उपमहापौर श्री. विजय घाटगे तथा सांगली शहर पुलिस थाने में पुलिस अधिकारी श्री. गुजर को ज्ञापन प्रस्तुत किया गया। इस समय समिति के श्री. संतोष देसाई सहित अन्य कार्यकर्ता उपस्थित थे।

नंदुरबार

नवरात्रोत्सव में कठोर नीति अपनाएंगे ! – पुलिस अधीक्षक का आश्‍वासन

nandurbar-nivedan
नंदुरबार के जिला पुलिस अधीक्षक श्री. राजेंद्र डहाळे को ज्ञापन प्रस्तुत करते हुए धर्माभिमानी

‘आदर्श नवरात्रोत्सव कैसे मनाएं’ तथा ‘उत्सव के समय में समस्याओं का समाधान कैसे किया जाए ?’ इस संदर्भ में विचारविमर्श करने हेतु हिन्दू जनजागृति समिति पुरस्कृत सार्वजनिक उत्सव महामंडल की ओर से २९ सितंबर को श्रीराम मंदिर, मंगल भवन के निकट, जैन मंदिर के पीछे, नंदुरबार में नवरात्रोत्सव मंडलों की एकत्रित बैठक का आयोजन किया गया था।

महामंडल ने यह सूचित किया कि, श्री गणेशोत्सव महामंडल के माध्यम से सभी मंडलों की एकत्रित बैठक होने से ‘आदर्श गणेशोत्सव’ मनाना तथा उनकी समस्याओं का समाधान ढूंढने के कार्य में सफलता मिली थी। उसी प्रकार से नवरात्रोत्सव मनाते समय आनेवाली समस्याओं का समाधान ढूंढने के संदर्भ में, साथ ही आदर्श नवरात्रोत्सव मनाने के संदर्भ में बातचीत करने हेतु सभी नवरात्रि (गरबा) मंडलों के सदस्य एवं पदाधिकारियों को, बैठक में उपस्थित रहने का आवाहन भी महामंडलद्वारा किया गया था।

यहां समिति की ओर से जिला पुलिस अधीक्षक श्री. राजेंद्र डहाळे को ज्ञापन प्रस्तुत किया गया। श्री. डहाळे ने ज्ञापन का स्वीकार करते समय उसमें निहित सूत्रों पर बातचीत की तथा उस दृष्टि से नवरात्रोत्सव में कठोर नीति अपनाए जाने का आश्‍वासन दिया। ज्ञापन प्रस्तुत करते समय समिति के कार्यकर्ता भी उपस्थित थे।

वर्धा

वर्धा में भी विविध मांगों का ज्ञापन प्रस्तुत

wardha2
वर्धा के उपअधीक्षक श्री. रवींद्र किल्लेकर को ज्ञापन प्रस्तुत करते हुए धर्माभिमानी

यहां, कॉ. गोविंद पानसरे हत्या प्रकरण में बिना किसी कारण बंदी बनाए गए डॉ. वीरेंद्रसिंह तावडे का हो रहा उत्पीडन रोका जाए तथा उच्च न्यायालय के आदेशानुसार मस्जिदों पर बजनेवाले अवैध भोंपुओं पर वैधानिक कार्रवाई की जाए इन मांगों का ज्ञापन जिलाधिकारी को अधीक्षक श्री. प्रमोद कदम के माध्यम से प्रस्तुत किया गया।

अवैध भोंपुओं पर कार्रवाई तथा आदर्श नवरात्रोत्सव मनाए जाने हेतु पुलिस अधीक्षक को पुलिस उपाधीक्षक श्री. रवींद्र किल्लेकर के माध्यम से ज्ञापन प्रस्तुत किया गया। इस समय हिन्दू जनजागृति समिति के कार्यकर्ता एवं सनातन के साधक उपस्थित थे।

धर्मसेवा प्रतिष्ठान न्यास की ओर से
वर्धा में विविध समाजोपयोगी अभियान !

wardha-margdarshan
धर्मसेवा प्रतिष्ठान न्यास की श्रीमती जयश्री माणिकपुरे मार्गदर्शन करती हुई

धर्मसेवा प्रतिष्ठान न्यास की ओर से २६ सितंबर को ज्ञानेश्‍वर मंदिर, आर्वी नाका में ‘प्रदूषणमुक्त नवरात्रोत्सव कैसे मनाएं ?’ इस संदर्भ में न्यास की श्रीमती जयश्री माणिकपुरे ने मार्गदर्शन किया। न्यास की ओर से गरीबों को वस्त्रदान, अन्नदान, साथ ही नैतिक मूल्यों का संवर्धन कैसे करें ?, तनावमुक्त जीवन कैसे जीएं ? इस संदर्भ में उद्बोधन किया गया।

२७ महिलाओं ने इस अभियान का लाभ उठाया।

स्त्रोत : दैनिक सनातन प्रभात