ठाणे जनपद में सनातन संस्था के ‘आदर्श गणेशोत्सव अभियान’ को प्राप्त हुआ सकारात्मक प्रतिसाद !

सनातन तथा हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से प्रबोधन !

डोंबिवली के अचानक मित्र मंडल के मंडप में लगाई गई, सनातन निर्मित सात्विक नामपट्टियां (कड़ी में)
डोंबिवली के अचानक मित्र मंडल के मंडप में लगाई गई, सनातन निर्मित सात्विक नामपट्टियां (कड़ी में)

ठाणे : यहां जिले के पाठशालाओं में, हर घर-घर में, साथ ही गणेशोत्सव मंडल तथा शिवसेना शाखाओं में ‘आदर्श गणेशोत्सव अभियान’ के अंतर्गत मार्गदर्शन किया गया। नगरसेविका अधिवक्ती श्रीमती रत्नप्रभा पाटिल ने जनसंपर्क कार्यालय में आयोजित किए गए एक कार्यक्रम में सनातन संस्थाद्वारा मार्गदर्शन किया गया। साथ ही जिला परिषद की पाठशाला क्र. १३ (खोपड) तथा पाठशाला क्र. ४१ (उथळसर) इन २ पाठशालाओं में छात्रों को मार्गदर्शन किया गया।

कल्याण

कल्याण पश्‍चिम में १० जगहों पर ‘आदर्श गणेशोत्सव’ किस प्रकार मनाना चाहिए, इस संदर्भ में प्रवचनों का आयोजन किया गया। इस अवसर पर श्रद्धालुओं की शंकाओं का निराकरण किया गया। प्रवचन सुनकर भारी मात्रा में श्रद्धालुओं ने सनातन के ग्रंथ तथा उत्पादन विक्रय किए। साथ ही उनकी मांग भी की।

क्षणिकाएं

१. उषा दर्शन सोसायटी, गणेश चौक की दैनिक सनातन प्रभात की वाचक श्रीमती भारांबे ने प्रवचन से पूर्व वातावरण शुद्धि हेतु सनातन की उदबत्ती जलाई थी। उसी समय जिज्ञासु, हिन्दू जनजागृति समिति तथा सनातन संस्था के जालस्थल की जानकारी लें सकें; इसलिए उनका प्रसारण भी शुरू किया गया था। प्रवचन के दो दिन पश्चात संपर्क करने पर सनातन प्रभात के तीन नए वाचक बनें। श्रीमती भारांबे ने हाल ही में शुरू हो रहें ‘पितृपक्ष’ के संदर्भ में विषय प्रस्तुत करने हेतु आंमत्रित भी किया।

२. एक घर में प्रवचन के समय अंकुर से मुद्रित की गई गणेशमुर्ति प्रांगण में विसर्जन करने के पश्चात उसमें से पौधा उगाता है, इस संदर्भ में एक ध्वनिचित्रचक्रिका प्रसारित की जा रही थी। उस समय यह धर्म हानी है, यह बात ध्यान में आने के पश्चात उस प्रवचन में धर्मशास्त्र बताकर प्रबोधन किया गया।

३. राधानगर खडकपाडा के प्रवचन में यह मांग की गई कि, इस तरह के प्रवचन हर त्यौहार एवं उत्सव में आयोजित करें।

४. ठाणकरपाडा में विघ्नहर्ता गणेशोत्सव मंडल में आयोजित किया गया प्रवचन सुनकर उपस्थित महिलाओं ने बताया कि, ‘इस प्रकार के प्रवचनों की वर्तमान में अत्यंत आवश्यकता है !’ मंडल के कार्यकर्ताओं ने कहा कि, ‘अगले वर्ष के गणेशोत्सव में उचित सुधार निश्चित ही करेंगे !’

५. दो स्थानों पर विषय प्रस्तुत करनेवाले साधकों को शाल तथा श्रीफल प्रदान कर सम्मानित किया गया।

डोंबिवली

१. डोंबिवली (प.) में सनातन की साधिका श्रीमती मंगला क्षत्रिय ने, मूर्तिकारों से मूर्ति ले रहे श्रद्धालुओं का उसी समय प्रबोधन किया कि, गणेशमूर्ति का विसर्जन बहते पानी में करना क्यों आवश्यक हैं ?

२. डोंबिवली (प.) के अचानक मित्र मंडल के अध्यक्ष ने सनातन के साधकोंद्वारा मंडप की शुद्धि करवाई तथा मंडप में चारों ओर सनातन निर्मित नामपट्टियां भी लगाई।

बदलापुर

पनवेल ग्रुप उत्सव समिति की ओर से १२ सितम्बर को सनातन संस्था की श्रीमती सुनंदा जोशी ने ‘आदर्श गणेशोत्सव कैसे करें’ इस विषय पर मार्गदर्शन किया।

अंबरनाथ

यहां के नगरपरिषद में १४ सितम्बर को हल्दी-कुमकुम कार्यक्रम में गणेशोत्सव शास्त्रानुसार मनाने का महत्त्व, साथ ही उत्सव में होनेवाले अनाचार के संदर्भ में प्रबोधन किया गया। उसका लाभ ४० से भी अधिक महिलाओं ने ऊठाया। उस समय सनातन के ग्रंथो की प्रदर्शनी भी आयोजित की गई थी।

स्त्रोत : दैनिक सनातन प्रभात