हिन्दु नववर्ष का महाराष्ट्र तथा गोवा राज्यों में उत्साहपूर्ण वातावरण में स्वागत !

  • भगवा ध्वज तथा ढोेल-ताशा के साथ पारंपारिक वेश परिधान कर शोभायात्रा
  • हिन्दू जनजागृति समिति तथा सनातन संस्था भी सम्मिलित
ठाणे की शोभायात्रा में सम्मिलित हुए सनातन के साधक

मुंबई – चैत्र शुद्ध प्रतिपदा ! हिन्दुओं का इस कलियुग का ५१२० वा नूतन वर्ष आज आरंभ हुआ है । इस निमित्त महाराष्ट्र के अधिकांश सर्व प्रमुख शहरों में हिन्दुओं ने भगवा ध्वज हाथ में लेकर ढोल-ताशा के साथ पारंपारिक वेश परिधान कर नए वर्ष का स्वागत कर एकदूसरे को शुभेच्छा दी । कुछ स्थान पर हिन्दू जनजागृति समिति तथा सनातन संस्था ने भी इस फेरी में सम्मिलित होकर स्वसुरक्षा प्रात्यक्षिक प्रस्तुत किए । मुंबई में गिरगांव, दहिसर, डोंबिवली, ठाणे में प्रातः से शोभायात्रा आयोजित की गई । सर्वत्र भव्य आकर्षक रंगोलियां मुद्रित की गई थी । गोवा राज्य में भी नूतन वर्ष का भव्य स्वागत किया गया ।

चित्ररथ, प्रतिकृती, देखावा के साथ ढोल-ताशा की गूंज तथा लेझीम के ताल में भगवा ध्वज ऊठाकर शोभायात्रा आगे बढ रही थी । कुछ स्थानों पर बालकों ने महापुरुषों का वेश परिधान किया था । मुंबई की शोभायात्रा में परदेशी अतिथी भी सम्मिलित हुए थे । गिरगांव में महिला दोपहिए पर पेâरी में सम्मिलित हुई । रत्नागिरी में ‘पानी बचाओ’ यह संदेश शोभायात्रा में दिया गया, तो पंढरपुर में परंपरानुसार ब्रह्मध्वज परिवर्तित किया गया । नाशिक तथा सांगली में भी अधिक मात्रा में ढोल-ताशा की गूंज में शोभायात्रा आयोजित की गई थी ।

कोल्हापुर में मराठी संस्कृति का दर्शन करनेवाली शोभायात्रा आयोजित की गई थी, तो यहां प्रातः गायन के कार्यक्रम से नववर्ष का स्वागत किया गया ।

वेतन समय पर न देने के निषेधार्थ शिक्षणमंत्री के बंगले के
प्रवेशद्वार पर काली गुढी खडी कर अध्यापक परिषद की ओर से निषेध

अध्यापकों का वेतन समय पर न देने के निषेधार्थ अध्यापक परिषद के पदाधिकारियों ने राज्य के शिक्षणमंत्री विनोद तावडे के बंगले के मुख्य प्रवेशद्वार पर काली गुढी खडी कर निषेध व्यक्त किया । मुंबई के २७ सहस्र शिक्षण तथा अध्यापकों के अतिरिक्त कर्मचारियों का वेतन समय पर नहीं दिया गया है । उस समय अध्यापक परिषद के कुछ पदाधिकारी उपस्थित थे ।

स्त्रोत : दैनिक सनातन प्रभात