सर्वसमावेशक हिन्दु धर्म का अनुभव करने के लिए बेलगांव के हिन्दु धर्मजागृति सभा को उपस्थित रहें ! – अधिवक्ता शरदचंद्र मुंदरगी

दाएं से डॉ. अंजेश कणगलेकर, अधिवक्ता शरदचंद्र मुंदरगी, श्री. गुरुप्रसाद गौडा तथा डॉ. (श्रीमती) ज्योती दाभोलकर

बेलगांव, २ फरवरी – बेलगांव में ४ फरवरी को संपन्न होनेवाली हिन्दू धर्मजागृति सभा के निमित्त कन्नड साहित्य भवन में आयोजित पत्रकार परिषद में प्रखर राष्ट्राभिमानी अधिवक्ता शरदचंद्र मुंदरगी वक्तव्य कर रहे थे । अपने वक्तव्य में उन्होंने यह आवाहन किया कि, ‘हिन्दु धर्म सात्त्विक तथा सर्वसमावेशक है । आज हिन्दुत्व को नई चमक आ रही है । हिन्दु धर्म कैसा है, इसका अनुभव करने हेतु प्रत्येक हिन्दु ४ फरवरी को संपन्न होनेवाली हिन्दू धर्मजागृति सभा के लिए उपस्थित रहें ।’ उस समय सनातन संस्था की डॉ. (श्रीमती) ज्योती दाभोलकर, हिन्दू जनजागृति समिति के कर्नाटक राज्य समन्वयक श्री. गुरुप्रसाद गौडा तथा हिन्दू जनजागृति समिति के डॉ. अंजेश कणगलेकर उपस्थित थे ।

अधिवक्ता शरदचंद्र मुंदरगी ने आगे यह वक्तव्य किया कि, ‘बीच की कालावधी में क्षात्रतेज अल्प होने के कारण हिन्दु धर्म को पृथक आपत्तियों का सामना करना पडा; किंतु अब परिस्थिती में परिवर्तन हो रहा है । हिन्दु धर्म-हिन्दु राष्ट्र में तुष्टिकरण को नहीं, तो क्षमता को महत्त्व दिया जाएगा । यदि सेना का उदाहरण दिया जाए, तो सेना में भी क्षमता को ही प्राधान्य दिया जाता है । उदात्त, सांस्कृतिक हिन्दु राष्ट्र शीघ्र स्थापित होने के लिए हम सभी हिन्दुओं को संगठित होना अत्यावश्यक है तथा वही धर्मजागृति सभा के माध्यम से साध्य होगा ।

विशेषता

पत्रकार परिषद के लिए पत्रकारों का उत्स्फूर्त प्रतिसाद प्राप्त हुआ । पृथक दैनिक, समाचारप्रणालों के कुल मिलाकर १८ पत्रकार परिषद हेतु उपस्थित थे ।

हिन्दु राष्ट्र के संदर्भ में पत्रकारों का किया गया शंकानिरसन !

एक पत्रकार ने वर्तमान की राजनीतिक परिस्थिती में हिन्दु राष्ट्र की स्थापना कैसी होगी, ऐसा प्रश्न पूछा । उस पर श्री. गुरूप्रसाद गौडा ने यह उत्तर दिया कि, ‘संतों के कथनानुसार वर्ष २०२३ में हिन्दु राष्ट्र की निश्चित स्थापना होगी । वर्तमान में सर्वत्र हिन्दु राष्ट्र के लिए पोषक वातावरण है । हिन्दु राष्ट्र इस विषय की चर्चा केवल जनपदस्तर पर ही नहीं है, तो वह पूरे भारत में हो रही है । सभी हिन्दूत्वनिष्ठ संगठनों का ध्येय भी हिन्दु राष्ट्र की स्थापना ही है । अतः इन सभी बातों को देखते हुए वर्ष २०२३ में हिन्दू राष्ट्र की स्थापना निश्चित ही होगी !

उस समय वक्तव्य करते हुए अधिवक्ता शरदचंद्र मुंदरगी ने बताया कि, ‘मैंने प्रारंभ में लष्कर में रहकर देश की सेवा की । तत्पश्चात् ५० वर्ष वकालत कर की तथा वर्तमान में हिन्दुत्व के कार्य से जुडा हूं ।

स्रोत : दैनिक सनातन प्रभात