इतिहास का अनादर करनेवाले संजय लीला भन्साळी को बंदी बनाएं ! – श्रीमती नयना भगत, प्रवक्ता, रणरागिणी शाखा, जनजागृति समिति

कांजूरमार्ग (मुंबई) में राष्ट्रीय हिन्दु आंदोलन !

आंदोलन को संबोधित करते हुए श्रीमती नयना भगत

मुंबई : कांजूरमार्ग पूरब के नूतननगर चौक में १० दिसम्बर को राष्ट्रीय हिन्दु आंदोलन आयोजित किया गया था । उस समय हिन्दु जनजागृति समिति की रणरागिणी शाखा की श्रीमती नयना भगत ने कुछ मांगे की थी । वह मांगे इस प्रकार हैं, ‘इतिहास के प्रसंग छायाचित्रपटों में अनुचित पद्धति से प्रस्तुत करने से देखनेवालों को वहीं वास्तव प्रतीत होता है तथा समाज में अनुचित संदेश दिया जाता है । बाजीराव-मस्तानी चित्रपट में बाजीराव की पत्नी काशीबाई को नृत्य करते हुए दिखाया गया है, तो पद्मावती इस आगामी चित्रपट में रानी पद्मावती को घुमर नृत्य करते हुए दिखाया गया है । ये दोंनो प्रसंग इतिहास का अनादर करनेवाले हैं । इतिहासद्रोही चित्रपट निर्माण कर समाज में अनुचित संदेश फैलानेवाले संजय लीला भन्साळी को त्वरित बंदी बनाएं ।’

साथ ही उस समय ये मांगे भी की गई कि, ‘पंढरपुर की श्री विठ्ठल की प्रतिमा पर रासायनिक लेपन करने का निर्णय निरस्त करें । २५ दिसम्बर २०१७ से १ जनवरी २०१८ इस कालावधी में पटाखों के विक्रय पर पाबंदी डालें तथा पुणे में नियोजित सनबर्न फेस्टिवल निरस्त करें।’

 

श्री विठ्ठल की प्रतिमा की झीज होने के संदर्भ में धर्माचार्यों
के मत प्राप्त करें ! – सचिन घाग, श्री शिवप्रतिष्ठान हिन्दुस्थान

हमारी यह श्रद्धा है कि, महाराष्ट्र का श्रद्धास्थान पंढरपुर की श्री विठ्ठल की प्रतिमा यह केवल पत्थर की वस्तु नहीं है, तो उसमें श्री विठ्ठल तत्त्व कार्यरत है । अतः प्रतिमा की झीज तथा उस पर किए जानेवाले उपायों के संदर्भ में हिन्दु धर्म की अधिकारी व्यक्ति अर्थात् संत, धर्माचार्य, इत्यादि का मार्गदर्शन प्राप्त करना चाहिए तथा धर्मशास्त्रानुसार कृती करनी चाहिए ।

सनातन संस्था के डॉ. लक्ष्मण जठार तथा हिन्दु जनजागृति समिति के श्री. सतीश सोनार ने भी उस समय उपस्थितों को संबोधित किया । आंदोलन के लिए पंचमुखी सेवा संस्था के अध्यक्ष श्री. जगन्नाथ कदम, सीताराम सेवा संस्था के श्री. पापा सिंग, बजरंग दल के (भांडुप) श्री. विनोद जैन तथा बजरंग दल (गोरेगांव) के श्री. संदीप सिंग उपस्थित थे ।

क्षणिकाएें

१. आंदोलन से प्रभावित हुए एक रजपूत चाय विक्रेता ने आंदोलन में सम्मिलित हुए कार्यकर्ताओं को अल्प मूल्य में चाय उपलब्ध किया ।

२. दोन स्थानीय धर्मप्रेमियों ने समिति के कार्य में सम्मिलित होने की इच्छा व्यक्त की ।

स्त्रोत : दैनिक सनातन प्रभात