‘खडकवासला जलाशय रक्षण अभियान’ में सम्मिलित होकर पर्यावरण की रक्षा करें – श्री. प्रवीण नाईक, सनातन संस्था

हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों के ‘खडकवासला जलाशय रक्षा अभियान’ के अंतर्गत पुणे में, पत्रकार परिषद !

पुणे : रासायनिक रंगों से खेलकर खडकवासला जलाशय में खेलने हेतु आनेवाले लोगों से जलाशय की रक्षा हो अर्थात इससे होनेवाले प्रदूषण पर रोंक लगे; इसलिए हिन्दू जनजागृति समिति अन्य समविचारी संघटनों के साथ विगत १४ वर्षों से निरंतर ‘खडकवासला जलाशय रक्षा अभियान’ चला रही है।

इस वर्ष भी १३ मार्च (धुलीवंदन) एवं १७ मार्च (रंगपंचमी) इन दोनों दिन पर को खडकवासला जलाशय के चारों ओर मानवीय शृंखला बनाकर नागरिकों को उद्बोधन किया जानेवाला है। ‘कमिन्स इंडिया लिमिटेड’ इस आस्थापन के कर्मचारी, अधिकारियोंसहित स्थानीय ग्रामवासी भी इस अभियान में भाग लेनेवाले हैं। अतः इस अभियान में अधिकाधिक लोग सम्मिलित हों’ ऐसा आवाहन सनातन संस्था के श्री. प्रवीण नाईक ने पत्रकार परिषद में किया।

पत्रकार परिषद में, बाईं ओर से सर्वश्री विजय गावडे, सचिन पासलकर, प्रवीण नाईक एवं चैतन्य तागडे

इस समय हिन्दू जनजागृति समिति के श्री. चैतन्य तागडे, गार्गी सेवा फाऊंडेशन के श्री. विजय गावडे एवं गोर्‍हे बुद्रुक गांव के सरपंच श्री. सचिन पालसकर भी उपस्थित थे। प्रशासन की ओर से भी इस वर्ष धुलीवंदन एवं रंगपंचमी के दिन खडकवासला जलाशय में उतरने के लिए नागरिकों को प्रतिबंधित किया गया है। समिति, साथ ही सनातन के निरंतर चल रहे इस अभियान के कारण प्रशासनद्वारा संज्ञान लेकर पर्यावरण की रक्षा हेतु प्रधानता लेनेपर श्री. नाईक ने संतोष व्यक्त किया।

भविष्य में इस प्रकार के अभियान को चलाने की आवश्यकता ही नहीं पडेगी – श्री. सचिन पालसकर

हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से विगत १४ वर्षों से चलाए जा रहे इस अभियान के हम साक्षी हैं। एक नागरिक के रूप में, साथ ही संस्कृति रक्षा मंच नामक हमारे संघटन की ओर से हमने सदैव ही इस अभियान में सहभाग लिया है। विगत अनेक वर्षों से चलाया जा रहा यह अभियान शत प्रतिशत सफल हो रहा है। इसके आगे समिति के उद्बोधन के कारण नागरिकों में और अधिक जागृति होकर भविष्य में इस प्रकार का अभियान चलाने की आवश्यकता ही नहीं पडेगी ! इस अभियान के समय समिति के कार्यकर्ता कडी धूप में खडे होकर जलाशय की रक्षा करते हैं और हमें यहां आनेवाले कार्यकर्ताओं की सहायता करने का अवसर मिलता है, यह हमारा सौभाग्य ही है, ऐसी भावना भी श्री. पालसकर ने व्यक्त की !

श्री. विजय गावडे ने; समिति के माध्यम से, गार्गी फाऊंडेशन की ओर से हर महाविद्यालय जाकर होली एवं रंगपंचमी का त्यौहार धर्मशास्त्र की दृष्टि से कैसे मनाएं, इस संदर्भ में उद्बोधन करने का मनोदय व्यक्त किया।

पत्रकारोंद्वारा पूछे गए प्रश्‍नों को उत्तर देते हुए श्री. प्रवीण नाईक ने कहा ….

१. कुछ संगठन ‘कचरे की होली करें’, ‘पूरनपोली, दान करें’, इस प्रकार का अशास्त्रीय दुष्प्रचार करते हैं। उनके झांसे में न आकर नागरिक धर्मशास्त्र के अनुसार ही होली मनाएं। गरिबों को अन्नदान न करने की समिति की भूमिका नहीं है; परंतु उसकी आड में धर्मशास्त्र में विदित कृतियों को दूर रखने के आग्रह का हम विरोध करते हैं। हमारे हर त्यौहार के पीछे अध्यात्मशास्त्र होने से कोई भी त्यौहार क्यों एवं कैसे मनाएं, इसे जान लेना चाहिए। होली के कारण वातावरण की शुद्धता होती है !

२. महिला, युवतियों की छेड़खानी करना, उनपर रंगों के गुब्बारे फेंकना, मदिरापान-धुम्रपान करना, तीव्र गति से वाहन चलाना जैसी अप्रिय घटनाओं को रोकने हेतु पुलिसकर्मियों के गश्तदल सिद्ध कर इस प्रकार के अपकृत्य करनेवाले युवकोंपर कठोर कार्रवाई की जानी चाहिए, साथ ही आपत्तिजनक रंग एवं गुब्बारों की बिक्री करनेवाले बिक्रेताओंपर भी कार्रवाई होनी चाहिए। त्यौहार-उत्सवों में व्याप्त अनिष्ट कृत्यों को तोड डालकर त्यौहारों को अध्यात्मशास्त्रीय दृष्टि से मनाया जाए; इसके लिए भी समिति की ओर से इसके पहले ही पुलिस प्रशासन को ज्ञापनें प्रस्तुत की गई हैं। होली, रंगपंचमी एवं धुलिवंदन के पीछे निहित शास्त्र क्या है, इसके संदर्भ में विद्यालय-महाविद्यालयों में भी जाकर भी उद्बोधन किया जा रहा है !

 

होली एवं रंगपंचमी के दिन रंगों में खेलकर खडकवासला जलाशय में उतरनेपर पुणे प्रशासनद्वारा प्रतिबंध !

हिन्दू जनजागृति समिति के ज्ञापन का संज्ञान !

हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनोंद्वारा ‘खडकवासला जलाशय रक्षा अभियान’

पुणे : विगत १५ वर्षों से हिन्दू जनजागृति समिति, सनातन संस्था एवं अन्य समविचारी संगठनों की ओर से ‘खडवासला जलाशय रक्षा अभियान’ चलाया जाता है।

पूरे पुणे शहर को पानी की आपूर्ति करनेवाला यह खडकवासला जलाशय प्रदूषित न हो; इसलिए इस अभियान के अंतर्गत इस जलाशय के चारों ओर मानवीय शृंखला बनाकर, पानी में उतरकर रंग खेलने का प्रयास करनेवाले नागरिकों का उद्बोधन किया जाता था।

अब इस अभियान का प्रशासनिक स्तरपर संज्ञान लिया गया है। जिलाधिकारी श्री. सौरभ रावद्वारा होली एवं रंगपंचमी के अवसरपर रंग खेलकर जलाशय में उतरने के लिए नागरिकोंपर प्रतिबंध लगाया गया है। श्री. राव ने पत्रकार परिषद में इसकी जानकारी दी। पुलिस, महापालिका कर्मचारी, स्वयंसेवी संस्थाओं के कार्यकर्ता एवं स्थानीय नागरिक खडकवासला जलाशय के आसपास मानवीय शृंखला बनाकर खडे रहेंगे, ऐसा उन्होंने बताया।

जिलाधिकारी श्री. सौरभ राव (दाईं ओर) को ज्ञापन प्रस्तुत करते हुए हिंदुत्वनिष्ठ संघटनों के प्रतिनिधि

गत सप्ताह में ही सनातन संस्था के श्री. प्रवीण नाईक, हिन्दू जनजागृति समिति के सर्वश्री दीपक आगवणे एवं महेश पाठक, कृष्णाजी पाटिल ने जिलाधिकारी से भेंट कर उनको समिति की ओर से चलाए जा रहे इस अभियान के संदर्भ में विस्तृत जानकारी देकर इसमें प्रशासन का योगदान भी बढ़ें; इसके लिए ज्ञापन प्रस्तुत किया गया था, साथ ही उन्होंने इस समय इस अभियान का संगणकीय प्रस्तुतिकरण (पॉवरपॉईंट प्रेजेंटेशन) भी किया था। तब श्री. राव ने इस उपक्रम की प्रशंसा कर इस अभियान में प्रशासनद्वारा सहयोग देने का आश्‍वासन दिया था। उन्होंने तुरंत इस उपक्रम की प्रसिद्धि का, साथ ही शासकीय कर्मचारियों को पर्यावरण रक्षा के इस अभियान में सम्मिलित होने का आदेश दिया।

जिलाधिकारी को ज्ञापन प्रस्तुत करते समय धर्माभिमानी सर्वश्री हणमंत आंबावडेकर, सुधाकर संगनवार एवं सुरेंद्रकुमार उपस्थित थे।

प्रशासनद्वारा इस अभियान का संज्ञान लेकर जलप्रदूषण को रोकने की दृष्टि से दिया गया आदेश एवं इस अभियान को सफल बनाने हेतु ली गई प्रधानता प्रशंसनीय है। हिन्दू जनजागृति समिति के श्री. अभिजीत देशमुख ने ऐसी प्रतिक्रिया व्यक्त की।

संदर्भ : दैनिक सनातन प्रभात