एक्जिमा जैसे त्वचारोगों (‘फंगल इन्फेक्शन’) का सरल उपचार

ill allergic rash dermatitis eczema skin of patient; Shutterstock ID 522715072

ऊसंधि (जांघ और पेट के मध्य का भाग), कांख, जांघ और कूल्हों पर जहां पसीने के कारण त्वचा नम रहती है, वहां कभी-कभी खुजली और छोटी-छोटी फुंसियां होती हैं । उनके फैलने से गोल ददोडे (रिंग वर्म) निर्माण होते हैं । इन ददोडों पर आगे दिए दोनों उपचार करें ।

१. विकारग्रस्त त्वचा प्रतिदिन दिन में २ – ३ बार केवल पानी से धोकर सूखे वस्त्र से पोछें और ददोडों पर अपनी लार लगाएं । ऐसा करने से ये ददोडे ८ – १० दिन में पूर्णतः ठीक हो जाते हैं । इन दिनों में पूर्ण शरीर में साबुन न लगाएं ।

२. ‘ॐ पां पार्वतीभ्यां नमः’ और ‘ॐ वां वागीश्‍वरीभ्यां नमः’, इन २ मंत्रजपों से पानी अभिमंत्रित कर उसे प्राशन करें और विकारग्रस्त त्वचा पर भी लगाएं । पानी अभिमंत्रित करने के लिए तांबे के अथवा कांच के बरतन में थोडा पानी लेकर उसमें दाहिने हाथ की पांचों उंगलियां डुबोकर उपर्युक्त प्रत्येक मंत्र का २१ बार उच्चारण करें ।’

– वैद्य मेघराज माधव पराडकर, महर्षि अध्यात्म विश्‍वविद्यालय, गोवा.

स्रोत : पाक्षिक सनातन प्रभात