गुरुप्राप्तिपूर्व एवं पश्‍चात, आध्यात्मिक उन्नति किस पर निर्भर है ?

जिस साधक को गुरुप्राप्ति नहीं हुई, उसकी प्रगति वर्ष में साधारणतः ०.२५ प्रतिशत हो सकती है और वह भी अधिकाधिक ५०-५५ प्रतिशत स्तरतक; जबकि गुरु के मार्गदर्शनानुसार साधना करनेवाला वर्ष में २-३ प्रतिशत प्रगति कर सकता है और उसका ८०-१०० प्रतिशत स्तरतक पहुंचना सम्भव है ।

 

शिष्य की अधोगति किन कारणों से होती है ?

१. गुरु के बताए गुरुमंत्र का जप न करने पर उस मंत्र एवं गुरु का भी अपमान होता है ।

२. गुरु के विषय में परिहासपूर्ण बोलने से शिष्य की अधोगति होती है । हम जैसे अपने माता-पिता के विषय में परिहास नहीं करते, उसी प्रकार गुरु के विषय में भी न बोलें ।

३. गुरु के नाम का दुरुपयोग करना

१. मुंबई के प.पू. जोशीबाबा के गुरु बापू महाराज पत्र-लेखन हेतु एक शिष्य को पत्र का सार स्वयं सुनाते और वह शिष्य सार के आधार पर पत्र लिखकर भेज देता था । बापू यदि कहते कि इस शिष्य को ये वस्तु, उदा. पंखा भेजने के लिए पत्र द्वारा सूचित करो, तो वह शिष्य पत्र में दो पंखों की मांग करता । एक पंखा बापू को देता एवं दूसरा अपने लिए रख लेता ।

२. बापू का घर जीर्ण-शीर्ण अवस्था में था । ‘नए घर के निर्माण हेतु धन एकत्रित करना है’, ऐसे झूठ बोलकर एक शिष्य ने कई शिष्यों से धन एकत्रित किया ।

इन शिष्यों को आगे अत्यधिक कष्ट सहने पडे ।

गुरुनिंदा एवं गुरुद्रोह क्या है ? गुरु के परित्याग का परिणाम क्या होता है ?

शास्त्र में बताए गुरुद्रोह आगे दिए अनुसार हैं ।

१. गुरु को मनुष्य रूप समझना एवं व्यावहारिक दृष्टि से उनके साथ आचरण करना

२. गुरु का महत्त्व (मूल्य) उनकी बाह्य स्थिति से समझना

३. लोगों के बताने पर गुरु के विषय में मन कलुषित करना

४. गुरु से अनादरपूर्ण आचरण करना

५. गुरु से मित्रवत अथवा समतुल्य समझकर आचरण करना

६. गुरु की करुणा, प्रेम अथवा वे सहज उपलब्ध होने के कारण ‘अतिपरिचयात् अवज्ञा’ इस न्याय से उनकी अवज्ञा करना

७. गुरु से अहंकारपूर्ण आचरण करना

८. गुरु को हमारी आवश्यकता है, हमारा धन, ज्ञान, अनुभव अथवा मार्गदर्शन की आवश्यकता है, ऐसा लगना

९. केवल संकटनिवारण अथवा स्वार्थपूर्ति हेतु गुरु के पास जाना गुरु द्वारा त्यागा हुआ तीनों ही लोकों द्वारा त्यागे जाने के समान है ।

संदर्भ : सनातन-निर्मित ग्रंथ “शिष्य”