मीठे पदार्थ भोजन के प्रारंभ में खाने चाहिए या अंत में ?

हम भारतीय, पाश्‍चात्त्य पद्धति को उचित मानने लगे हैं । इस अनुचित धारणा में हम इतने दंग हैं कि केवल कपडे ही नहीं, अपितु जीवनपद्धति और आहार भी उनके समान ही करने लगे हैं । ‘स्वीट डिश’ यह उसी का एक प्रकार है । स्वीट डिश (मिष्ठान्न) विदेश में भोजन के अंत में खाने की पद्धति है । आयुर्वेद के अनुसार मिष्ठान्न अर्थात मीठे पदार्थ भोजन के आरंभ में खाने चाहिए । जिससे वात का शमन होता है तथा पचनक्रिया में बाधा नहीं आती ।

वर्तमान शास्त्रीय दृष्टि से विचार करने पर भी मिष्ठान्न का प्रथम सेवन (भोजन करते समय) अधिक शास्त्रीय है । मीठे पदार्थ पचने में भारी होते हैं । भोजन के आरंभ में उनका सेवन करने से पाचन उत्तम होता है तथा आगे का भोजन मर्यादित रहता है । इसके विपरीत भोजन के अंत में मीठे पदार्थ का सेवन करना तथा वे पदार्थ ठंडे खाना उचित नहीं है । इससे जठर का तापमान घटता है और पाचन ठीक से नहीं होता । इस कारण मीठे पदार्थ भोजन के प्रारंभ में अथवा भोजन के बीच-बीच में खाने चाहिए । भोजन के अंत में स्वीट डिश की पाश्‍चिमात्य प्रथा हमारे देश में निश्‍चित ही अनुचित (घातक) है ।

– वैद्य परीक्षित शेवडे, (एम.डी. आयुर्वेद), डोंबिवली

(वैद्य परीक्षित शेवडे के वॉट्सएप लेख के चुने हुए सूत्र ) 

Leave a Comment