शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में सनातन संस्‍था द्वारा ‘विशेष ऑनलाइन प्रवचन’ संपन्‍न !

सनातन संस्‍था की ओर से शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में ‘वर्तमान आपातकाल – सुरक्षित तथा आनंदमय जीवन हेतु अध्‍यात्‍म’ विषय पर ‘विशेष ऑनलाइन शिक्षक प्रवचन’ आयोजित हुआ ।

‘आपातकालीन परिस्थिति और तनाव पर उपाययोजना’ पर सनातन संस्था की डॉ. सायली यादव का मार्गदर्शन

वैद्यकीय उपचारों को अध्यात्म की जोड कैसे दें, उसका लाभ कैसे होता है आदि विविध शंकाओं का समाधान इस परिसंवाद से हुआ ।

समाज के लिए सनातन संस्था की ओर से ऑनलाईन प्रथमोपचार प्रशिक्षण उपक्रमों का आयोजन

यातायात बंदी के काल में अर्थात अप्रैल के पहले सप्ताह से जुलाई के पहले सप्ताह तक देशभर में ४० स्थानों पर ऑनलाईन वर्ग लिया गया । इसका १ सहस्र राष्ट्रप्रेमियों ने लाभ लिया । 

शिक्षकों के साधना करने पर वे सुजान नागरिक बनाने में महत्त्वपूर्ण योगदान दे सकेंगे ! – सद्गुरु (कु.) स्वाती खाडये, सनातन संस्था

सनातन संस्था की ओर से संगणकीय प्रणाली द्वारा शिक्षक शिविर का आयोजन किया गया था  ।

वर्तमान में ‘तनाव और उपाय’ इस विषय पर ‘ऑनलाईन पत्रकार संवाद’ कार्यक्रम में सनातन संस्था के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस का पत्रकारों को मार्गदर्शन

सनातन संस्था और हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से २७ जून को वर्तमानस्थिति में ‘तनाव और उपाय’ इस विषय पर पत्रकारों के लिए ‘ऑनलाईन पत्रकार संवाद’ आयोजित किया गया था ।

भावी पीढी पर योग्य संस्कार करने हेतु नई देहली में सनातन संस्था की ओर से ऑनलाईन बालसंस्कार वर्ग

नई देहली में सनातन संस्था की ओर से छोटे बच्चों के लिए ऑनलाईन बालसंस्कार वर्ग का आयोजन किया गया ।

पहरा देनेवाले पुलिसकर्मियों को ‘सनातन संस्था’ और ‘हिन्दू जनजागृति समिति’ द्वारा चाय और अल्पोपहार

‘लॉक डाउन’ बंदी के समय गोवा के फार्मागुडी और वारखंडे (फोंडा) में पहरा देनेवाली पुलिस को ‘सनातन संस्था’के साधक और ‘हिन्दू जनजागृति समिति’के कार्यकर्ताओं ने चाय और अल्पोपहार दिया ।

रंगपंचमी पर पुणे के खडकवासला जलाशय रक्षा अभियान में सनातन संस्था का सहभाग

हिन्दू जनजागृति समिति, सनातन संस्था और समविचारी संगठन की ओर से गत १८ वर्षों से चलाए जा रहे खडकवासला जलाशय रक्षा अभियान को इस वर्ष भी उत्तम प्रतिसाद मिला है ।

‘खडकवासला जलाशय रक्षा’ अभियान में सनातन संस्था का सक्रिय सहभाग

इस वर्ष भी सुबह ९ बजे से सायंकाल ७ बजेतक जलाशय के इर्द-गिर्द मानवीय शृंखला बनाई गई और रंगों में रंगे हुए युवक-युवतियों का उद्बोधन कर उन्हें जलाशय के पानी में उतरने से रोका गया ।

जीवन में आनंद प्राप्त करने हेतु साधना करना आवश्यक ! – श्रीमती धनश्री केळशीकर, सनातन संस्था

सत्संग, सत्सेवा, त्याग, प्रेमभाव इस चरणबद्ध प्रक्रिया से साधना करने से हम अपने जीवन में आनंद का अनुभव कर सकते हैं । सनातन संस्था की श्रीमती धनश्री केळशीकर ने यह मार्गदर्शन किया ।