गुरुकृपा होने के लिए गुरु पर पूर्ण श्रद्धा होना आवश्यक !

Guru_bhag1__bk

१. साधक यदि श्री श्री जयंतजी के श्रीचरणों में पूर्ण श्रद्धा और भक्ति रखेंगे तो केवल उनके अस्तित्व से ही सब कुछ संभव हो जाएगा ।

२. अध्यात्म के मार्ग पर चलना, धारदार तलवार पर चलने समान है । इसलिए गुरु का मार्गदर्शन अत्यावश्यक होता है ।

३. गुरु के बिना ज्ञान नहीं, ज्ञान के बिना शांति नहीं और शांति के बिना आनंद नहीं ।

४. गुरु की अवहेलना/निंदा करने से लगनेवाले पाप का क्षालन भगवान भी नहीं कर सकते ।

५. हम जितनी अधिक गुरु की सेवा करेंगे, उतना ही अधिक चैतन्य हमें मिलेगा ।

६. गुरु द्वारा उच्चारित प्रत्येक शब्द में संपूर्ण मानवजाति का कल्याण करने का सामर्थ्य है ।

७. ईश्‍वर की शरण में जानेपर वे हमें संपत्ति और समृद्धि देते हैं; परंतु गुरु की शरण में जानेपर वे हमें साक्षात ईश्‍वर की प्राप्ति करवाते हैं ।

८. गुरु के चरणकमल, प्रत्येक संकल्प पूर्ण करनेवाले चिंतामणी ही हैं ।

९. जन्मदाता (माता-पिता) हमें केवल अन्न देते हैं; परंतु गुरु हमें आत्मोद्धार का ज्ञान देते हैं ।

१०. गुरु के एक दृष्टिक्षेप से हमारे अनंत कोटि पापों का क्षालन होकर उनके अनंत कोटि कृपाशीर्वादों का हमपर वर्षाव होता है ।

११. ईश्‍वररूपी अमृत पीने के लिए गुरुरूपी पात्र की आवश्यकता होती है ।

१२. गुरुचरणकमल, अन्य किसी भी संपत्ति से सर्वश्रेष्ठ संपत्ति है ।

१३. गुरु शिष्य का सर्व अज्ञान दूर कर उसे प्रकाशमान बनाते हैं ।

१४. गुरु का आज्ञापालन सर्वोत्कृष्ट गुरुसेवा है ।

१५. गुरु की कृपा से किसी संपूर्णतः अज्ञानी व्यक्ति का भी भला होता है ।

१६. पिता से मिला जन्म व्यर्थ हो सकता है; परंतु गुरु द्वारा दिया गया ज्ञान कभी व्यर्थ नहीं जाता ।

१७. गुरु शब्द का खरा अर्थ ज्ञात न हो; तो जप, तप, व्रत, तीर्थाटन, योग और त्याग आदि सर्व व्यर्थ है ।

१८. ईश्‍वर पर श्रद्धा और गुरु पर भक्ति हो, तो कोई भी हमें पराजित नहीं कर सकता ।

१९. कृपालु गुरु के कारण हमें ईश्‍वर से एकरूप होने का मार्ग मिलता है ।

२०. नाम, प्रसिद्धि, शक्ति अथवा संपत्ति की अपेक्षा किए बिना गुरु की सेवा करनी चाहिए ।

२१. गुरु साक्षात ईश्‍वर का अवतार होने के कारण उनके मुख से निकलनेवाला प्रत्येक शब्द प्रत्यक्ष ईश्‍वर का ही होता है ।

२२. केवल गुरु ही हमारा प्रारब्ध नष्ट कर सकते हैं ।

२३. जो ज्ञान प्राप्त करने के लिए अनेक वर्षों तक साधना करनी पडती है, वह ज्ञान गुरु की एक दृष्टिक्षेप से एक क्षण में मिल जाता है ।

२४. गुरु की सेवा किए बिना उनकी कृपा प्राप्त होना संभव नहीं है ।

२५. गुरु के सामने ईश्‍वर अथवा कोई भी उच्च पद श्रेष्ठ नहीं है ।

२६. गुरुमंत्र का जप करनेवाले की ही आध्यात्मिक उन्नति होती है ।

२७. गुरु की कृपा से केवल आध्यात्मिक ही नहीं अपितु ऐहिक लाभ भी होता है ।

२८. इस विश्‍व में सबसे बडा ऐश्‍वर्य है – गुरु !

२९. गुरु की कृपा के बिना ईश्‍वर का आशीर्वाद भी नहीं मिलता ।

३०. गुरु के शब्दों पर पूर्ण श्रद्धा रखनेवाला ही साधना में निर्भयता से प्रगति कर सकता है ।

३१. संसार की किसी भी वस्तु की तुलना गुरु-शिष्य के मध्य की निरपेक्ष प्रीति से नहीं हो सकती ।
यदि किसी में लगन हो, तो उसे गुरु की कृपा अपनेआप मिलती है । गुरु को उसके लिए कुछ करना नहीं पडता । केवल संपूर्ण श्रद्धा होना आवश्यक है । गुरु ही उसे उसके लिए पात्र बनाते हैं ।

– पू. डॉ. ॐ उलगनाथन्, चेन्नई, तमिलनाडु (४.७.२०१६)