सांगली जनपद में संपन्न सामूहिक गुढी के कार्यक्रमों को मिला उत्स्फूर्त प्रतिसाद !

सांगली : सांगली जनपद के ईश्‍वरपुर के श्री रेणुका मंदिर, हनुमान मंदिर (उरण) तथा धोंडीराम महाराज मंदिर में सामूहिक गुढीपूजन किया गया । तासगाव तहसील के कौलगे तथा वासुंबे इन गांवों में भी सामूहिक गुढीपूजन किया गया । वासुंबे में गुढी पडवे के पहले दिन श्री. सचिन गुरव ने ध्वनिवर्धक से गुढी पाडवा का महत्त्व विशद किया, जो ग्रामवासियों को बहुत अच्छा लगा । उसके अनुरूप कई लोगों ने अपने घर में गुढी का पूजन किया ।

जत : मंगलवार पेठ के श्री बसवेश्‍वर मंदिर में सामूहिक गुढीपूजन किया गया । इस अवसरपर सनातन संस्था की श्रीमती विनया चव्हाण ने धर्मप्रेमियों का उद्बोधन किया ।

गुढीपडवा के उपलक्ष्य में सांगली जनपद के विविध स्थानोंपर मार्गदर्शन !

गुढी पडवे के उपलक्ष्य में जनपद के कदमबाडी (बत्तीसशिराळा), तुजारपुर, ईश्‍वरपुर, साथ ही सांगलीबाडी में सनातन संस्था तथा हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से मार्गदर्शन किया गया ।

कदमबाडी (बत्तीसशिराळा) में हिन्दू विधिज्ञ परिषद की अधिवक्ता (श्रीमती) भारती जैन ने मार्गदर्शन किया । इस अवसरपर श्री शिवप्रतिष्ठान हिन्दुस्थान के श्री. शिवराज आवटे तथा श्री. वैभव आवटे उपस्थित थे । ७५ धर्मप्रेमियों ने इस मार्गदर्शन का लाभ उठाया । इसके साथ ही जनपद के कुंडल, तासगाव, मिरज, विश्रामबाग जैसे १५ से भी अधिक स्थानोंपर मार्गदर्शन हुआ ।

मिरज की शोभायात्रा में हिन्दू जनजागृति समिति का सहभाग !

मिरज : हिन्दू नववर्ष के उपलक्ष्य में मिरज नगरी में विविध संगठन तथा संस्थाआें की ओर से शोभायात्रा का आयोजन किया गया । इस शोभायात्रा का आरंभ दत्त मंदिर से किया गया । इसमें विविध हिन्दुत्वनिष्ठ संगठन, राजनीतिक दलों के पदाधिकारी तथा कार्यकर्ताआेंसहित सामान्य हिन्दू भी पारंपरिक वेशभूषा में उत्साह के साथ सहभागी हुए । इस शोभायात्रा में हिन्दू जनजागृति समिति के कार्यकर्ता तथा सनातन संस्था के साधक भी सहभागी थे । उन्होंने हाथों में गुढी पडवे का महत्त्व विशद करनेवाले फलक पकडे थे । काशी विश्‍वेश्‍वर देवालय के निकट इस शोभायात्रा का समापन किया गया ।

समर्थ प्रतिष्ठान का ढोल दल, भारतमाता तथा छत्रपति शिवाजी महाराज का चित्ररथ, पारंपरिक वेशभूषा में पगडी परिधान कर सहभागी महिलाएं तथा ग्रंथयात्रा के कारण शोभायात्रा चैतन्यमय बनी । इस अवसरपर विविध प्रकार के साहसिक प्रदर्शन दिखाए गए । इसमें सर्वश्री राजाभाऊ शिंदे, पांडुरंग कोरे, संदीप पोरे, माधवराव गाडगीळ, राजू बेडेकर, अधिवक्ता किरण जाबशेट्टी तथा अधिवक्ता सौरभ वाटवे उपस्थित थे ।

स्त्रोत : दैनिक सनातन प्रभात