दत्तात्रेय के नामजपद्वारा पूर्वजों के कष्टोंसे रक्षण कैसे होता है ?

Shri Datta

सारिणी

१. अतृप्त पूर्वजोंद्वारा होनेवाले कष्टों के कारण तथा उसपर उपाय

अ. अतृप्त पूर्वजोंसे अपने रक्षण के लिए गुरुकृपा और कठोर साधना के अतिरिक्त अन्य पर्याय न होना |

आ. अतृप्त पूर्वज घर के सदस्यों को कष्ट क्यों देते हैं ?

इ. पूर्वजों की आसक्ति भूमि तथा घरमें होना |

२. दत्तात्रेय के नामजपद्वारा पूर्वजों के कष्टोंसे रक्षण कैसे होता है ?

अ. पूर्वजों को गति मिलना

आ. संरक्षक-कवच निर्मित होना

इ. दत्तात्रेय देवता का अनिष्ट शक्तियां बने पूर्वजों का नाश करना

३. पितृपक्ष में दत्तात्रेय देवता का नाम जपने का महत्त्व 


 

१. अतृप्त पूर्वजोंद्वारा होनेवाले कष्टों के कारण तथा उसपर उपाय

कलियुग में अधिकांश लोग साधना नहीं करते, अत: वे माया में फंसे रहते हैं । इसलिए मृत्यु के उपरांत ऐसे लोगों की लिंगदेह अतृप्त रहती है । ऐसी अतृप्त लिंगदेह मर्त्यलोक (मृत्युलोक) में फंस जाती है ।

 

अ. अतृप्त पूर्वजों से अपने रक्षणके लिए गुरुकृपा और कठोर साधना के अतिरिक्त अन्य पर्याय न होना |

‘कुछ मृत व्यक्तियों का अपने घरके सदस्यों – पत्नी, बच्चे तथा अन्यपर इतना प्रेम होता है कि उन्हें छोडकर मृत्यु के पश्चात आगेका प्रवास करना उन्हें कठिन लगता है । इस कारण जिस व्यक्तिमें लिंगदेह अटकी हुई है वह भी उसके साथ जाए, ऐसी उस लिंगदेहकी इच्छा होती है । जिस व्यक्तिमें यह लिंगदेह अटकी होती है, उस व्यक्तिके मनमें यह लिंगदेह आत्महत्या का विचार डालकर आत्महत्या करने को बाध्य करती है अथवा अपघात करवाना, रोग उत्पन्न करना, ऐसा कर उस व्यक्ति को मारकर अपने साथ ले जाती है । ऐसे हठी अतृप्त पूर्वजों से रक्षणके लिए गुरुकृपा और कठोर साधना के अतिरिक्त अन्य पर्याय नहीं ।

 

आ. अतृप्त पूर्वज घर के सदस्यों को कष्ट क्यों देते हैं ?

पूर्वज स्वयं अत्यंत कष्ट कर भूमि, घर, संपत्ति आदि अर्जित करते हैं । उनकी मृत्युके पश्चात उनकी वह संपत्ति उनके परिजनोंको मिलती है । परिजन यदि उस संपत्ति का विनियोग उचित ढंगसे न कर, अपव्यय करते हों, तो पूर्वजों को क्रोध आता है । परिणामस्वरूप वे अपने परिजनों को कष्ट देते हैं । कालांतरमें उनकी विपुल आर्थिक हानि होती है ।

 

उपाय : घरके सदस्यों को पूर्वजों द्वारा उपार्जित संपत्ति मिली हो, तो उसका सुयोग्य उपयोग करना चाहिए । उस संपत्ति का २० प्रतिशत भाग धर्मकार्य के लिए व्यय करना अथवा संतोंको दान करना चाहिए । इस दानसे पूर्वज और परिजनों को साधना का फल प्राप्त होकर पूर्वजों को सद्गति मिलती है तथा परिजनों का कष्ट दूर होता है ।

 

इ. पूर्वजों की आसक्ति भूमि तथा घरमें होना |

कुछ पूर्वजों की आसक्ति उनकी भूमि तथा घर इत्यादिमें इतनी तीव्र होती है कि वे आगे के लोकमें जानेके स्थानपर भुवलोकमें ही अटककर अपनी भूमि तथा घरमें रहते हैं । कुछ पूर्वजों की आसक्ति इतनी तीव्र होती है कि उनके परिजन यदि उस घरकी रचनामें कुछ परिवर्तन करें अथवा वह बेचें अथवा वहांपर नया घर बनाने के लिए उसे तोडें, तो वे क्रुद्ध होकर कष्ट देते हैं ।

 

उपाय : वास्तुशुद्धि और नामजप करने तथा घर के सर्व सदस्यों के साधना करनेपर उनकी और वास्तु की सात्त्विकता बढनेसे पूर्वज घरमें प्रवेश नहीं कर पाते और उनकेद्वारा होनेवाले कष्ट से घरके सदस्यों का रक्षण होता है । इस विषय में नामजप काैनसा करना चाहिए यह आगे दिया है ।

 

२. दत्तात्रेय के नामजपद्वारा पूर्वजों के कष्टों से रक्षण कैसे होता है ?

अ. पूर्वजों को गति मिलना

ऊपरोल्लेखित शास्त्रानुसार कलियुग में अधिकांश लोग साधना नहीं करते, अत: वे माया में फंसे रहते हैं । इसलिए मृत्युके उपरांत ऐसे लोगों की लिंगदेह अतृप्त रहती है । मृत्युलोकमें फंसे पूर्वजों को दत्तात्रेयके नामजप से गति मिलती है; वे अपने कर्मानुसार आगे के लोक की ओर अग्रसर होते हैं । अतः स्वाभाविक ही उनसे संभावित कष्ट न्यून (कम) हो जाते हैं ।

 

आ. संरक्षक-कवच निर्मित होना

दत्तात्रेय के नामजप से निर्मित शक्तिद्वारा नामजप करनेवाले के आसपास संरक्षक-कवच निर्माण होता है ।

 

इ. दत्तात्रेय देवता का अनिष्ट शक्तियां बने पूर्वजों का नाश करना

मनुष्यको कष्ट देनेवाले पूर्वज अर्थात पूर्वज- अनिष्ट शक्तियोंके पापका घडा भर जानेपर दत्तात्रेय देवता उन्हें दंड देते हैं । पूर्वजदोष के (पितृदोष के) कष्टोंकी तीव्रताके अनुसार दत्तात्रेय देवता का नामजप करना वर्तमान काल में लगभग सभी को पूर्वजदोष का कष्ट है, इसलिए ‘श्री गुरुदेव दत्त ।’ नामजप प्रत्येक व्यक्ति को प्रतिदिन २ घंटे, मध्यम स्वरूप के कष्ट के लिए ४ घंटे और यदि तीव्र स्वरूप का कष्ट हो, तो ६ घंटे करें ।

 

३. पितृपक्ष में दत्तात्रेय देवताका नाम जपने का महत्त्व

पितृपक्ष में श्राद्ध विधि के साथ-साथ दत्तात्रेय देवता का नामजप करने से पूर्वजदोष का कष्टसे रक्षण होनेमें सहायता मिलती है । इसलिए पितृपक्ष में दत्तात्रेय देवता का नामजप न्यूनतम ६ घंटे करें ।

 

दत्तात्रेय देवता के नामजप से हुई कुछ अनुभूतियां

अ. दत्तात्रेय देवता का नामजप करते समय पूर्वज संतुष्ट दिखाई देना तथा सिरपर हाथ रखकर आशीर्वाद देना |

‘१८.९.२००५ को प्रातः ४.३० बजे दत्तात्रेय का नामजप करते समय मुझे अपनी दादी, नाना-नानी, भाई, बुआ, सगे एवं चचेरे ससुर, सबकी लिंगदेह दिखाई दीं । मुझसे हो रहे नामजपसे वे संतुष्ट दिखाई दिए । प्रत्येकने अपने दोनों हाथ मेरे सिरपर रखकर आशीर्वाद दिए व ‘तुम्हारा भला हो !’ कहकर वे सब चले गए । संपूर्ण दिन मुझे आनंदका अनुभव होता रहा ।’ – श्रीमती सुजाता कुलकर्णी, सांगली, महाराष्ट्र.

आ. पितृपक्ष में किए दत्तात्रेय के नामजप के कारण, बंद
होने की स्थितिमें आए दुग्धालय (डेरी) की कायापलट होना |

‘मेरे पति कई वर्षोंसे दुग्धालय में नौकरी करते हैं । गत कुछ महिनों से दुग्धालय बंद होनेकी स्थितिमें था । इससे घरमें तनाव हो रहा था । पितृपक्षमें मैं ‘श्री गुरुदेव दत्त ।’ नामजप करने लगी । तत्पश्चात दुग्धालयमें अचानक दूध की भरपूर आपूर्ति होने लगी । नामजप प्रारंभ करनेसे घरमें वातावरण भी तनावरहित हो गया । इस घटनासे पूर्व सब लोग कह रहे थे कि दुग्धालय बंद ही हो जाएगा; परंतु दत्तात्रेय देवता की कृपा से यह संकट टल गया ।’

संदर्भ : सनातन-निर्मित ग्रंथ ‘श्राद्ध (महत्त्व एवं शास्त्रीय विवेचन)’