कश्मीर घाटी के कई वर्षों से बंद कुछ मंदिरों की जानकारी

केंद्र सरकार ने हाल ही में कश्मीर घाटी में कई वर्षों से बंद ५० सहस्र मंदिरों के सर्वेक्षण की घोषणा की है । केंद्र सरकार द्वारा धारा ३७० हटाने के कारण इन मंदिरों के हिन्दुओं के लिए खोलने की संभावना उत्पन्न हुई है । ‘रूट्स इन कश्मीर’के प्रवक्ता अमित रैना ने बताया, ‘‘वर्ष १९८६ के पश्‍चात धर्मांधों ने कश्मीर के कई मंदिरों को अपना लक्ष्य बनाया था । इसके कारण मंदिरों का रखरखाव देखनेवाले कई हिन्दुओं को कश्मीर घाटी छोडकर पलायन करना पडा था । वर्तमान स्थिति में उन मंदिरों के केवल ढांचे ही शेष बचे हैं ।’’ इस परिप्रेक्ष्य में कश्मीर के कुछ मंदिरों की वर्तमान स्थिति की जानकारी दे रहे हैं ।

 

खीर भवानी मंदिर

श्रीनगर से ३० कि.मी. स्थित गंदेरबल जनपद के तुल्लमुल्ल गांव में कश्मीरी पंडितों की इष्टदेवता श्री राग्न्यादेवी का मंदिर है । यहां प्रतिवर्ष खीर भवानी महोत्सव मनाया जाता है । आतंकियों द्वारा इस क्षेत्र में निरंतर आक्रमण किए जाने के कारण प्रशासन ने इस मंदिर को बंद किया था ।

 

श्री भवानी मंदिर

कश्मीर के अनंतनाग जनपद में भवानी मंदिर है । वर्ष १९९० में जब कश्मीरी पंडितों ने घाटी छोड दी; तब से इस मंदिर की देखभाल नहीं होती । वर्तमान में इस मंदिर का केवल ढांचा ही शेष है ।

 

श्री त्रिपुरसुंदरी मंदिर

कुलगाम जनपद के देवसर क्षेत्र में त्रिपुरसुंदरी मंदिर है । इस मंदिर की देखभाल करनेवालों ने बताया कि आतंकियों द्वारा दी जानेवाली धमकियों के कारण इस मंदिर में प्रतिदिन पूजा-अर्चना नहीं होती ।

 

श्री ज्वालादेवी मंदिर

पुलवाम से २० कि.मी. की दूरीपर स्थित खरेव गांव में ज्वालादेवी का मंदिर है, जो कई वर्षों से बंद है । यह मंदिर कश्मीरी पंडितों की इष्टदेवता का मंदिर है ।

कश्मीर के मार्तंड सूर्य मंदिर के अवशेष

 

श्री मार्तंड सूर्य मंदिर

दक्षिणी कश्मीर के मार्तंड नामक क्षेत्र में स्थित यह मंदिर १५०० वर्ष पुराना है । महाराजा अशोक के पुत्र ने इस मंदिर का निर्माण किया था । ऐसा कहा जाता है कि सूर्य की पहली किरण आते ही राजा अपनी दिनचर्यो का आरंभ इस मंदिर में पूजा-अर्चना कर करता था । वर्तमान में यह मंदिर जीर्ण हुआ है और अब उसकी केवल २५ फीट ऊंचाई ही शेष बची है ।

 

नारनाग मंदिर

गंदेरबल जनपद के कंगन जनपद में नारनाग मंदिर है । भगवान शिवजी का यह मंदिर १५०० वर्ष पुराना है । पिछले वर्ष इस मंदिर में तोडफोड की गई थी ।

 

शीतलेश्‍वर मंदिर

श्रीनगर के हब्बा कदल में शीतलेश्‍वर मंदिर है, जो २ सहस्र वर्ष पुराना है । इस मंदिर की भी देखभाल नहीं की जाती ।

 

मट्टन

श्रीनगर से ६१ कि.मी. दूरीपर मट्टन नामक यह स्थान हिन्दुओं के लिए पवित्र स्थली माना जाता है । यहां एक शिवमंदिर और झरना है । यह मंदिर भी पिछले कई वर्षों से बंद है ।

स्रोत : दैनिक सनातन प्रभात