भीषण आपातकाल की तीव्रता, उसका स्वरूप एवं ईश्वर से मिलनेवाली सहायत, इस विषय में प्राप्त सूक्ष्मज्ञान

कुछ त्रिकालदर्शी (द्रष्टा) संत, परात्पर गुरु डॉक्टर आठवले एवं भविष्यवेत्ता अनेक वर्षाें से जिस भीषण आपातकाल के विषय में बता रहे थे, उसका आरंभ हो चुका है ।

लेखिका सिल्विया ब्राउन ने १२ वर्ष पूर्व लिखी एक पुस्तक में न्यूमोनिया समान रोग फैलने की संभावना व्यक्त की थी !

लेखिका सिल्विया ब्राउन ने १२ वर्ष पूर्व वर्ष २००८ में एक पुस्तक ‘एन्ड ऑफ डेज् : प्रीडिक्शन एंड प्रोफेसीज अबाउट दि एन्ड ऑफ द वर्ल्ड’ लिखी थी, जिसमें उन्होंने लिखा है, ‘वर्ष २०२० में पूरे विश्व में न्यूमोनिया समान रोग का संसर्ग फैल सकता है ।

आपातकाल और सनातन धर्म की पुनर्स्थापना के विषय में विविध संतों और भविष्यवक्ताओं द्वारा की गई भविष्यवाणी

अब कलियुगांतर्गत कलियुग समाप्त होने जा रहा है और सत्ययुग आनेवाला है । अधर्म की परिसीमा लांघनेवाले मनुष्य ने स्वयं ही स्वयं के विनाश का मार्ग रेखांकित कर रखा है । अधर्म का नाश होने हेतु कोई न कोई महाभारत घटित होता ही है ।

बाबा वेंगा की वर्ष २०२२ के लिए भविष्यवाणी !

वैश्विक तापमान बढने का परिणाम भारत पर भी होने वाला है । इस कारण देश के अनेक भागोें का तापमान लगभग ५० अंश सेल्सियस के आसपास पहुंचेगा ।

हिन्‍दू राष्‍ट्र की स्‍थापना वर्ष २०२५ तक होगी ! – परात्‍पर गुरु डॉ. आठवलेजी

पूर्वानुमान से संतों ने बताया हुआ आपातकाल भले ही आगे गया हो, तब भी उसका आरंभ कभी भी हो सकता है । कोरोना जैसी महामारी के माध्यम से हमने इसका अनुभव लिया ही है । तीसरे विश्वयुद्ध का आरंभ कभी भी हो सकता है । इसलिए साधक आपातकाल की तैयारी जारी रखें ।

सूर्यग्रहण के कारण विश्व में युद्धजन्य स्थिति उत्पन्न हो सकती है !- ज्योतिष की भविष्यवाणी

समाचार वाहिनी ‘आज तक’ द्वारा प्रसारित किए गए ज्योतिषाचार्य कमल नंदलाल के भविष्य कथन के अनुसार, ‘इस ग्रहण का पूरे विश्व में अनिष्ट परिणाम दिखाई देनेवाला है ।

बृहस्पति ग्रह के राशि परिवर्तन से भारत सहित संपूर्ण विश्व में युद्ध की स्थिति उत्पन्न हो सकती है ! – ज्योतिर्विद पंडित दिवाकर त्रिपाठी, निदेशक, ‘उत्थान’ ज्योतिष संस्थान

आनेवाली ५ अप्रैल को प्रातः ५ बजे बृहस्पति ग्रह अपनी राशि में परिवर्तन करेंगे । वर्तमान में मकर राशि में स्थित यह ग्रह, कुंभ राशि में प्रवेश करेगा । अगले १३ माहों तक बृहस्पति ग्रह इस राशि में रहेगा । ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, बृहस्पति ग्रह के राशि परिवर्तन को एक महत्वपूर्ण घटना माना जाता है । यह परिवर्तन व्यक्तियों, समाजों एवं देशों को प्रभावित करता है ।

६ मई २०२१ को लघुग्रह टकराकर पृथ्वी नष्ट होगी ! – नास्त्रेदमस की भविष्यवाणी

६ मई २०२१ को पृथ्वी से एक लघुग्रह टकराएगा और उससे संपूर्ण विश्व का नाश हो सकता है, ऐसी भविष्यवाणी प्रसिद्ध भविष्यवेत्ता नास्त्रेदमस ने की है । अब यह भविष्यवाणी कितनी सत्य सिद्ध होगी, यह देखना होगा । नास्त्रेदमस ने वर्ष ३७९७ तक का भविष्य बता रखा है ।

भविष्य में वातावरण बदलने से और जैविक आतंकवाद के कारण लाखों लोगों की मृत्यु होगी ! – बिल गेट्स की चेतावनी

भविष्य में वातावरण बदलने से और जैविक आतंकवाद इन २ कारणों से लाखों लोगों की मृत्यु होगी । विश्व को समाप्त करने के उद्देश्य से कोई भी नए विषाणु की निर्मिति कर सकता है । वर्तमान में विश्व भर में चर्चित कोरोना विषाणु की अपेक्षा इन २ कारणों से विश्व में हाहाकार मचेगा, ऐसी भविष्यवाणी मायक्रोसाफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स ने की है ।

प्राकृतिक आपदाओं की तीव्रता के संदर्भ में संतों का द्रष्टापन तथा उनका कार्य

इस लेख में प्राकृतिक आपदाओं का वर्तमानकाल में भयानक स्वरूप, संतों द्वारा उनके संदर्भ में बताए गए सूत्र और उनका पालन न करने से उत्पन्न दुःस्थिति, साथ ही तीव्र संकटकाल में भी समष्टि की रक्षा हेतु संत किस प्रकार से कार्यरत हैं ?, इन सूत्रों को रखने का प्रयास किया गया है ।