परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के देह से बचपन में प्रक्षेपित होनेवाली चैतन्य की अनुभूति

पूत के पांव पालने में ही दिख जाते हैं, इस उक्ति के अनुसार परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के देह में से बचपन से ही चैतन्य का प्रक्षेपण हो रहा है । अध्यात्म क्षेत्र के अधिकारी व्यक्ति को, साथ ही सूक्ष्म आयाम को समझने की क्षमता से युक्त व्यक्ति को वह चैतन्य अनुभव होता है । जबं परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी २ वर्ष के थे, तब का यह छायाचित्र है । परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के इस छायाचित्र का सूक्ष्म-परीक्षण, ६७ प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर प्राप्त कु. प्रियांका लोटलीकर ने किया तथा उसी छायाचित्र के अनुसार चेन्नई की सनातन की साधिका ६८ प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर प्राप्त श्रीमती उमा रविचंद्रन् द्वारा बनाया गया । परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी की स्थूल-स्तरीय विशेषताएं दर्शानेवाला छायाचित्र भी यहां प्रकाशित कर रहे हैं । इसी से परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी में बचपन में ही कार्यरत चैतन्य की अनुभूति की प्रचीति ले सकते हैं ।

परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी के बचपन के छायाचित्र का सूक्ष्म-परीक्षण

Leave a Comment

Click Here to read more …