रासायनिक अथवा जैविक कृषि नहीं, अपितु प्राकृतिक कृषि अपनाइए ! (भाग २)

Article also available in :

अनुक्रमणिका

रासायनिक अथवा जैविक कृषि नहीं, अपितु प्राकृतिक कृषि अपनाइए ! (भाग १)

आणंद, गुजरात में प्राकृतिक कृषि के विषय पर राष्ट्रीय परिषद संपन्न हुई । इस परिषद में गुजरात के मा. राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने प्राकृतिक कृषि पर अपने अनुभवकथन किए । लेख के पहले भाग में आचार्य देवव्रत रासायनिक एवं जैविक इन कृषि पद्धतियों से प्राकृतिक खेती की ओर कैसे मुडे, इसके साथ ही रासायनिक खेती करने से उनकी बटाई पर दी हुई १०० एकड भूमि कैसे बंजर हो गई, यह देखा । अब इसका अगला भाग इस लेख में देखेंगे !

 

१०. आचार्य देवव्रतजी ने कृषि वैज्ञानिकों के खर्चीले एवं समय लेनेवाले विकल्प अस्वीकार कर, प्राकृतिक पद्धति से भूमि पुन: उपजाऊ करने का निश्चय करना

मैंने (आचार्य देवव्रत) डॉ. हरी ओम से पूछा, ‘‘अब मैं क्या करूं’’ इस पर उन्होंने आगे दिया उपाय सुझाया । ‘अमुक मात्रा में यूरिया, डीएपी, फॉस्फरस, जिंक, पोटैश जैसे रासायनिक द्रव्यों के साथ ही हरियाली से बनी खाद मिट्टी में मिलाएं । इसप्रकार नियमितरूप से करें । फिर अगले २० से ३० वर्षाें में तुम्हारी भूमि धीरे-धीरे उपजाऊ होती जाएगी ।’ इतने दीर्घ काल का प्रकल्प ! मेरी १०० एकड भूमि बंजर (अनउपजाऊ) हो गई थी । मैंने कहा, ‘‘डॉक्टर, आपने जो सूची बनाई है, वही सब डालने से ही तो भूमि बंजर हो गई है । अब आप वही सब मुझे करने के लिए बता रहे हैं ।’’ वे बोले, ‘‘आप और क्या करेंगे ?’’ मैंने कहा, ‘‘उर्वरित भूमि पर मैं जो ‘प्राकृतिक खेती’ करता हूं, वही करूंगा ।’’ तब तक उन्हें इस प्राकृतिक खेती के विषय में जानकारी नहीं थी । वे बोले, ‘‘गोबर और गोमूत्र से क्या होगा ?’’ मैंने कहा, ‘‘मैं करके देखता हूं । कुछ भी नहीं हुआ, तो पुन: आपके पास आऊंगा ।’’

 

११. बंजर भूमि पर भी जीवामृत के उपयोग से पहले वर्ष से ही काफी अच्छी उत्पन्न होना

१५.४.२०१७ को किसानों ने मेरी १०० एकड भूमि छोड दी थी । उसमें कुछ भी उर्वरता शेष नहीं थी । १५.६.२०१७ को मैंने उसमें प्रति एकड ५ कुंटल घनजीवामृत डालकर धान लगाया (चावल की खेती की ) । प्रत्येक बार पानी के साथ जीवामृत दिया और उसपर छिडकाव भी किया । २ माह में धान की खेती बढने लगी और जब उसकी कटाई हुई तब प्रति एकड २६ से २८ कुंटल धान की पैदावार हुई । इसे मैंने डॉ. हरि ओम को दिखाया । वे चकित हो गए और बोले, ‘‘यह कैसे संभव है ? जैविक कर्ब अत्यल्पवाली भूमि, अर्थात अनउपजाऊ बंजर भूमि में इतनी पैदावार ’’ वे चले गए । मैंने अगले वर्ष भी यही किया । इस बार भी जीवामृत एवं घनजीवामृत का उपयोग जारी रखा । इस बार इसी खेत में लगभग ३२ कुंटल धान (चावल) की उत्पन्न हुई ।

 

१२. जिवामृत के उपयोग से भूमि की जैविक कार्बन की मात्रा काफी बढी देख कृषि वैज्ञानिक भी आश्चर्यचकित होना

जब ३२ कुंटल धान की उत्पन्न हुई, तब डॉ. हरी ओम को विश्वास ही नहीं हो रहा था ! वे बोले, ‘‘यह तो चमत्कार है ! यह अनाकलनीय है । मैंने अब तक कृषिशास्त्र का जो अभ्यास किया है, उसके अनुसार ऐसा हो ही नहीं सकता । अब मैं अपने वैज्ञानिकों को बुलाकर तुम्हारी भूमि की पुन: जांच करवाकर देखूंगा ।’’ उन्होंने पुन: उस भूमि के सैकडों नमूने लिए और विद्यापीठ को भेजे । रिपोर्ट आई । एक ही वर्ष के उपरांत मेरी भूमि की जैविक कार्बन की मात्रा ०.३ से ०.८ तक बढ गई थी । जब यह ब्योरा सामने आया, तब वे पहले से भी अधिक आश्चर्यचकित हो गए । वे बोले, ‘‘रासायनिक खेती में जैविक कार्बन एक वर्ष में इतनी बढ ही नहीं सकती ! विश्व का कोई भी वैज्ञानिक यह मान्य ही नहीं करेगा कि ‘एक वर्ष में जैविक कार्बन की) मात्रा ०.३ से ०.८ तक बढ गया है ।’ यह वास्तव में आश्चर्य है !’’

 

१३. मित्र कीटकों को नष्ट करनेवाली रासायनिक खेती

रसायनशास्त्र के वैज्ञानिक यह सत्य मान्य ही नहीं करेंगे । जैविक कार्बन बढाने का काम खेत के जिवाणु, केंचुए एवं मित्र कीटक करते हैं । रासायनिक खेती के कारण ये जीवाणु मारे जाते हैं । फिर जैविक कार्बन कैसे बढेगा ?

 

१४. एक ग्राम में ३०० करोड से भी अधिक खेती के लिए उपयुक्त सूक्ष्म जीवाणु युक्त देसी गाय का गोबर किसानों के लिए वरदान !

डॉ. हरी ओम ने डॉ. बलजीत सारंग को इस पर अध्ययन में साथ लिया । वर्तमान में डॉ. बलजीत सारंग हिस्सार कृषि विद्यापीठ, हरियाणा में सूक्ष्मजीवशास्त्र के वरिष्ठ प्राध्यापक हैं । उन्होंने अनेक वर्ष अमेरिका, इंग्लैंड एवं जर्मनी में सूक्ष्मजीवशास्त्र के वैज्ञानिकों के साथ काम किया है । वे उनके सहयोगियों के साथ मेरे गुरुकुल में आए और उन्होंने जीवामृत पर शोधकार्य किया । उन्होंने देसी गाय, भैंस के साथ-साथ ‘जर्सी’ एवं ‘होल्स्टीन फ्रीजियन’ इन विदेशी गायों के गोबर के भी नमूने लिए । सभी पर अनेक महीने अलग-अलग शोध किए । जिसमें उन्होंने पाया कि देसी गाय के १ ग्राम गोबर में खेती के लिए उपयुक्त ऐसे ३०० करोड से भी अधिक सूक्ष्म जीवाणु होते हैं । साहिवाल, थारपारकर, राठी, गीर, हरियाणवी, लाल सिंधी, कांकरेज, ओंगल इत्यादि सभी भारतीय वंश के गायों के गोबर की गुणवत्ता लगभग एकसमान ही होती है; परंतु विदेशी वंश की गाय और भैंस के गोबर में इतनी बडी मात्रा में खेती के लिए उपयुक्त जीवाणु नहीं होते । ‘देसी गाय का मूत्र तो खनिजों का भंडार है’, ऐसा भी उन्होंने शोध में पाया । पाळेकर गुरुजी ने ऐसा शोध अनेक बार किया है । इसलिए एक संपूर्ण सत्य जगत के सामने उजागर हुआ है ।

 

१५. जीवामृत बनाने की पद्धति एवं उसका आधारभूत शास्त्र

एक एकड खेती के लिए लगनेवाला जीवामृत बनाने के लिए २०० लीटर का ड्रम लें । ड्रम छाया में रखकर उसमें लगभग १८० लीटर पानी भरें । उसमें डेढ से २ किलो गुड, किसी भी दाल का डेढ से २ किलो आटा, १ मुठ्ठी मिट्टी, देसी गाय का १० किलो गोबर, इसके साथ ही देसी गाय का १० लीटर मूत्र, यह सब मिलाकर उस पानी में डाल दें । विचार करें, १ ग्राम गोबर में ३०० करोड जीवाणु होते हैं, तो १० किलो गोबर में कितने जीवाणु होंगे ! इन जीवाणुओं को दाल के आटे के रूप में प्रथिनें (protein) मिलती है । इससे वे बलवान होते हैं । गुड के कारण उन्हें ऊर्जा मिलती है और उनकी संख्या बढती जाती है । मिट्टी में विद्यमान जीवाणुओं से संपर्क में आने पर, तो वे इतने बढ जाते हैं कि प्रति २० मिनटों में उनकी संख्या दुगुनी हो जाती है । ७२ घंटों में उनकी मात्रा असंख्य हो जाती है और १ एकड भूमि के लिए खाद तैयार हो जाता है ।

 

१६. जीवामृत पेड-पौधों के लिए अन्न बनाने का काम करनेवाले जीवाणुओं का जामन

(जामन अर्थात दूध से दही जमाने के लिए थोडा सा दही)

विश्व में इस प्रकार से ४ – ५ दिनों में तैयार होनेवाला दूसरा खाद नहीं ! देसी गाय के एक दिन के गोबर और मूत्र से १ एकड खेती के लिए जीवामृत तैयार होता है । जब इसका खेत के जीवाणुओं से संयोग होता है, तब वे जामन का काम करते हैं । उससे असंख्य जीवाणु तैयार होते हैं । हवा में ७८ प्रतिशत नाइट्रोजन होता है । ये जीवाणु हवा में विद्यमान नाइट्रोजन खींच लेते हैं और पेड-पौधों को अन्न के रूप में उपलब्ध करवाते हैं ।

रासायनिक अथवा जैविक कृषि नहीं, अपितु प्राकृतिक कृषि अपनाइए ! (भाग ३)

Leave a Comment

Download ‘गणेश पूजा एवं आरती’ App