लोहडी

लोहडी का त्यौहार पंजाबियों तथा हरियाणवी लोगों का प्रमुख त्यौहार माना जाता है । यह लोहडी का त्यौहार पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, जम्मू काश्मीर और हिमाचल में धूम धाम तथा हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता हैं । यह त्यौहार पौष मास की अंतिम रात्रि और मकर संक्राति की पूर्वसंध्या को हर वर्ष मनाया जाता हैं ।

इसे सर्दियों के जाने और बसंत के आने के संकेत के रूप में भी देखा जाता है । लोहडी (Lohri) पर्व रबी की फसल की बुनाई और कटाई से जुड़ा हुआ है । किसान इस दिन रबी की फसल जैसे मक्का, तिल, गेहूं, सरसों, चना आदि को अग्नि को समर्पित करते है और भगवान का आभार प्रकट करते है ।

लोहडी की शाम को लोग प्यार और भाईचारे के साथ लोकगीत गाते है और किसी खुले स्थान पर लकडियों और उपलों से आग जलाकर उसकी परिक्रमा करते है । ढोल और नगाडों के साथ नृत्य, भांगडा और गिद्दा भी देखने को मिलता है । आग के चारों ओर बैठकर रेवडी, गजक और मूंगफलियों का आंनद लिया जाता है । और इन्हें प्रसाद के रूप में सभी लोगों को बांटा जाता है । जिस घर में नयी नयी शादी या बच्चे का जन्म होता है, वहां खासतोर पर लोहडी धूमधाम से मनाई जाती है ।

लोहडी का त्यौहार दुल्ला भट्टी की कहानी से जुड़ा हुआ है । कहानी के अनुसार दुल्ला भट्टी बादशाह अकबर के शासनकाल के दौरान पंजाब में रहते थे । उन्होंने धनवान और जमीनदारों से धन लूटकर गरीबों में बांटने के साथ, जबरन रूप से बेचीं जा रही हिन्दू लडकियों को मुक्त करवाया । साथ ही उन्होंने हिन्दू अनुष्ठानों के साथ उन सभी लडकियों का विवाह हिन्दू लडकों से करवाने की व्यवस्था की और उन्हें दहेज भी प्रदान किया । जिस कारण वह पंजाब के लोगों के नायक बन गए । इसलिए आज भी लोहडी के गीतों में दुल्ला भट्टी का आभार व्यक्त करने के लिए उनका नाम अवश्य लिया जाता हैं ।

एक अन्य कथा के अनुसार कंस ने भगवान श्रीकृष्ण को मारने के लिए लोहिता नामक राक्षसी को भेजा था, जिसका वध कृष्ण ने खेल खेल में कर दिया । लोहिता के वध का आनंद मनाने के लिए लोगों द्वारा लोहडी का त्यौहार मनाया गया ।

लोहडी मनाने की मान्यता शिव और सती से भी जुड़ी है । कथा के अनुसार माता सती के आग में समर्पित होने के कारण लोहडी के दिन अग्नि जलाई जाती है ।

संदर्भ : Whatsknowledge.com