आपातकाल में जीवनरक्षा हेतु आवश्यक पूर्वतैयारी’ : भाग – २

हम कितना भी अनाज संग्रहित कर लें, वह धीरे-धीरे समाप्त होता है । ऐसे समय भूखा न रहना पडे, इसकी पूर्व तैयारी के लिए अनाज का रोपण, गोपालन आदि करना आवश्यक है ।

आपातकाल में जीवनरक्षा हेतु आवश्यक पूर्वतैयारी : भाग – १

आपातकाल में रक्षा हेतु व्यक्ति अपने बल पर कितनी भी तैयार रहे, भूकम्प, त्सुनामी समान महाभीषण आपत्तियों से बचने के लिए अन्ततः भगवान पर भरोसा करना ही पडता है ।

आपत्कालीन परिस्थिति का सामना करने के लिए की जानेवाली तैयारी

भारत में आनेवाले आपत्काल का सामना करने के लिए प्रशासन पर निर्भर न रहते हुए नागरिकों को अपने स्तर पर तैयारी करनी चाहिए ।

भावी भीषण आपात्काल का सामना करने हेतु विविध स्तरों पर अभी से प्रयास आरंभ करें !

घोर आपात्काल का आरंभ होने में अब कुछ महीने ही बचे हैं । अनेक नाडीभविष्य बताने वालों ने तथा द्रष्टा साधु-संतों ने वर्ष २०१९ के पश्चात धीरे-धीरे तीसरे महायुद्ध का आरंभ होने की बात कही है ।