श्रावण मास की जानकारी

१. नागपंचमी तिथि श्रावण शुक्ल पक्ष पंचमी इतिहास सर्पयज्ञ करनेवाले जनमेजय राजाको आस्तिक नामक ऋषिने प्रसन्न कर लिया था । जनमेजयने जब उनसे वर मांगनेके लिए कहा, तो उन्होंने सर्पयज्ञ रोकनेका वर मांगा एवं जिस दिन जनमेजयने सर्पयज्ञ रोका, उस दिन पंचमी थी । नागकी महिमा १. ‘शेषनाग अपने फन पर पृथ्वी को धारण करते … Read more

चातुर्मास का महत्त्व

चातुर्मासमें किए जानेवाले व्रतोंके कारण व्यक्तिके साथ साथ वायुमंडलकी सात्त्विकता भी बढती है । इस सात्त्विकताके प्रभावसे आसुरी शक्तियोंके आक्रमणकी तीव्रता घट जाती है ।