भोलापन, प्रीति और उत्कट राष्ट्र तथा धर्म प्रेम से युक्त फोंडा, गोवा के सनातन के संत पू. लक्ष्मणजी गोरेजी के सम्मान समारोह के प्रमुख सूत्र

पू. लक्ष्मण गोरेजी का भेंटवस्तु देकर सम्मान करते हुए सद्गुरु डॉ. मुकुल गाडगीळजी

रामनाथी (गोवा) – ६ दिसंबर २०२१ के दिन भोलापन, प्रीति और उत्कट राष्ट्र तथा धर्म प्रेम से युक्त फोंडा, गोवा के सनातन के ८० वर्षीय साधक श्री. लक्ष्मण गोरे सनातन के ११४ वें व्यष्टि संतपद पर विराजमान हुए । श्रीसत्शक्ति (श्रीमती) बिंदा सिंगबाळजी ने पू. गोरेजी के संतत्व के विषय में परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी का संदेश पढकर सुनाया ।

इस समय श्री. वैभव आफळे (पू. गोरेजी के जमाई) ने पू. गोरेजी की गुणविशेषताएं बताते हुए कहा कि ‘‘पू. गोरेजी का जब ६१ प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर घोषित हुआ था, तब उनमें बालभाव है, ऐसा ध्यान मेंआया । अभी ‘वे बालक जैसे निरागस हो गए हैं, यह ध्यान में आता है ।’’ पू. गोरेजी की बेटी श्रीमती गौरी आफळे ने कहा कि ‘‘परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी ने पिताजी के जीवन का ‘राममंदिर’ बनाया । प.पू. गुरुदेवजी ने पू. बाबा को योग्य मार्ग पर लाकर उनसे साधना करवाकर उनका उद्धार किया ।’

Leave a Comment

Click Here to read more …