हिन्दू राष्ट्र की स्थापना होनेतक धर्मसेवा करेंगे ! – सद्गुरु नंदकुमार जाधवजी, सनातन संस्था

शनिशिंगणापुर (महाराष्ट्र) में २ दिवसीय प्रांतीय हिन्दू अधिवेशन का आरंभ

सद्गुरु (श्रीमती) अंजली गाडगीळजी के करकमलों से दीपप्रज्वलन

बाईं ओर से दीपप्रज्वलन करती हुईं सद्गुरु (श्रीमती) अंजली गाडगीळजी, सद्गुरु नंदकुमार जाधवजी, श्री. सुनील घनवट एवं ह.भ.प. योगेश महाराज साळेगांवकर

शनिशिंगणापुर : क्रियाशील हिन्दुओं को हिन्दू राष्ट्र स्थापना की दिशा मिले; इस उद्देश्य से तीर्थस्थान शनिशिंगणापुर में हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से ४ जनवरी को २ दिवसीय प्रांतीय हिन्दू अधिवेशन का आरंभ हुआ । पहले दिन के पहले सत्र में सनातन संस्था के धर्मप्रचारक सद्गुरु नंदकुमार जाधवजी की वंदनीय उपस्थिति थी । सनातन संस्था की सद्गुरु (श्रीमती) अंजली गाडगीळजी के करकमलों से दीपप्रज्वलन कर अधिवेशन का उद्घाटन हुआ । इस अवसरपर व्यासपीठपर सेलू (परभणी) के राष्ट्रीय कीर्तनकार ह.भ.प. योगेश महाराज साळेगांवकर और हिंदु जनजागृती समिती के श्री. सुनील घनवट उपस्थित थे ।

अधिवेशन में उपस्थित हिन्दुत्वनिष्ठ

 

हिन्दू राष्ट्र की स्थापना होनेतक धर्मसेवा
करेंगे ! – सद्गुरु नंदकुमार जाधवजी, सनातन संस्था

धर्मरक्षा का कार्य करनेवालों को संत, देवी-देवता और भगवान श्रीकृष्णजी के आशीर्वाद प्राप्त होते हैं; इसलिए हम सभी तन-मन-धन समर्पित कर हिन्दू राष्ट्र की स्थापना होनेतक धर्मसेवा करेंगे । हम सभी इस अधिवेशन के २ दिनों में यहां विद्यमान ऊर्जा एवं चैतन्य ग्रहण कर आगे के धर्मकार्य के लिए प्रेरणा लेकर जाएंगे । सद्गुरु नंदकुमार जाधवजी ने यह आशीर्वादरूपी मार्गदर्शन किया ।

 

धर्मनिरपेक्षता के नामपर भारत में लोकतंत्र की
पराजय हो रही है ! – सुनील घनवट, हिन्दू जनजागृति समिति

आज देश में धर्मनिरपेक्षता के नामपर हिन्दुओं के साथ अन्याय हो रहा है, तो अल्पसंख्यकों को लाभ मिल रहे हैं । बहुसंख्यक हिन्दुओं के देश में पहले हिन्दुओं का विचार नहीं होता । गोरक्षकों को कारावास और गोहत्या करनेवाले खुलेआम, यह आज की स्थिति है । कन्हैय्याकुमार जैसे लोग जब देशविरोधी घोषणाएं करते हैं, तब उसे अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता कहा जाता है; परंतु कुछ महिनोंपूर्व मेघालय उच्च न्यायालय के न्यायाधीश सुधीर रंजन सेन जब भारत को इस्लामी राष्ट्र की दिशा में न ले जाएं, ऐसा कहते हैं, तब उन्हें धर्मांधों के विरोध के चलते अपना वक्तव्य वापस लेना पडता है, यह लोकतंत्र की पराजय है ।

देश के ८ राज्यों में हिन्दू अल्पसंख्यक बनने की स्थिति में हैं । नेपाल का मुसलमान समुदाय ‘नेपाल को पहले जैसा हिन्दू राष्ट्र घोषित करें’ की मांग कर हा है; क्योंकि नेपाल जब हिन्दू राष्ट्र था, तब वहां किसी को कोई समस्या नहीं थी । आज नेपाल में हिन्दुओं को अन्य पंथियों से कष्ट सहन करना पड रहा है । ऐसे श्री. घनवटजी ने कहाँ ।

स्रोत : दैनिक सनातन प्रभात