सनातन की कोर्ट ट्रायल नहीं, अपितु मिडिया ट्रायल चालू ! – अभय वर्तक, सनातन संस्था

सनातन पर हो रहे अन्याय के विरुद्ध पुणे एवं अन्य स्थान पर विशाल निषेध मोर्चा !

pune_patrakar_parishad1-768x363
बाईं ओर से सर्कश्री आनंद दवे, अभय वर्तक एवं पराग गोखले

पुणे : डॉ. नरेंद्र दाभोलकर एवं कॉ. पानसरे की हत्या प्रकरण में सनातन के निर्दोष साधकों को बंदी बनाया गया । पुुरोगामियों के दबाव में आकर सनातन के साधकों को अकारण फंसा कर उनका जीवन उद्ध्वस्त किया जा रहा है । पानसरे हत्या प्रकरण में बंदी बनाए गए सनातन के साधक श्री. समीर गायकवाड पर लगाया अभियोग चालू करने की मांग करनेपर भी वह चालू नहीं किया जाता । सनातन को अकारण अपराधी के कटघरे मे खडा किया जा रहा है । आज सनातन की कोर्ट ट्रायल नहीं, अपितु मिडिया ट्रायल चालू है । सनातन संस्था पर अन्याय के विरुद्ध २० अगस्त को विशाल पदफेरी का आयोजन किया गया है । सनातन संस्था के प्रवक्ता श्री. अभय वर्तक ने ऐसा प्रतिपादित किया । इस पदफेरी की जानकारी देने हेतु १९ अगस्त को यहां के होटल ’साहिल’ में आयोजित पत्रकार परिषद में वे बोल रहे थे । इस अवसर पर अखिल भारतीय ब्राह्मण महासंघ के जिलाध्यक्ष श्री. आनंद दवे एवं हिन्दू जनजागृति समिति के श्री. पराग गोखले उपस्थित थे ।

श्री. अभय वर्तक ने आगे कहा..

१. डॉ. दाभोलकर हत्याप्रकरण में सनातन के साधक डॉ. तावडे को बंदी बना कर ६० दिन हो रहे हैं, फिर भी अभी तक अन्वेषण तंत्र उनके विरुद्ध कोई दृढ प्रमाण प्रस्तुत नहीं कर सके ।

२. केंद्रीय अन्वेषण विभाग के अधिकारियों द्वारा प्रसारमाध्यमों को निराधार समाचार दिए गए ।

३. कॉ. पानसरे हत्या प्रकरण में भी श्री. समीर गायकवाड पर लगाया अभियोग चालू करने के लिए पानसरे परिवार की ओर से कुछ न कुछ कारण बता कर विरोध किया जा रहा है । यह सनातन के निर्दोष साधकों को कारागृह में बेकार रखने का षडयंत्र है ।

४. डॉ. दाभोलकर एवं कॉ. पानसरे की हत्या का अन्वेषण करने में अन्वेषण तंत्र असफल सिद्ध हुए हैं । इस असफलता को छिपाने के लिए ही सनातन के साधकों को इस प्रकरण में फंसाया जा रहा है ।

५. यद्यपि ऐसा है, फिर भी सनातन को वारकरी संप्रदाय, योग वेदांत समिति, हिन्दू एकता आंदोलन, पनून कश्मीर, श्री शिवप्रतिष्ठान हिन्दुस्थान, गोरक्षा समिति आदि संगठनों का दृढ समर्थन है एवं सनातन पर होनेवाले अन्याय के संदर्भ में जनक्षोभ फैला है । इसे व्यक्त करने हेतु ही पुणे में पदफेरी का आयोजन किया गया है ।

६. सनातन के निर्दोष साधकों का छल रोकने तथा डॉ. दाभोलकर के न्यास के आर्थिक घोटाले एवं विदेश से अवैधानिक रूप से आनेवाले निधि के कारण दाभोलकर की हत्या हुई है क्या ? इस की विस्तृत जांच करने की मांग शासन को की जाएगी ।

साप कह भूमि की पीटाई करने के कांड को रोकें ! – आनंद दवे

श्री. आनंद दवे ने कहा कि, सनातन संस्था के साधकों को दाभोलकर एवं पानसरे हत्या प्रकरण में बंदी बनाया गया; परंतु अब तक उनके विरुद्ध एक भी दृढ प्रमाण नहीं पाया गया । दाभोलकर परिवारजनों द्वारा इस अन्वेषण को दिशा देने का प्रयास किया जा रहा है । साप कह कर भूमि को पीटने का ही यह कांड है । यह रुकना चाहिए । सनातन संस्था को हमारा पूरा समर्थन है ।

सनातन पर अन्याय के विरुद्ध पदफेरी में विविध हिंदुत्वनिष्ठ संगठन सम्मिलित होंगे !

२० अगस्त को पुणे के बाजीराव मार्ग पर महाराणा प्रताप उद्यान से सवेरे ८ बजे निषेध फेरी को आरंभ होगा । तदुपरांत बाजीराव रस्ता, लक्ष्मी रस्ता, शगून चौक एवं श्री ओंकारेश्वर मंदिर से शनिवारवाडा ऐसा मार्गक्रमण करते हुए ग्रामदैवत श्री कसबा गणपति मंदिर की ओर इस पद फेरी का समापन होगा । इस फेरी में सनातन संस्था के प्रवक्ता श्री. अभय वर्तक के साथ विविध हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों के प्रतिनिधि उपस्थित रहेंगे ।

२० अगस्त को सोलापुर, कोल्हापुर, सांगली एवं सातारा तथा २१ अगस्त को मुुंबई में भी हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों की ओर से निषेध फेरियां एवं आंदोलन आयोजित किए जाएंगे ।

इस पदफेरी में अधिकाधिक हिन्दुत्वनिष्ठों को सम्मिलित होने का आवाहन किया गया है ।

स्त्रोत : दैनिक सनातन प्रभात