रामनाथी (गोवा) के सनातन आश्रम में मंगलमय वातावरण में संपन्न हुआ श्री भवानीदेवी प्राणप्रतिष्ठापना समारोह

सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके ।
शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते ॥

सनातन संस्था को प्राप्त हुई श्री भवानीदेवी की कृपाशक्ति !

रामनाथी, गोवा : आदिशक्ति श्री भवानीदेवी भक्तों की रक्षणकर्त्री तथा वरदायिनी हैं । उनके आशीर्वाद से छत्रपति शिवाजी महाराज ने हिन्दवी स्वराज्य की स्थापना की । छत्रपतिजी के स्वराज्य की भांति ही हिन्दू राष्ट्र की शीघ्रातिशीघ्र स्थापना हो; इसके लिए हंगरहळ्ळी (तहसील कुणीगल कर्नाटक) स्थित श्री विद्याचौडेश्‍वरीदेवी की आज्ञा से यहां के सनातन के आश्रम में मंगलमय वातावरण में श्री भवानीदेवी की स्थापना की गई । १९ जनवरी को सनातन आश्रम में देवी का शुभागमन हुआ ।

श्री भवानीदेवी की मूर्ति को दर्भ लगाकर उनकी प्राणप्रतिष्ठा करती हुईं सद्गुरु (श्रीमती) बिंदा सिंगबाळजी

२१ जनवरी की सुबह मंत्रघोष की गूंज में आश्रम परिसर में स्थित मंदिर में श्री भवानीदेवी की स्थापना कर प्रतिष्ठापना की गई । अत्यंत शारीरिक कष्ट होते हुए भी परात्पर गुरु डॉ. आठवलेजी भी इस अवसरपर उपस्थित थे । उन्होंने मंदिर में स्थापितमूर्तिपर अक्षताएं समर्पित कीं ।

स्थापना के पश्‍चात तत्त्व होम, तत्त्व न्यास (श्री भवानीदेवी की मूर्ति में देवताओं के तत्त्व को स्थापन करने की विधि) आदि विधि किए गए । उसके पश्‍चात श्री भवानीदेवी की मंगलआरती की गई । पूर्णाहूति देकर श्री भवानीदेवी की मूर्ति की प्रतिष्ठापना के भावसमारोह का समापन हुआ ।

इस अवसरपर पानवळ (बांदा, महाराष्ट्र) के संत प.पू. दास महाराज, उनकी पत्नी पू. (श्रीमती) लक्ष्मी (माई) नाईकजीसहित सनातन संस्था एवं एस्.एस्.आर्.एफ्. (स्पिरिच्युयल साईन्स रिसर्च फाऊंडेशन) के संत एवं साधक उपस्थित थे ।

स्त्रोत : दैनिक सनातन प्रभात