मदिरा की एक घूंट से भी कर्करोग को आमंत्रण ! – शोध से प्राप्त निष्कर्ष

इस शोध के पश्‍चात अब केंद्र सरकार को जनहित को ध्यान में लेकर संपूर्ण भारत में मदिराबंदी लागू करे, यह अपेक्षा !

टोकियो (जपान) : यदि आप को लगता है कि दिन में एक बार मदिरा के १-२ घूंट कोई हानि नहीं पहुंचाएंगे, तो यह विचार गलत है । जपान के शोधकर्ताओं को यह ध्यान में आया है कि अत्यंत अल्प मात्रा में मदिरा पीने से भी कर्करोग हो सकता है । १० वर्षोंतक प्रतिदिन एक घूंट अथवा ५ वर्षोंतक प्रतिदिन २ घूंट मदिरा लेने  से कर्करोग का संकट ५ प्रतिशत तक बढेगा ।

१. ‘कर्करोग’नामक शोधपत्र में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार कुल मिलाकर मदिरा के शून्य सेवन से कर्करोग का खतरा न्यून होता है, ऐसा दिखाई दिया । मदिरासेवन के कारण मनुष्यशरीरपर होनेवाले दुष्परिणाम और उससे किस प्रकार का कर्करोग हो सकता है, इस संदर्भ में इस पत्रिका में प्रकाश डाला गया है ।

२. इस शोध दल ने कर्करोग से ग्रस्त ६३ सहस्र २३२ लोगों की जांच की, साथ ही उन सभी का लिंग, आयु, चिकित्सालय में प्रविष्ट होने का दिनांक आदि सूत्रों का व्यापक अध्ययन किया । इसके लिए जपान के ३३ सामान्य चिकित्सालयों से यह जानकारी इकट्ठा की गई । इन सभी रोगियों द्वारा वे कितनी अवधि में औसद कितनी मदिरा लेते हैं, इसकी प्रविष्टि की गई और उसके आधारपर किए गए अध्ययन से यह निष्कर्ष निकाला गया ।

स्रोत : दैनिक सनातन प्रभात