अर्पणदाताओं, गुरुपूर्णिमा के उपलक्ष्य में धर्मकार्य हेतु धन अर्पित कर गुरुतत्त्व का लाभ उठाएं !

 

‘५ जुलाई को गुरुपूर्णिमा है । गुरु के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का यह दिवस शिष्य के लिए अविस्मरणीय होता है । इस दिन गुरुदेवजी का कृपाशिर्वाद तथा उनसे प्रक्षेपित होनेवाला शब्दातीत ज्ञान सामान्य की अपेक्षा सहस्रों गुना अधिक कार्यरत होता है । अतः गुरुपूर्णिमा के उपलक्ष्य में गुरुसेवा एवं धन का त्याग करनेवाले व्यक्ति को गुरुतत्त्व का सहस्रों गुना लाभ होता है ।

 

१. शिष्य के जीवन में गुरु का महत्त्व !

निर्गुण परमेश्‍वर का पृथ्वीतलपर कार्यरत सगुण रूप हैं गुरु ! गुरु शिष्य को ज्ञान प्रदान कर उसकी पारमार्थिक उन्नति होने हेतु अखंड परिश्रम उठाते हैं । इसलिए शिष्य के लिए गुरु के बिना अन्य कोई उपाय नहीं होता । शिष्य को गुरु को सबकुछ अर्पित कर उनकी सेवा करना, यही वास्तविक गुरुदक्षिणा होती है । उसके कारण शिष्यपर गुरुकृपा का प्रवाह अविरत बना रहता है ।

 

२. गुरुपूर्णिमा के उपलक्ष्य में गुरुकार्य हेतु अर्थात धर्मकार्य हेतु अर्पण दें !

इस गुरुपूर्णिमा के उपलक्ष्य में तन, मन एवं धन का अधिकाधिक त्याग कर गुरुदेवजी के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने का अवसर सभी को प्राप्त हुआ है । अतः जिज्ञासु, साथ ही हितचिंतक धर्मप्रसार का कार्य करना तथा उसके लिए धन अर्पित कर गुरुपूर्णिमा का आध्यात्मिक स्तरपर लाभ उठाएं ।

आजकल धर्मग्लानि का समय होने से ‘धर्मप्रसार का कार्य करना’, सर्वश्रेष्ठ अर्पण है । इसलिए धर्मप्रसार का कार्य करनेवाले संत, संस्था एवं संगठनों के कार्य हेतु धन का दान देना, काल के अनुसार आवश्यक है । सनातन संस्था अत्यंत निस्वार्थभाव से विगत अनेक वर्षों से यह कार्य कर रही है । इसलिए अर्पणदाताओं द्वारा सनातन संस्था को दिए जानेवाले अर्पण का विनियोग निश्‍चितरूप से धर्मकार्य हेतु ही होनेवाला है ।

अर्पण देने के इच्छुक व्यक्ति श्रीमती भाग्यश्री सावंत से  ७०५८८८५६१० क्रमांकपर अथवा [email protected] इस संगणकीय पतेपर संपर्क करें ।

गुरुपूर्णिमा हेतु घरबैठे ‘ऑनलाईन’ अर्पण देने की सुविधा भी उपलब्ध है । उसके लिए https://www.sanatan.org/en/donate मार्गिकापर जाएं !’

– श्री. वीरेंद्र मराठे, व्यवस्थापकीय न्यासी, सनातन संस्था.

Leave a Comment