अक्षय तृतीया : साढे तीन शुभ मुहूर्तों में से एक !

साढे तीन मुहुूर्तों में से एक पूर्ण मुहूर्त ‘अक्षय तृतीया’ पर तिलतर्पण करना, उदकुंभदान (उदककुंभदान) करना, मृत्तिका पूजन तथा दान करने का प्रघात है । इसका अध्यात्मशास्त्रीय आधार समझ लेते हैं । धर्म द्वारा प्रस्तुत लेख में बताया यह अध्यात्मशास्त्र सामान्य काल के लिए है । सबकुछ अनुकूल है एवं धर्म के अनुसार आचरण कर सकें, यह ‘संपत्काल ’ है ।

यहां एक महत्त्वपूर्ण सूत्र यह है कि हिन्दू धर्म ने आपातकाल के लिए धर्माचरण में  कुछ पर्याय बताए हैं । इसे ‘आपद्धर्म’ कहते हैं । आपद्धर्म अर्थात ‘आपदि कर्तव्यो धर्मः ।’ इसका अर्थ है, आपदा में आचरण किया जानेवाला धर्म । वर्तमान में कोरोना प्रादुर्भाव की पृष्ठभूमि पर पूरे देश में लॉकडाउन है । इसी काल में अक्षय तृतीया आ रही है, इसलिए संपत्काल में बताए कुछ धार्मिक कृत्य इस समय हम नहीं कर पाएंगे । इस दृष्टि से प्रस्तुत लेख में धर्माचरण के रूप में क्या कर सकते हैं, इसका विचार भी किया गया है । यहां महत्त्वपूर्ण सूत्र यह है कि हिन्दू धर्म ने किस स्तर तक जाकर मानव का विचार किया है, यह सीखने के लिए मिलता है । इससे हिन्दू धर्म की एकमेवाद्वितीयता ध्यान में आती है ।

१ अ. तिथि

‘वैशाख शुक्ल पक्ष तृतीया’

अक्षय्य तृतीया से सम्बन्धित व्हिडिओ 

१ आ. महत्त्व

१. ‘अक्षय तृतीया’ कृतयुग अथवा त्रेतायुगका आरंभदिन है ।

२. अक्षय तृतीया की संपूर्ण अवधि, शुभ मुहूर्त ही होती है । इसलिए, इस तिथिपर धार्मिक कृत्य करनेके लिए मुहूर्त नहीं देखना पडता ।

३. इस तिथि पर हयग्रीव अवतार, नरनारायण प्रकटीकरण तथा परशुराम अवतार हुए हैं ।

४. इस तिथि पर ब्रह्मा एवं श्रीविष्णु की मिश्र तरंगें उच्च देवता लोकों से पृथ्वी पर आती हैं । इससे पृथ्वीपर सात्त्विकता की मात्रा १० प्रतिशत बढ जाती है । इस कालमहिमा के कारण इस तिथिपर पवित्र नदियों में स्नान, दान आदि धार्मिक कृत्य करने से अधिक आध्यात्मिक लाभ होते हैं ।

५. इस तिथि पर देवता-पितर के निमित्त जो कर्म किए जाते हैं, वे संपूर्णतः अक्षय (अविनाशी) होते हैं । (संदर्भ : ‘मदनरत्न’)

 

१ इ. अक्षय तृतीया पर करने योग्य कृत्य

१ इ १. पवित्र जल में स्नान

अक्षय तृतीया के दिन पवित्र जल में स्नान करें । हो सके तो तीर्थक्षेत्र जाकर स्नान करें अन्यथा बहते पानी में स्नान करें । किसी कारणवश यह संभव नहीं है, तो घर में स्नान करते समय हम पवित्र नदियों के जल से ही स्नान कर रहे हैं, यह भाव रखकर जाप करें ।

 

१ इ २. श्रीविष्णुपूजा, जप एवं होम

अक्षय तृतीया के दिन सातत्य से सुख-समृद्धि देनेवाले देवताओं के प्रति कृतज्ञता भाव रखकर उनकी उपासना करने से हम पर उन देवताओं की होनेवाली कृपा का कभी भी क्षय नहीं होता । इस दिन कृतज्ञता भाव से श्रीविष्णु सहित वैभवलक्ष्मी की प्रतिमा का पूजन करें । इस दिन होमहवन एवं जप-जाप करने में समय व्यतीत करें ।
प्रसिद्ध तीर्थ स्थल बद्रीनारायण के कपाट भी इसी तिथि से पुनः खुलते हैं ।

 

१ इ २ अ. अक्षय तृतीया के दिन श्रीविष्णु का तत्त्व
आकर्षित एवं प्रसारित करनेवाली साति्त्वक रंगोलियां बनाना

विष्णुतत्त्वके स्पंदन आकर्षित एवं प्रक्षेपित करनेवाली रंगोलियां :

 

१ इ ३. तिलतर्पण

तिल-तर्पण का अर्थ है, देवताओं एवं पूर्वजों को तिल एवं जल अर्पण करना । तर्पण का अर्थ है, देवता एवं पूर्वजों को जलांजलि; अर्थात अंजुली से जल देकर उन्हें तृप्त करना ।
पितरों के लिए दिया हुआ जल ही पितृतर्पण कहलाता है । पूर्वजों को अपने वंशजों से पिंड एवं ब्राह्मणभोजन की अपेक्षा रहती है, उसी प्रकार उन्हें जल की भी अपेक्षा रहती है । तर्पण करने से पितर संतुष्ट होते हैं । तिल सात्त्विकता का, तो जल शुद्ध भाव का प्रतीक है । देवताओं को श्‍वेत एवं पूर्वजों को काले तिल अर्पण करते हैं । काले तिल द्वारा प्रक्षेपित रज-तमात्मक तरंगों की सहायता से पृथ्वी पर अतृप्त लिंगदेह उनके लिए की जा रही विधि के स्थान पर सहज ही आ सकती हैं एवं विधि में से सहजता से अपना अंश ग्रहण कर वे तृप्त होती हैं ।

१ इ ४. दान

अ. अक्षय तृतीया के दिन दिए गए दान का कभी क्षय नहीं होता ।

आ. अक्षय तृतीया के दिन पितरों के लिए आमान्न अर्थात दान दिए जाने योग्य कच्चा अन्न, उदककुंभ; अर्थात जल भरा कलश, ‘खस’ का पंखा, छाता, पादत्राण अर्थात जूते-चप्पल आदि वस्तुओं का दान करने के लिए पुराणों में बताया है ।

१ इ ४ अ. सुपात्र व्यक्ति को क्यों दान करना चाहिए ?

अक्षय तृतीया के दिन किए दान से व्यक्ति के पुण्य का संचय बढता है । पुण्य के कारण व्यक्ति को स्वर्गप्राप्ति हो सकती है; परंतु स्वर्गसुख का उपभोग करने के उपरांत पुनः पृथ्वी पर जन्म लेना पडता है । मनुष्य का अंतिम ध्येय ‘पुण्यप्राप्ति कर स्वर्गप्राप्ति करना’ ही नहीं; अपितु ‘पाप-पुण्य के परे जाकर ईश्‍वरप्राप्ति करना’ होता है । इसलिए मनुष्य को सत्पात्रे दान करना चाहिए । सत्पात्र व्यक्ति को दान करने पर यह कर्म ‘अकर्म कर्म’ (अर्थात पाप-पुण्य का नियम लागू नहीं होता) हो जाता है तथा ऐसा करने से मनुष्य की आध्यात्मिक उन्नति होती है, अर्थात वह स्वर्गलोक में न जाकर उच्चलोक में जाता है ।

संत, धार्मिक कार्य करनेवाले व्यक्ति, समाज में धर्मप्रसार करनेवाली आध्यात्मिक संस्था तथा राष्ट्र एवं धर्म जागृति करनेवाले धर्माभिमानी को दान करें, कालानुरूप यही सत्पात्रे दान है ।

अक्षय तृतीया के दिन उदक कुंभ दान एवं तिल-तर्पण के साथ ही कुछ और भी कृतियां की जाती हैं । जैसे, अक्षय तृतीया के शुभ अवसर पर बीज बोए जाते हैं । इस दिन मृत्तिका पूजन, वृक्षारोपन आदि किया जाता है । साथ ही इस दिन से कुछ जगह प्याऊ खोले जाते हैं ।

महाराष्ट्र में अक्षय तृतीया का दिन महिलाओं के लिए विशेष महत्त्व रखता है । चैत्र शुक्ल तृतीया के दिन महिलाएं प्रतिष्ठापित चैत्र गौरी का विसर्जन करती हैं । चैत्र शुक्ल तृतीया से वैशाख शुक्ल तृतीया तक किसी मंगलवार, शुक्रवार अथवा किसी शुभदिन पर वे हल्दी-कुमकुम का स्नेहमिलन करती हैं ।

१ इ ५. मृत्तिकापूजन, मिट्टी को जैविक बनाना (केंचुआ उत्पन्न करना), बीज बोना एवं वृक्षारोपण

अक्षय तृतीयाके मुहूर्तपर बीज बोएं !
अक्षय तृतीयाके मुहूर्तपर बीज बोएं !

‘चैत्र शुक्ल पक्ष प्रतिपदा’ तिथि स्वयं में एक शुभमुहूर्त है । इस दिन खेत जोतना और उसकी निराई का कार्य अक्षय तृतीया तक पूरा करना चाहिए । निराई के पश्चात, अक्षय तृतीया के दिन खेत की मिट्टी की कृतज्ञता भाव से पूजा करनी चाहिए । इसके पश्चात, पूजित मिट्टी को जैविक बनाकर उसमें बीज बोएं । अक्षय तृतीया के मुहूर्त पर बीज बोने को आरंभ करने से उस दिन वातावरण में सक्रिय दैवी शक्ति बीज में आ जाती है । इस से कृषि-उपज बहुत अच्छी होती है । इसी प्रकार से अक्षय तृतीया के दिन फल के वृक्ष लगाने पर वे अधिक फल देते हैं ।

 

१ इ ६. हलदी-कुमकुम

हलदी-कुमकुम
हलदी-कुमकुम

स्त्रियों के लिए यह दिन महत्त्वपूर्ण होता है । चैत्र मास में स्थापित चैत्रगौरी का इस दिन विसर्जन करना होता है । इस निमित्त वे हलदी-कुमकुम (एक प्रथा) भी करती हैं ।’

संदर्भ : सनातन – निर्मित ग्रंथ ‘त्यौहार, धार्मिक उत्सव एवं व्रत’

 

२. आपदा में धर्म का आचरण कैसे करें ?

वर्तमान काल में हम घर से बाहर नहीं जा सकते । इस अनुषंग से आपद्धर्म के भाग के रूप में आगे दिए कृत्य कर सकते हैं –

१. पवित्र स्नान : हम घर में ही गंगा का स्मरण कर स्नान करें, तो गंगास्नान का हमें लाभ होगा । इसलिए आगे दिए श्‍लोक का उच्चारण कर स्नान करें :

गंगेच यमुने चैव गोदावरी सरस्वती |
नर्मदे सिंधु कावेरी जलेस्मिन सन्निधि कुरु ||

२. सत्पात्र को दान : वर्तमान में विविध ऑनलाइन सुविधाएं उपलब्ध हैं । अतः अध्यात्मप्रसार करनेवाले संतों अथवा ऐसी संस्थाआें को हम ऑनलाइन अर्पण कर सकते हैं । घर से ही अर्पण दिया जा सकता है ।

३. उदकुंभ का दान : शास्त्र है कि अक्षय तृतीया के दिन उदकुंभ दान करें । इस दिन यह दान करने के लिए बाहर जाना संभव न होने के कारण अक्षय तृतीया के दिन दान का संकल्प करें एवं शासकीय नियमों के अनुसार जब बाहर जाना संभव होगा, तब दान करें ।

४. पितृतर्पण : पितरों से प्रार्थना कर घर से ही पितृतर्पण कर सकते हैं ।

५. कुलाचारानुसार अक्षय तृतीया पर किए जानेवाले धार्मिक कृत्य : उपरोक्त कृत्यों के अतिरिक्त कुलाचारानुसार अक्षय तृतीया पर कुछ अन्य धार्मिक कृत्य करते हों, तो देख लें कि वे वर्तमान शासकीय नियमों में बैठते हैं न ।

 

Leave a Comment