कल्याण (ठाणे) के श्री सद्गुरु स्वामी समर्थ सेवा ट्रस्ट के मठाधिपति श्री. अरुण सीताराम मोडक महाराज तथा उनके शिष्यों द्वारा रामनाथी (गोवा) के सनातन आश्रम का अवलोकन !

श्री. अरुण मोडक महाराज (दाहिनी ओर) को सम्मानित करते हुए श्री. प्रकाश मराठे

रामनाथी (गोवा) : कल्याण (जनपद ठाणे) के सद्गुरु श्री सद्गुरु स्वामी समर्थ सेवा ट्रस्ट के मठाधिपति श्री. अरुण सीताराम मोडक महाराज तथा उनके शिष्यों ने १ अप्रैल को रामनाथी (गोवा) के सनातन आश्रम का अवलोकर किया । इस अवसरपर उन्होंने राष्ट्र एवं धर्म के विषय में, साथ ही आध्यात्मिक शोधकार्य के कार्य को जानकर लिया । सनातन के साधक डॉ. दुर्गेश सामंत ने उन्हें आश्रम में चल रहे कार्य की जानकारी दी । सनातन संस्था के ६४ प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर प्राप्त साधक श्री. प्रकाश मराठे ने श्री. अरुण मोडक महाराज को माल्यार्पण कर सम्मानित किया । भांडुप में हाल ही में संपन्न दैनिक सनातन प्रभात की वर्षगांठ के समारोह में भी महाराज अपने शिष्यों के साथ उपस्थित थे ।

 

श्री. अरुण मोडक महाराज द्वारा व्यक्त अभिप्राय

साधकों की साधना अच्छी चल रही है !

श्री. अरुण मोडक महाराज ने कहा, ‘‘सनातन आश्रम में सर्वत्र अनुशासन, शांति और स्वच्छता है । यहां के सेवक (साधक) बिना किसी वेतन के सेवा कर रहे हैं । यहां के सेवकों (साधक) के मुखपर शांति है, दुख नहीं है ! इससे ही यह ध्यान में आता है कि इन साधकों की साधना अच्छी चल रही है । ऐसे स्थानोंपर ही ईश्‍वर का निवास होता है ।’’

सनातन आश्रम में विद्यमान सात्त्विक तरंगों
का समस्त विश्‍व को लाभ हो ! – श्री. अरुण महाराज मोडक

इस अवसरपर श्री. अरुण मोडक महाराज ने कहा, ‘‘आश्रम आनेपर प्रसन्नता प्रतीत हुई । यहां बडी मात्रा में सात्त्विक तरंगें हैं । इन तरंगों का विश्‍व को लाभ मिले । आज अनेक हिन्दू धर्मी दुखी हैं । हिन्दुओं द्वारा अपनी संस्कृति, संस्कार और धर्म का जतन नहीं किया जाता । मनुष्य आज मन से अपाहिज बन गया है । हिन्दुओं ने ‘मन को किसकी आवश्यकता है, इसे प्राप्त करने का प्रयास नहीं किया । मन को शांति एवं संतुष्टि की आवश्यकता होती है । सनातन संस्था मन को आवश्यक धर्मसंस्कार प्रदान करती है । सनातन संस्था के कार्य के लिए मेरे आशीर्वाद हैं ।’’

स्रोत : दैनिक सनातन प्रभात