‘सनातन संस्था सनातन धर्म में विद्यमान समस्त पद्धतियों का अच्छा व्यवस्थापन कर रही है ! ’ – जगद्गुरु श्री रामानंदाचार्य स्वामी श्री राम राजेश्‍वराचार्य

१. जगद्गुरु श्री रामानंदाचार्य स्वामी श्री राम राजेश्‍वराचार्य को सनातन के सात्त्विक उत्पादों की जानकारी देते हुए २. सद्गुरु (डॉ.) चारुदत्त पिंगळेजी

प्रयागराज (कुंभनगरी, उत्तर प्रदेश) : कुंभपर्व में सनातन की प्रदर्शनी देखकर बहुत अच्छा लगा । इस प्रदर्शनी में सनातनी ग्रंथों का एकत्रीकरण कर लोगों को संगठित करने के प्रयास किए गए हैं । सनातन धर्म क्या है, उसकी पद्धतियां, प्रेरणा और दिशा क्या है, यह आप इस प्रदर्शनी के माध्यम से बता रहे हैं । यहां आने के पश्‍चात मुझे इसकी अनुभूति हुई कि सनातन संस्था सनातन धर्म में विद्यमान समस्त पद्धतियों का व्यवस्थापन कर उसे चला रही है । इस कार्यप्रणाली के लिए मेरी शुभकामनाएं ! महाराष्ट्र के अमरावती जनपद के कौंडण्यपुर के श्री रुक्मिणी पीठ के श्री अनंद विभूषित जगद्गुरु श्री रामानंदाचार्य स्वामी श्री राम राजेश्‍वराचार्य (माऊली सरकार) ने १० फरवरी को ऐसा प्रतिपादित किया ।

कुंभनगरी में सनातन संस्था एवं हिन्दू जनजागृति समिति की ओर से आयोजित ग्रंथ एवं धर्मशिक्षा फलक प्रदर्शनी के अवलोकन के पश्‍चात वे ऐसा बोल रहे थे । इस अवसरपर हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक (डॉ.) चारुदत्त पिंगळेजी ने उन्हें हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा प्रकाशित ‘देवनंदी गंगा की रक्षा करें !’ ग्रंथ भेंट कर सम्मानित किया । इस अवसरपर समिति के उत्तर-पूर्व भारत मार्गदर्शक पू. नीलेश सिंगबाळजी, समिति के महाराष्ट्र एवं छत्तीसगढ राज्यों के संगठक श्री. सुनील घनवट तथा सनातन संस्था के राष्ट्रीय प्रवक्ता श्री. चेतन राजहंस उपस्थित थे । इस अवसरपर जगद्गुरु श्री रामानंदाचार्य स्वामी श्री राम राजेश्‍वराचार्यजी ने राष्ट्र एवं धर्म के विषयपर चर्चा की ।

स्रोत : दैनिक सनातन प्रभात