Category Archives: आपातकाल में संजीवनी

प्राणशक्ति (चेतना) प्रणाली में अवरोध के कारण होनेवाले विकारों पर उपाय

आपातकाल का सामना करने की तैयारी के एक भाग के रूप में सनातन संस्था ने आपातकाल में संजीवनी समान प्रभावी ग्रंथमाला प्रकाशित की है । इस ग्रंथमाला से सीखी गईं उपचारपद्धतियां केवल आपातकाल की दृष्टि से नहीं, अपितु अन्य समय भी उपयोगी हैं । इस ग्रंथमाला के नूतन ग्रंथ, प्राणशक्ति (चेतना) प्रणाली में अवरोधसे उत्पन्न होनेवाले विकारों पर उपाय से परिचय करवा रहे हैं ।..
प्राणशक्ति (चेतनाशक्ति) मनुष्य के लिए जीवनदायिनी होती है । मनुष्य के हाथ की पांच उंगलियां – पृथ्वी, आप, तेज (प्रकाश), वायु और आकाश, इन पांच तत्त्वों की प्रतिनिधि हैं । उंगलियों से मुद्रा बनाकर उससे शरीर के कुंडलिनीचक्रों पर अथवा विविध अवयवों पर न्यास करना, प्राणशक्ति (चेतना) प्रणाली उपचार-पद्धति का एक भाग है ।..

Read More »
आगामी आपातकाल की संजीवनी : सनातन की ग्रंथमाला !

आगामी आपातकाल की संजीवनी : सनातन की ग्रंथमाला !

आगामी महायुद्धकाल में चिकित्सा-सुविधाएं दुर्लभ होंगी, तब इस ग्रंथमाला का महत्त्व समझ में आएगा ! समाज की सहायता हेतु आगामी आपातकाल की संजीवनी का प्रचार अत्यावश्यक !

Read More »