Category Archives: हिन्दू अधिवेशन

‘हिन्दुत्व’ का कार्य करते समय ‘साधना का अधिष्ठान’ अत्यावश्यक ! – सद्गुरु (कु.) स्वाती खाडयेजी

भविष्य में ‘हिन्दू राष्ट्र’ तो आनेवाला ही है; इसलिए हमें ‘हिन्दू राष्ट्र’ के केवल ‘साक्षी’ नहीं, अपितु ‘भागीदार’ बनने हेतु प्रयास करने हैं। श्री. मनोज खाड्ये ने ‘हिन्दुओं की सभी समस्याओं का उपाय’ इस विषय पर बोलते हुए ऐसा मार्गदर्शन किया।

Read More »

आधुनिकतावादियों, यदि आप हिन्दुओं का आवाज दबाने की कोशिश करोगे, तो कडी प्रतिक्रिया उमड पडेगी – अधिवक्ता श्री. संजीव पुनाळेकर, हिन्दू विधीज्ञ परिषद

यदि इन पुरोगामियों ने सनातन संस्था की अपकीर्ति करना नहीं रोका, कष्ट देना नहीं रोका तो अब हिन्दू शांति से नहीं बैठनेवाले ! पुरोगामियों ने यह बात ध्यान में रखनी चाहिए कि, यदि वे हिन्दुओं का आवाज दबाएंगे, तो इसकी कड़ी से कड़ी प्रतिक्रिया उमड पड़ेगी !’

Read More »

यदि हिन्दुओं के आडे आये, तो ‘जैसे को तैसा’ प्रत्युत्तर देंगे – कोल्हापुर के, ‘हिन्दू एकता’ मेले में हिन्दुत्वनिष्ठों की चेतावनी !

पुरोगामी संगठनोंद्वारा सनातन संस्था पर आरोप लगाए जा रहे हैं एवं प्रतिबंध लगाने की मांग भी की जा रही है। यदि इस पार्श्वभूमि पर धर्मनिष्ठ सनातन संस्था के साथ हो रहे छल को नहीं रोका गया, तो अब हम शांत नहीं बैठेंगे। यदि हिन्दुओं के आड़े आये, तो ‘जैसे को तैसा’ प्रत्युत्तर दिया जाएगा !

Read More »
सभी ​हिन्दुत्वनिष्ठ साधना करें तो वे, निश्‍चित रूप से सफल होंगे – पू. नंदकुमार जाधव, सनातन संस्था

सभी ​हिन्दुत्वनिष्ठ साधना करें तो वे, निश्‍चित रूप से सफल होंगे – पू. नंदकुमार जाधव, सनातन संस्था

…सनातन के संत पू. नंदकुमार जाधवजी ने ऐसा अपने मार्गदर्शन में कहा । वे भुसावळ में हिन्दू जनजागृति समितिद्वारा आयोजित तहसिल स्तरीय हिन्दू अधिवेशन को संबोधित कर रहे थे।

Read More »

‘हिन्दू राष्ट्र’ स्थापित करने हेतु पालघर में २८ अगस्त को जिलास्तरीय हिन्दू अधिवेशन !

गोवा में आयोजित अखिल भारतीय हिन्दूु अधिवेशन से प्रेरणा लेकर हिन्दू जनजागृति समिति एवं हिन्दू गोवंश रक्षा समिति की ओर से २८ अगस्त को नालासोपारा चावडीनाका के श्री महाकाली मंदिर के सभागृह में एकदिवसीय जिलास्तरीय हिन्दू अधिवेशन आयोजित किया गया है।

Read More »
हिन्दुत्वनिष्ठों के अधिवेशन में हुआ हिन्दू राष्ट्र की (सनातन धर्मराज्य की) स्थापना का वैचारिक मंथन !

हिन्दुत्वनिष्ठों के अधिवेशन में हुआ हिन्दू राष्ट्र की (सनातन धर्मराज्य की) स्थापना का वैचारिक मंथन !

नंदुरबार : आक्रमक इसिस द्वरा कल यदि भारत में इस्लामिक राष्ट्र की स्थापना की गई, तो हिन्दुआें को शरण लेने के लिए विश्‍व में अन्य कहीं पर भी हिन्दू राष्ट्र नहीं है । अतः हिन्दू राष्ट्र की (सनातन धर्मराज्य की) स्थापना करना अनिवार्य है । ये विचार हिन्दू जनजागृति समिति द्वारा आयोजित हिन्दू अधिवेशन में मान्यवरों द्वारा व्यक्त किए गए ।

Read More »
‘जागृत नेपाली संगठन’ और नेपाली हिन्दुआें की ओर से हिन्दू जनजागृति समिति और सनातन संस्था का सम्मान

‘जागृत नेपाली संगठन’ और नेपाली हिन्दुआें की ओर से हिन्दू जनजागृति समिति और सनातन संस्था का सम्मान

रामनाथी (गोवा) – नेपाल के हिन्दुआें की मांग है कि नेपाल को पुनः हिन्दू राष्ट्र घोषित किया जाए । अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन के माध्यम से देशभर के हिन्दुत्वनिष्ठों ने इस मांग को संपूर्ण समर्थन दिया है । जागृत नेपाली संगठन की ओर से हिन्दू राष्ट्र की स्थापना के लिए कार्यरत अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन की आयोजक संस्थाएं हिन्दू जनजागृति समिति और सनातन संस्था तथा भारत के समस्त हिन्दुत्वनिष्ठों का भगवान बुद्ध की मूर्ति देकर सम्मान किया गया । हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक पू.(डॉ.) चारुदत्त पिंगळेजी ने इस सम्मान का स्वीकार किया ।’

Read More »
पंचम अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन में श्रीलंका के श्री. मरवनपुलावू सच्चिदानंदनजी ने प्राप्त किया ६४ प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर

पंचम अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन में श्रीलंका के श्री. मरवनपुलावू सच्चिदानंदनजी ने प्राप्त किया ६४ प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर

रामनाथी (गोवा) – गत चतुर्थ अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन में श्रीलंका के हिन्दुआें की रक्षा के लिए लगन से कार्य करनेवालेे श्रीलंका के श्री. सच्चिदानंदनजी का ६१ प्रतिशत आध्यात्मिक स्तर घोषित किया गया था । पांचवे अधिवेशन में धर्मबंधुत्व की भावना रखनेवाले और वृद्धावस्था में भी हिन्दुआें की सुरक्षा के लिए कार्यरत श्री. सच्चिदानंदनजी का आध्यात्मिक स्तर ६४ प्रतिशत घोषित किया गया । हिन्दू जनजागृति समिति के राष्ट्रीय मार्गदर्शक पू.(डॉ.) चारुदत्त पिंगळेजी के करकमलों से पुष्पहार पहना कर और भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिमा भेंट देकर श्री. मरवनपुलावू सच्चिदानंदनजी का सत्कार किया गया ।

Read More »
साधनारहित राष्ट्रवाद खोखला और विनाश की ओर ले जानेवाला है – प्रा. रामेश्‍वर मिश्र, मार्गदर्शक, धर्मपाल शोध पिठ, मध्य प्रदेश

साधनारहित राष्ट्रवाद खोखला और विनाश की ओर ले जानेवाला है – प्रा. रामेश्‍वर मिश्र, मार्गदर्शक, धर्मपाल शोध पिठ, मध्य प्रदेश

रामनाथी (गोवा) – धर्म एवं साधना ही राष्ट्रवाद के लिए मूल हैं । जिस समाजव्यवस्था को देखने के पश्‍चात मन प्रसन्न एवं उल्हसित होता है, वह ‘राजनिति’ है । अब जो चल रहा है, वह राजनिति नहीं, अपितु पोलिटिक्स है । साधना के बिना होनेवाला राष्ट्रवाद विनाश की ओर ले जानेवाला है । एेसा प्रतिपादन मध्य प्रदेश के प्रा. रामेश्‍वर मिश्रजी ने यहां आयोजित पंचम अखिल भारतीय हिन्दू अधिवेशन में किया ।

Read More »
हिन्दुत्व पर हो रहे आघात रोकने के लिए संतों का संगठित होना आवश्यक – प.पू. श्रीराम बालकदासजी महात्यागी महाराज

हिन्दुत्व पर हो रहे आघात रोकने के लिए संतों का संगठित होना आवश्यक – प.पू. श्रीराम बालकदासजी महात्यागी महाराज

प.पू. श्रीराम बालकदासजी महात्यागी महाराज ने कहा, ‘‘हिन्दू जनजागृति समिति मेरे परिवार समान है । यहां मार्गदर्शन नहीं, चर्चा करने आया हूं ।’’

Read More »